होम /न्यूज /जीवन शैली /

YOGA SESSION: सूर्य नमस्कार से करें दिन की शुरुआत, सेहत से जुड़ी कई समस्‍याएं रहेंगी दूर

YOGA SESSION: सूर्य नमस्कार से करें दिन की शुरुआत, सेहत से जुड़ी कई समस्‍याएं रहेंगी दूर

योग प्रशिक्षिका सविता यादव

योग प्रशिक्षिका सविता यादव

स्‍वस्‍थ शरीर के लिए बॉडी को एक्टिव रखना ज़रूरी होता है. इसके लिए आप योग का सहारा ले सकते हैं. अगर आप दिन की शुरुआत सूर्य नमस्‍कार के अभ्‍यास से करें तो आप दिन भर एनर्जी से भरा अनुभव करेंगे. आज न्यूज़18 हिंदी के फेसबुक लाइव सेशन में योग प्रशिक्षिका सविता यादव (Savita Yadav) ने सूर्य नमस्कार का अभ्‍यास कराया. जानें, उनसे सूर्य नमस्कार करने का सही तरीका और फायदे.

अधिक पढ़ें ...

हाइलाइट्स

सूर्य नमस्‍कार के अभ्‍यास से पहले बॉडी को वॉर्मअप करना ज़रूरी है.
अगर आप हार्ट पेशेंट हैं तो सूर्य नमस्‍कार का अभ्‍यास ना करें.

Yoga Session With Savita Yadav : शारीरिक और मानसिक शक्ति को बढ़ाने के लिए आप सूर्य नमस्कार का अभ्‍यास ज़रूर करें. इसके नियमित अभ्‍यास से शारीरिक संतुलन सही बना रहता है और मन को शांत रखने में मदद मिलती है. इसके अलावा, शरीर के हर अंग को मजबूत बनाने और आंतरिक शांति के लिए भी ये काफी फायदेमंद योगाभ्‍यास माना जाता है. अगर आप अपनी बॉडी को टोन रखना चाहते हैं और मांसपेशियों व जोड़ों को मजबूत बनाना चाहते हैं तो भी आप इसका नियमित अभ्‍यास करें. इसके अभ्‍यास से पहले बॉडी को वॉर्मअप करना ज़रूरी है और इसके लिए आप छोटे-छोटे सूक्ष्‍मयाम का सहारा ले सकते हैं. आज न्यूज़18 हिंदी के फेसबुक लाइव सेशन में योग प्रशिक्षिका सविता यादव (Savita Yadav) ने सूर्य नमस्कार (Surya Namaskar) का अभ्‍यास कराया और अभ्‍यास के दौरान कई गूढ़ जानकारियां भी दीं.

सूर्य नमस्‍कार करने से पहले इन बातों का रखें ध्‍यान

-पहले दो चक्र धीमी गति से करें, फिर दो चक्र तेज गति से करें और फिर दो चक्र धीमी गति से करें.
-अगर आप हार्ट पेशेंट हैं तो सूर्य नमस्‍कार का अभ्‍यास ना करें.
-कमर में दर्द है तो आप आगे झुकने वाले अभ्‍यास ना करें.
-हार्निया की समस्‍या है तो पीछे झुकने वाले आसन ना करें.
-अभ्‍यास से पहले सूक्ष्‍मयाम ज़रूर करें.

इस तरह करें सूर्य नमस्‍कार

प्रणामासन
अपने अपने मैट पर सीधे खड़े हो जाएं और अपने दोनों हाथों को प्रणाम की मुद्रा में रखें. उगते सूर्य का ध्‍यान करें.

इसे भी पढ़ें : YOGA SESSION: शरीर को मजबूत बनाता है शशांकासन और भुजंगासनइस तरह करें अभ्‍यास

हस्तउत्तनासन
अब गहरी सांस लेते हुए अपने दोनों हाथों को कान से सटाएं और सिर के ऊपर ले जाते हए हाथों को प्रणाम करने की मुद्रा में ही पीछे की तरफ हल्‍का झुकें.

पादहस्तासन
अब सांस छोड़ते हुए आगे की ओर झुकें और अपने हाथों से पैरों की उंगलियों को छुएं. इस मुद्रा में आपका सिर घुटनों से मिलना चाहिए. विस्‍तार से देखने के लिए नीचे दिए गए वीडियो लिंक पर जाएं.

अश्व संचालनासन
अब सांस भरते हुए दाहिने पैर को पीछे की ओर ले जाएं. इस बात का ध्‍यान रहे कि पैर का घुटना जमीन से छूए. इस दौरान दूसरे पैर को मोड़ें. अपनी हथेलियों को जमीन पर रखें और सिर को ऊपर सामने की ओर देखें.

दंडासन
सांस छोड़ते हुए अपने दोनों हाथों और पैरों को सीधा एक लाइन में रखते हुए पुश-अप करने की अवस्था में आ जाएं.

अष्टांग नमस्कार
गहरी सांस लेते हुए हथेलियों, सीना, घुटनों और पैरों को जमीन से सटाएं. अब इस अवस्था में कुछ देर रहें.

भुजंगासन
सांस छोड़ते हुए अपनी हथेलियों को जमीन पर रखें और नाभी तक शरीर के आगे के हिस्‍से को उठाएं. पेट से लेकर पैरों की उंगलियों को जमीन से टच हो जबकि गर्दन ऊपर की ओर हो.

पर्वतासन अथवा अधोमुख शवासन
अब अपने पैरों को जमीन पर सीधा रखें और कूल्हे को ऊपर की ओर उठा लें. अपने कंधों को सीधा रखें और चेहरे को अंदर की तरफ रखें. इसके बाद अश्व संचालनासन, पादहस्तासन, हस्तउत्तनासन और प्रणामासन करें. आप इस पूरे अभ्‍यास को वीडियो लिंक पर देख सकते हैं.

Tags: Benefits of yoga, Health, Lifestyle, Yoga

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर