जनाब थोड़ी मेहरबानी अपने शरीर पर भी कीजिए, बॉडी शेमिंग नहीं इससे इश्क कीजिए

जानें बॉडीशेम से कैसे निपटें.

जानें बॉडीशेम से कैसे निपटें.

How To Overcome Body Shame: बॉडीशेम सोसाइटी के मापदंडों पर खरे उतरने का विकार है और कोई भी ताउम्र इसके साथ नहीं रहना चाहेगा, तो फिर इन टिप्स को अपना कर इसे कहें अलविदा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 11, 2021, 7:55 PM IST
  • Share this:
समाज ने हमारे शरीर के लिए एक नपा-तुला मापदंड बना रखा है. उससे एक दो इंच भी शरीर का आंकड़ा ऊपर- नीचे हो जाए, तो हमें बॉडी शेम (Body Shame) का शिकार होने से कोई नहीं रोक सकता. इतना ही नहीं जनाब, समाज के इस खांचे में फिट बैठने के लिए हमें कोशिशें करनी पड़ती हैं और वहां तक पहुंचने के लिए हमें कई साल लग जाते हैं. मतलब तभी हमें हमारे समाज से हरी झंडी मिलती है कि भाई लोगों आप हमें स्वीकार हैं. इस राह में इतनी मुसीबतें झेलने के बाद तब कहीं जाकर आखिरकार हम तरस खाकर अपने शरीर से इश्क कर पाते हैं, उसे कुबूल कर पाते हैं. अगर आप भी इस जेहनी परेशानी से दो –चार हो रहे हैं तो अब छोड़िए इन्हें किनारे. यहां हम आपको ऐसे कुछ टिप्स दे रहे हैं जो आपको खुद के शरीर पर शर्मिंदा होने से पार पाने में मदद करेंगे. फिर चाहे आप मोटे-पतले, लंबे- नाटे कैसे भी हों. तो फिर मुस्कुराइए और गुनगुनाने के लिए तैयार हो जाइए- न मुंह छुपा के जिओ और न सर झुका के जिओ...

सोशल मीडिया पर पॉजिटिव मैसेज चुनें:  

बॉडी शेमिंग से बचने के लिए अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर पॉजिटिव मैसेज पोस्ट करें. यह आपको खुद को एक्सेप्ट और खुद से प्यार करने के लिए प्रेरित करते हैं. ऐसा करने से आप सोशल मीडिया पर आने वाले मैसेज पर भी कंट्रोल कर पाएंगे यानी आपके पॉजिटिव पोस्ट डालने पर उसी तरह के फीड आने शुरू होंगे. बॉडी पॉजिटिव फेसबुक पेज इंस्टाग्राम और ट्विटर फीड को फॉलो करने के साथ ही पॉजिटिव फीड देने वाले लोगों को इंस्टाग्राम पर फॉलो कर सकते हैं.



इसे भी पढ़ेंः मोटापे से हैं परेशान, तो डाइट से तुरंत हटाएं ये 5 चीजें  
शरीर को प्यार करने का खुद को यकीन दिलाएः  

जिंदगी में यही सबसे अहम है कि आप खुद पर कितना यकीन करते हैं. अगर आप अपने लिए नेगेटिव बातों पर यकीन करेंगे तो आपको खुद को बेहतर स्वीकार करने में दिक्कत पेश आएगी. लेकिन अगर आपको खुद पर भरोसा है तो आप जैसे हैं वैसे ही रूप में खुद को स्वीकार कर खुश रह पाएंगे. अपने आप पर भरोसा करना बॉडी शेमिंग से निपटने का सबसे बेहतर तरीका है.

छिपने से बाज आएं:  

यदि आप अपने शरीर को लेकर शर्म महसूस करते हैं तो आपको खुद को छिपाने के कई तरीके मिल सकते हैं. जैसे कुछ लोग खुद को एक्सट्रा कपड़ों के साथ कवर करते हैं, तो कुछ लोग भरे कमरे में सबकी नजरों से बचकर बैठना पसंद करते हैं, तो कुछ लोग बहुत कहने के लिए होने के बावजूद भी चुप रहना पसंद करते हैं. शरीर की वजह से लोगों से कटने की इस आदत से बाज आएं. थोड़े वक्त के लिए ही सही लोगों के बीच बैठने की आदत बनाएं और देखें कि आप कैसा महसूस करते हैं. चुप रहने की बजाय हाय, हैल्लो से ही सही बात करना शुरू तो करें और फर्क देखें.

गलत सोच को बदलेंः  

अपने शरीर के बारे में पहले से ही बनाए गए ठोस विश्वास पर कायम रहना आपके लिए भले ही आसान हो, लेकिन यह आपके लिए नुकसानदेह है. आपका शरीर अच्छा नहीं है इस विश्वास को बदलें और मानें कि आप गलत सोच रहे थे. क्योंकि हमारा दिमाग हमारी मौजूदा या ताजा सोच के आधार पर ही जानकारी लेता है. हम अगर यह सोचें कि हमारे शरीर में कोई कमी नहीं है तो दिमाग वही ग्रहण करेगा और हम उसी के मुताबिक खुद को ढाल पाएंगे. इससे आप अपने शरीर के लिए पॉजिटिव लैंग्वेज का इस्तेमाल शुरू कर पाएंगे.

अपने अंदर की धमकी को जानेंः  

अनजाने में अपने को कमतर आंकने की आदत से मजबूर हम इस बात से बेपरवाह होते हैं कि हम खुद का कितना नुकसान कर रहे हैं. कई लोगों के लिए यह बेहतर करने की प्रेरणा हो सकती है, लेकिन खुद को कम आंकना सही नहीं है. आपको इस बात का अंदाजा भी नहीं होगा कि इसका आप पर उतना ही नेगेटिव प्रभाव पड़ता है, जितना कि किसी के किए बुरे व्यवहार और नेगेटिव बात का. और यह तो आपको पता ही होगा कि यदि कोई आपसे बुरा व्यवहार करता है तो आप कैसा महसूस करते हैं, इसलिए खुद को कम आंकने यानी इस इनर बुली की आदत से बाज आएं.

अपने भीतर सपोर्ट सिस्टम बनाएःं  

खुद के लिए बनाई गई नेगेटिव सोच से लड़ने के लिए आपको इनर सपोर्ट सिस्टम बनाना होगा, क्योंकि कहते हैं न कि भगवान भी उन्ही की मदद करता है जो खुद की मदद करते हैं. इसके लिए आपको खुद ही अपने शरीर के बारे में पॉजिटिव राय बनानी होगी, क्योंकि ये अपने आप नहीं बनेगी. इसे बनाना पड़ेगा. इसके लिए आपको नई लैंग्वेज बनानी होगी और इसे दोहराना होगा, ताकि शरीर में यह पॉजिटिव लैंग्वेज ऑटोमैटिकली चालू हो जाए. मतलब जो अच्छी सोच या विश्वास आप अपने लिए बनाना चाहते हैं उसे शीशे के सामने खड़े होकर जोर से बोलें. मसलन आप कुछ ऐसा कह सकते हैं, "मैं सुंदर हूं," या "मैं मजबूत हूं," या "मैं सेक्सी हूं''.

इसे भी पढ़ेंः घर पर जरूर लगाएं स्नेक प्लांट, हवा को फिल्टर कर रखता है हेल्दी

शरीर को थैक्स कहने की एक्सरसाइजः

आपको यह थोड़ा मुश्किल और अजीब लगेगा कि जिस शरीर पर आप शर्मिंदा है उसी को थैंक्स कहेंं. लेकिन आपको शरीर को थैंक्स कहने की आदत ही नहीं बनानी होगी बल्कि इसे एक्सरसाइज की तरह करना होगा. जैसे शरीर की सेहतमंदी के लिए फिजिकल एक्सरसाइज जरूरी है वैसे ही मानसिक और भावनात्मक सेहतमंदी के लिए शरीर को थैंक्स कहने की ये इमोशनल एक्सरसाइज भी जरूरी है.(Disclaimer:इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारियों पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज