World Sight Day 2020: आंखों को नुकसान पहुंचा सकती हैं ये आदतें, जानें क्या है '20-20-20' नियम

ऐसे करें आंखों की देखभाल

ऐसे करें आंखों की देखभाल

आंखों (Eyes) की किसी भी समस्या या संक्रमण (Infection) को नजरअंदाज करने के गंभीर नुकसान आपको झेलने पड़ सकते हैं और आपकी आंखों की रोशनी भी जा सकती है.

  • Last Updated: October 1, 2020, 6:45 AM IST
  • Share this:


आंखें (Eyes) हमें इस खूबसूरत दुनिया को देखने में मदद करती हैं लेकिन जब तक आंखों में कोई परेशानी नहीं होती, तब तक हम आमतौर पर उनकी तरफ ध्यान ही नहीं देते हैं. यह परेशानी संक्रमण यानी इंफेक्शन से लेकर ब्लर विजन (Blur Vision) और डुअल विजन (Dual Vision) तक कुछ भी हो सकती है. आंखों के स्वास्थ्य पर ध्यान देने से हम अपनी आंखों को लंबे वक्त तक स्वस्थ बनाए रख सकते हैं. कभी-कभी हम और आप अपने दैनिक जीवन में ऐसी गलतियां कर देते हैं, जिससे आंखों को नुकसान पहुंचता है. myUpchar से जुड़ीं डॉ. मेधावी अग्रवाल के अनुसार भले ही आपको चश्मा लगा हो या नहीं, आखों की नियमित रूप से जांच करवाते रहना चाहिए. आंखों की किसी भी समस्या या संक्रमण को नजरअंदाज करने के गंभीर नुकसान आपको झेलने पड़ सकते हैं और आपकी आंखों की रोशनी भी जा सकती है. चलिए जानते हैं कुछ ऐसी गलतियों के बारे में, जो आपकी आखों को नुकसान पहुंचा सकती हैं.

बहुत ज्यादा स्क्रीन टाइम – दिनभर स्मार्टफोन पर लगे रहना हो या कंप्यूटर व टीवी देखना हो, यह सभी स्क्रीन हमारी आंखों को नुकसान पहुंचाती हैं. पलकें झपकाने से आंखों में नमी बनी रहती है और शायद आपने गौर किया होगा कि जब हम स्मार्टफोन, टीवी या कंप्यूटर पर लगातार देखते हैं तो पलकें काफी कम झपकाते हैं. ऐसे में आखों में सूखापन यानी ड्राई-आई की समस्या हो जाती है. इस समस्या से निजात पानी है तो 20-20-20 नियम का पालन करें यानी हर 20 मिनट बाद, 20 सेकेंड के लिए कम से कम 20 फीट की दूरी पर रखी किसी चीज की ओर गौर से देखें.

सोने से पहले मेकअप को निकालना न भूलें - अगर आप एक महिला हैं और मेकअप लगाने का शौक है तो रात को बिस्तर पर जाने से पहले मेकअप साफ करने की आदत डालें, खासतौर पर आखों की भलाई के लिए काजल को जरूर हटा लें. पुराने हो चुके आई शैडो, आईलाइनर और मस्कारा का इस्तेमाल न करें. मेकअप पर बैक्टीरिया पनप जाते हैं, जो आपकी आंखों में संक्रमण का कारण बन सकते हैं.
बाहर जाएं तो धूप का चश्मा जरूर पहनें – धूप के चश्मे को सिर्फ फैशन समझने की गलती न करें. जब भी बाहर धूप में जाएं तो आंखों की सुरक्षा के लिए धूप का चश्मा जरूर लगाएं क्योंकि सूर्य से निकलने वाली अल्ट्रावायलेट किरणें आपकी आंखों को नुकसान पहुंचा सकती हैं. धूप का चश्मा लेते समय ध्यान रखें कि वह आपको यूवी-ए और यूवी-बी दोनों तरह की किरणों से 99 फीसदी तक सुरक्षा दे. दूसरी गलती जो आमतौर पर लोग करते हैं, वो ये कि धूप के चश्मे सिर्फ गर्मियों में इस्तेमाल करते हैं, जबकि सर्दियों की धूप भी आंखों को उतना ही नुकसान पहुंचा सकती है.

आई ड्रॉप का गलत इस्तेमाल न करें – ड्राई आई, एलर्जी और आंखों के लाल होने पर आई ड्रॉप का इस्तेमाल आम है. अगर आप आई ड्रॉप का गलत इस्तेमाल करते हैं तो यह संक्रमण का कारण भी बन सकता है. इसके सही इस्तेमाल के लिए आंखों के नीचे के बाहरी कोने पर एक बार में सिर्फ एक बूंद डालें, लेकिन ध्यान रहे कि ड्रॉपर आंख या पलक को न छुए. ड्रॉपर को हाथ से भी न छुएं, ऐसा करने पर यह बैक्टीरिया से दूषित हो सकता है. डॉक्टर की सलाह के बिना कोई भी आई ड्रॉप का उपयोग न करें और एक्सपायरी डेट के बाद उसका इस्तेमाल न करें.

गलत खानपान – आपकी आंखों की सेहत को बनाए रखने के लिए ल्यूटिन और जेक्सैंथिन से भरपूर खाद्य पदार्थ खाएं, इससे उम्र से जुड़ी बीमारियां और मोतियाबिंद की समस्या नहीं होगी. पालक, शलजम, ब्रोकली, पीली मकई और मटर को भी अपनी डाइट में शामिल करें, इससे आंखों को पोषण मिलता है.



आंखों को मसलना – नींद की वजह से, आंख में खुजली होने पर, आंख में कुछ चले जाने पर या तनाव में आंख रगड़ते हैं तो इससे बचना चाहिए. यदि कभी ऐसा करना बहुत जरूरी हो तो हाथों को अच्छे से धो लें, ताकि कीटाणुओं से आंखों में कोई संक्रमण न फैले.

कॉन्टैक्ट लेंस का ध्यान रखें – यदि आप कॉन्टैक्ट लेंस पहनते हैं तो उन्हें पहनने और उतारने से पहले हाथों को अच्छी तरह से धोना न भूलें. कॉन्टैक्ट लेंस धोने के लिए सॉल्यूशन दिया जाता है, लेंस भी हमेशा धोकर ही पहनें. इस दौरान जल्दबाजी न करें.अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, जब हो बात आंखों की देखभाल की, तब आंखों के डॉक्टर कहते हैं रखने को इन बातों का ध्यान पढ़ें. न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं. सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है. myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं.


अस्वीकरण : इस लेख में दी गयी जानकारी कुछ खास स्वास्थ्य स्थितियों और उनके संभावित उपचार के संबंध में शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है। यह किसी योग्य और लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवा, जांच, निदान और इलाज का विकल्प नहीं है। यदि आप, आपका बच्चा या कोई करीबी ऐसी किसी स्वास्थ्य समस्या का सामना कर रहा है, जिसके बारे में यहां बताया गया है तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। यहां पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार के लिए बिना विशेषज्ञ की सलाह के ना करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो ऐसी स्थिति में आपको होने वाले किसी भी तरह से संभावित नुकसान के लिए ना तो myUpchar और ना ही News18 जिम्मेदार होगा।

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज