घर की दीवारें बहुत कुछ बोलती हैं, जानें इन रंगों का आपके मूड पर कैसे पड़ता है असर

दीवारों के लिए कलर सेलेक्‍ट करने से पहले थोड़ा रिसर्च करें और जरूरत को समझते हुए ही रंगों का चुनाव करें. Image Credit : Shutterstock

Home Decor Tips : दीवारों पर रंगों (Colour) का चुनाव घर के मूड (Mood) को काफी प्रभावित करता है. ऐसे में जब भी अपने घर की दीवारों (Wall) के लिए कलर चुनें तो अच्‍छी तरह सोच विचार के बाद ही इनका चुनाव करें.

  • Share this:
    Wall Colours And Their Effect On Your Mood : आमतौर पर यह देखा जाता है कि जब घर की दीवारों (Wall) को कलर (Colour) करने की बात आती है तो हम या तो उन रंगों को चूज करते हैं जो इन दिनों ट्रेंड में है, नहीं तो अपने पसंद की रंगों को हम दीवारों के लिए चुन लेते हैं. लेकिन आपको बता दें कि बिना सोचे विचारे चुना गया यह कलर आपके घर के मूड (Mood) को प्रभावित कर सकता है. जी हां, कलर थेरेपी विशेषज्ञ यह मानते हैं कि रंगों का हमारे मूड, व्‍यवहार और स्‍ट्रेस लेवल पर बहुत गहरा असर पड़ता है. कुछ रंग होते हैं जिन्‍हें देखकर स्‍ट्रेस लेवल बढ़ सकता है तो कोई रंग हैं जो आपको थकान, स्‍ट्रेस, तनाव, डर आदि से दूर रखते हैं. ऐसे में विशेषज्ञ यह सलाह देते हैं कि दीवारों के लिए कलर सेलेक्‍ट करने से पहले थोड़ा रिसर्च करें और जरूरत को समझते हुए ही रंगों का चुनाव करें.

    1.रेड कलर का प्रयोग

    कलर थेरेपिस्‍ट यह मानते हैं कि लाल रंग का संबंध एनर्जी से है. यह कमरे की एनर्जी को हाई रखता है. लाल रंग आपके उत्साह को बढ़ाने में मदद करता है इसलिए घर के लिविंग रूम, डाइनिंग रूम या उन कमरों को लाल रंग से पेंट करना बेहतर माना जाता है जहां परिवार के सभी सदस्य साथ बैठते हैं. कभी भी बेड रूम के लिए लाल रंग का प्रयोग ना करें वरना यह आपकी नींद को प्रभावित कर सकता है.
    इसे भी पढ़ें : बड़े काम की चीज है पेट्रोलियम जेली, जानें किन चीजों में कर सकते हैं इसका इस्तेमाल



    2.येल्‍लो कलर का प्रयोग

    सनशाइन का प्रतीक पीला रंग खुशियों और गर्मजोशी का प्रतीक है. यह आपके मूड को ख़ुशगवार बनाता है. हालांकि यह आपके भीतर एग्रेशन भी भर सकता है ऐसे में इसे किचन या घर के कॉनर्र एरिया के लिए ही प्रयोग करें. यह पाया गया है कि बच्‍चों को अगर पीले रंग के कमरे में रखा जाए तो वे अधिक रोते  हैं इसलिए इसे हमेशा मिक्‍स कलर की तरह ही प्रयोग करना चाहिए.

    3.ब्‍लू कलर का प्रयोग

    यह रंग हमारे दिमाग़ पर रिलैक्‍स करता है. यह रंग शांति का अनुभव भी कराता है इसलिए बेडरूम और बाथरूम की दीवारों के‍ लिए ये रंग बेस्‍ट है. नीले रंग का फ़ायदा पाने के लिए आपको इसके सॉफ़्ट शेड्स का इस्तेमाल करना चाहिए. गहरे शेड्स नकारात्मक एनर्जी का प्रतीक है जो घर में अवसाद का माहौल  बना सकता है.

    4.ग्रीन कलर का प्रयोग  

    यह रंग आपके दिमाग़ को शांति देता है और क्रिएटिविटी को बढ़ाता है. आप घर के जिस कमरे में शांति चाहते हैं वहां हल्‍का या ब्राइट हरा रंग का प्रयोग कर सकते हैं. किचन और लिविंग रूम के लिए यह बेस्‍ट ऑप्‍शन है. लेकिन याद रखें कि घर में कभी भी ऑलिव ग्रीन और म्‍यूटेड टोन शेड का प्रयोग ना करें. ये घर में डिप्रेशन ला सकता है.

    5.पर्पल कलर का प्रयोग

    नीले और लाल का कॉम्‍बीनेशन कलर पर्पल हैप्पिनेस का प्रतीक है. इसका डार्क शेड लक्‍जरी का प्रतीक है जो आपको रॉयल फील देगा जबकि इसका लाइटर शेड शांति का प्रतीक है.
    इसे भी पढ़ें : Summer Style: इस समर सीजन कॉटन नहीं लिनन है फैशन में, इन 5 तरीकों से करें कैरी



    6.वाइट कलर का प्रयोग

    सुनने में ये रंग थोड़ा बोरिंग सा लगता है लेकिन बता दें कि वाइट कलर घर में रिलैक्‍स और रिफ्रेशिंग वाइब्‍स लाता है. यह आपके घर को ज्‍यादा हवादार और बड़ा भी दिखाता है. ऐसे में अगर आपका छोटा घर है तो आप सफेद रंग का प्रयोग करें. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारियों पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)
    Published by:Pranaty tiwary
    First published: