जॉब सर्च करने में पैरेंट्स बच्चों को कैसे करें मदद, जानें खास टिप्स

जॉब सर्च करने में पैरेंट्स बच्चों को कैसे करें मदद, जानें खास टिप्स
जब आप अपनी नौकरी खो चुके हैं, तो आप असहाय महसूस करने लगते हैं.

नौकरी खोजने (Job Search) के लिए आपके पास एक समर्पित ईमेल (Email) होना चाहिए और आपको इसे हमेशा देखते रहना चाहिए. हो सके तो आप एक ईमेल अकाउंट बनाएं जो सिर्फ नौकरी के लिए हो और इसे प्राथमिकता देना चाहिए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 15, 2020, 8:15 AM IST
  • Share this:
वर्तमान में चल रही कोरोना वायरस (Coronavirus) महामारी ने पैरेंट्स को हर तरह की अनिश्चितता में ला दिया है. जो लोग इस संकट के दौरान अपनी नौकरी खो चुके हैं या सैलरी नहीं मिलने की चिंता ने इस पूरी स्थिति को तनावग्रस्त बना दिया है. जब आप अपनी नौकरी खो चुके हैं, तो आप असहाय महसूस करने लगते हैं और ऐसी स्थिति में अपने व अपने परिवार के स्वास्थ को बनाए रखना एक चुनौती का विषय बन जाता है. जब आप चाइल्डकेयर (Childcare) कर रहे हों, तो आप करियर में उत्पादक (Productive) बने रहें, यह एक बड़ी चुनौती हो सकती है. हालांकि विशेषज्ञ इस बात से सहमत हैं कि अपने बच्चों की देखभाल करते हुए आप अपने करियर को पटरी पर लाने के लिए के लिए संघर्ष करते हैं.

सोशल साइट्स का करें इस्तेमाल
नौकरी खोजने के लिए आपके पास एक समर्पित ईमेल होना चाहिए और आपको इसे हमेशा देखते रहना चाहिए. हो सके तो आप एक ईमेल अकाउंट बनाएं जो सिर्फ नौकरी के लिए हो और इसे प्राथमिकता देना चाहिए. इस समय यह महत्वपूर्ण है कि सबसे ज्यादा प्रमुख कार्यों में क्या करना चाहिए. उन सभी दोस्तों की एक सूची बनानी चाहिए जिन्हें आप पिछली नौकरियों से जानते हैं ताकि आप उन तक पहुंच सकें और अपने कार्य में उनसे सहयोग ले सकें. अधिकांश सफलताओं में दूसरों की मदद की आवश्यकता होती है. इसके साथ ही आप लिंक्डइन (LinkedIn) और ट्विटर (Twitter) जैसी सोशल साइट्स का इस्तेमाल कर सकते हैं. ऐसा करने से दूसरे लोग आपके पोस्ट पर कमेंट्स करेंगे जिससे आपको काफी मदद मिल सकती है.

इसे भी पढ़ेंः Home Schooling: जानें क्या है होम स्कूलिंग, बच्चों के लिए कैसे है फायदा और नुकसान
परिवार के साथ समय बिताना


जब अचानक इस तरह की परिस्थितियों के आधार पर आपको पालन पोषण और यहां तक ​​कि स्कूली शिक्षा का सामना करना पड़ता है तो यह एक बहुत चुनौतीपूर्ण समय होता है लेकिन ऐसी परिस्थितियों में हमें घबराना नहीं चाहिए. घर से काम करने में सक्षम होना और परिवार के साथ समय बिताना कितने सौभाग्य की बात है. इस सारी ज़िम्मेदारी के साथ संतुलन बनाना अपने आप में एक चुनौतीपूर्ण काम होता है.

खेलना और प्रकृति की सैर करना
एक अभिभावक के रूप में स्वास्थ्य की देखभाल करना महत्वपूर्ण है. स्वास्थ्य की देखभाल करने के लिए शारीरिक गतिविधियों में भी भाग लेना चाहिए. खेलना और प्रकृति की सैर करने जैसी गतिविधियां करनी चाहिए. माता-पिता को अपने बच्चों के बिस्तर की दिनचर्या को बहुत सही ढंग से संचालित करना चाहिए. बच्चो को नींद की कमी नहीं होने देना चाहिए. याद रखें, वे अभी भी सीख रहे हैं और बढ़ रहे हैं. उनकी गलतियों को समझें. देखभाल करें और बच्चे को बताएं कि आप उनके विश्वासपात्र हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज