Holi 2021 Songs: बोलो सारा रारा!! होली है फाग गीतों के बिना फीकी? जानें क्यों

होली में 'फाग' गाने की परंपरा लम्बे समय से चली आ रही है.

होली में 'फाग' गाने की परंपरा लम्बे समय से चली आ रही है.

Holi 2021 Importance Of Faag Geet In Holi/ Holi Songs - फाग में गाने के माध्यम से होली के रंगों, प्रकृति की खूबसूरती और भगवान कृष्ण और देवी राधा की लीलाओं और पवित्र प्रेम का वर्णन होता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 28, 2021, 7:56 AM IST
  • Share this:
Holi 2021 Importance Of Faag Geet In Holi/ Holi Songs - होली में जगह जगह 'बोलो सारा रारा' और आज ब्रज में होरी है रसिया जैसे गीत सुनने में मिल ही जाते हैं. इन गीतों के बिना होली की महफ़िल फीकी सी लगती है. होली के इन गीतों को फाग कहा जाता है. होली में 'फाग' गाने की परंपरा लम्बे समय से चली आ रही है. ठाकुरजी के मंदिरों में फूलों, गुलाल के साथ होली खेली खेलने के बाद फाग भी गाया जाता है. इके बाद धुलंडी में भी फाग गाया जाता है. होली का त्योहार केवल रंग और गुलाल की वजह से हे नहीं बल्कि कई पारंपरिक रीति-रिवाजों की वजह से और ज्यादा रंगीन हो जाता है.

होली से पहले ही कई जगहों पर एक महीने और होली के त्योहार का जश्न शुरू हो जाता है. कुछ लोग होली का जश्न मनाने के लिए फाग गाते हैं. फाग मूलतः उत्तर प्रदेश और इसके आसपास के इलाकों का लोकगीत है. जिसे लोग ढ़ोलक और मंजीरे की थाप पर पूरे सुर और तान के साथ गाते हैं. फाग में गाने के माध्यम से होली के रंगों, प्रकृति की खूबसूरती और भगवान कृष्ण और देवी राधा की लीलाओं और पवित्र प्रेम का वर्णन होता है. फाग को शास्त्रीय और उपशास्त्रीय संगीत का भी एक रूप माना जाता है.

इसे भी पढ़ें: Holika Dahan 2021: होलिका दहन के समय करें ये काम, दूर होंगी परेशानियां, ख़ुशी से भर जाएगा जीवन


वसंत पंचमी के बाद से ही बिहार में पूर्वांचल होली तक फाग गाया जाता है. हालांकि अंग प्रदेश (भागलपुर, मुंगेर और उससे सटे बिहार और बंगाल के क्षेत्र) में इसे फगुआ कहा जाता है. फगुआ से तात्पर्य है फागुन का त्योहार होली. इन क्षेत्रों में लोग होली के दिन धूल-मिटटी से होली खेलने के बाद रंगोवाली होली खेली जाती है. इसके बाद नहाने धोने के पश्चात भांग पीते हुए फगुआ गाने सुनते हैं.

इसे भी पढ़ें: हिरण्यकशिपु ने प्रह्लाद को मारने होलिका को भेजा, होलिका दहन की पौराणिक कथा जानें





फाग गीत के कुछ बोल:

रसिया रस लूटो होली में,

राम रंग पिचुकारि, भरो सुरति की झोली में

हरि गुन गाओ, ताल बजाओ, खेलो संग हमजोली में

मन को रंग लो रंग रंगिले कोई चित चंचल चोली में

होरी के ई धूमि मची है, सिहरो भक्तन की टोली में.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज