लाइव टीवी

एक्ट्रेस पामेला एंडरसन ने Vegan फूड को लेकर PM मोदी को लिखी चिट्ठी, जानें क्या है मामला

News18Hindi
Updated: November 30, 2019, 1:23 PM IST
एक्ट्रेस पामेला एंडरसन ने Vegan फूड को लेकर PM मोदी को लिखी चिट्ठी, जानें क्या है मामला
पामेला एंडरसन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर आग्रह किया है कि सरकार की सभी आधिकारिक बैठकों और कामों में केवल शाकाहारी भोजन परोसा जाए.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखे पत्र में हॉलीवुड एक्ट्रेस पामेला एंडरसन ने सरकारी बैठकों और कार्यों में शाकाहारी भोजन परोसने का आग्रह किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 30, 2019, 1:23 PM IST
  • Share this:
हॉलीवुड एक्ट्रेस पामेला एंडरसन ने हाल ही में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को किसी बात का आग्रह करते हुए एक पत्र लिखा है. जी हां, ये बात बिल्कुल सच है. दरअसल पीपल्स फॉर द एथिकल ट्रीटमेंट ऑफ एनिमल्स की ओर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखे पत्र में हॉलीवुड एक्ट्रेस पामेला एंडरसन ने सरकारी बैठकों और कार्यों में शाकाहारी भोजन परोसने का आग्रह किया है.

इसे भी पढ़ेंः 2037 तक ज़्यादातर बच्चे होंगे 'ई बेबीज', ऑनलाइन डेटिंग है वजह : रिपोर्ट

शाकाहारी भोजन परोसा जाए
दिल्ली के बिगड़ते एयर क्वालिटी इंडेक्स से और वायु प्रदूषण से लोगों को हो रही बीमारियों से चिंतित पेटा की निदेशक पामेला एंडरसन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर आग्रह किया है कि सरकार की सभी आधिकारिक बैठकों और कामों में केवल शाकाहारी भोजन परोसा जाए. उन्होंने पीएम से कहा है कि शाकाहारी भोजन परोसने का प्रावधान कर पर्यावरण को बचाने के लिए काम किया जाना जरूरी है.


Loading...

ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन होता है
अपनी चिट्ठी में उन्होंने बताया है कि डेयरी, मांस और अंडों के लिए जानवरों के पालन-पोषण के कारण 20 फीसदी से अधिक ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन होता है. पामेला ने पत्र में आगे लिखा है कि अपने देश के कृषि इतिहास के कारण उन्हें यकीन है कि भारत द्वारा उत्पादित सोया और अन्य खाने की चीजें हानिकारक खाने की चीजों को आसानी से बदल सकते हैं. साथ ही उन्होंने न्यूजीलैंड, चीन और जर्मनी की प्रो-वेगन पहल का हवाला दिया और लिखा कि मैं आपसे अपील करती हूं कि आप भी ऐसा करें ताकि भारत भी उनकी बराबरी कर सकें.

दिल की बीमारी से बचा जा सकता है
उन्होंने यह भी कहा कि संयुक्त राष्ट्र ने भी शाकाहारी खाने की ओर बढ़ने की सलाह दी है ताकि पर्यावरण को बचाया जा सके. पामेला ने चिट्ठी में यह भी लिखा है कि पूरी तरह से पौधे से बने खाने को खाने से न केवल जानवरों की जान बचाई जा सकती है, बल्कि मीट और डेयरी के खाने से होने वाली बीमारियों जैसे डायबिटीज, ब्रेस्ट कैंसर और दिल की बीमारी से भी बचा जा सकता है.

हंटिंग गेम की क्रूरता के बाद मांसाहारी खाना छोड़ा
पामेला पिछले कई सालों से शाकाहारी खाने का प्रमोशन कर रही हैं और अक्सर पेटा की मुहिम में शाकाहारी जीवन शैली को बढ़ावा देती नजर आती हैं. पिछले साल द गार्जियन के साथ एक इंटरव्यू में पामेला ने खुलासा किया था कि उन्होंने बहुत कम उम्र में ही हंटिंग गेम की क्रूरता के बाद मांसाहारी खाना छोड़ दिया था. इस बारे में खुलकर बताते हुए पामेला ने कहा कि जब वह बच्ची थीं तो उन्होंने शाकाहारी बनने का फैसला किया था.

इसे भी पढ़ेंः इस कोर्स में हुए फेल तो जिंदगी भर रह जाएंगे कुंवारे, छीन लिया जाएगा शादी का अधिकार

इस सीन को याद कर रोती रही थीं
इसके पीछे कारण यह है कि उनके पिता एक शिकारी थे और एक दिन वह हिरण का शिकार कर लाए थे, जिसका सिर नहीं था. वह उनके घर के बाहर लटका हुआ था और उसका खून एक बाल्टी में टपक रहा था. पामेला कई दिनों तक इस सीन को याद कर रोती रही थीं. इसे देखने के बाद उन्होंने मांस खाना छोड़ दिया और अपने पिता को भी शिकार करने से रोक दिया था.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लाइफ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 30, 2019, 12:48 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...