जीवन से हैं हैरान-परेशान, ऐसे करें खुद से प्यार

खुद के दोस्त बनेंगे तो सपोर्ट सिस्टम होगा मजबूत.
Image Credit:pexels-samson-katt-

खुद के दोस्त बनेंगे तो सपोर्ट सिस्टम होगा मजबूत. Image Credit:pexels-samson-katt-

How To Become A Best Friend Of Yourself: कभी-कभी जिंदगी में सबकुछ सही होने के बाद ऐसा लगता है कि आप खुश नहीं हैं तो खुद का ही सपोर्ट सिस्टम (Support System) बनिए. जानिए कैसे इन टिप्स से.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 12, 2021, 1:06 PM IST
  • Share this:
Know How To Become A Best Friend Of Yourself: कहते हैं न कि ‘खुदी को कर बुलंद इतना कि खुदा बंदे से पूछे बता तेरी रजा क्या है’ यह सच भी है.आप अंदर से इतने मजबूत हों कि खुद का ही सपोर्ट सिस्टम (Support System) बन जाएं और फिर खुश रहने के लिए आपको किसी बाहरी फैक्टर पर निर्भर रहने की जरूरत न पड़े या कहीं बाहर आपकी किसी को तलाशने की जरूरत ही खत्म हो जाए.ऐसा बनने लिए बस जरूरत है खुद से खुद के साक्षात्कार की यानी खुद का बेस्ट फ्रेंड बनने की, क्योंकि अगर आप भीतर से खुश नहीं हैं,तो कोई भी बाहरी चीज आपको खुश नहीं कर सकती है. क्योंकि कभी-कभी दोस्त काफी नहीं होते हैं.कभी-कभी आपको ऐसा लगता है कि आपकी नौकरी, आपका जुनून और आपकी जिंदगी सामान्य तौर पर आपको उस तरह की खुशी नहीं दे रहे हैं जिसकी आपने उम्मीद लगाई थी.ऐसा इसलिए है क्योंकि यह आप ही हैं जो अपनी खुशी के लिए जिम्मेदार हैं न कि बाहरी कारक.ऐसे समय में, आपका अपना सबसे अच्छा दोस्त और सपोर्ट सिस्टम होना जरूरी है. तो फिर क्या आप नहीं चाहेंगे खुद का दोस्त बनना ? यहां हम आपको ऐसे कुछ तरीके बताने जा रहे हैं, जिससे आपका यह काम आसान हो जाएगा.

खुद की सराहना करेंः  

कभी-कभी जिंदगी की दौड़ जीतने के लिए हम आखिर में खुद के लिए ही बेहद कठोर हो जाते हैं.अपनी इस आदत को जाने दें और खुद की सराहना (Appreciate) करना सीखें. अपनी किसी भी उपलब्धि को कम न आंकें इसके बजाय अपनी हर छोटी सी छोटी उपलब्धि का जश्न मनाना सीखा.

ये भी पढ़ेंः फ्रेंड बनाने से पहले खुद के बेस्ट फ्रेंड बनिए, फायदे में रहेंगे आप,जानें कैसे  
अपने लिए करुणामय बनेंः 

आप खुद के लिए भी करुणामय (Be compassionate) बनें जैसे कि आप दूसरे के साथ बनते हैं. अपने आप के साथ वैसे ही दया करें जैसे आप अपने सबसे अच्छे दोस्त के साथ करते हैं. खुद के साथ शांति से रहें और खुद को बदलने की कोशिश न करें.

खुद को बेहद गंभीरता से लेना बंद कर देंः  



अपनी जो भी चीजें या काम आपको लगता है कि आप अजीब करते हैं, उसमें हंसी खोजने की कोशिश करें. खुद पर हंसना सीखें और खुद को भी गंभीरता से लेना बंद करें.

अपने साथ में ही कंफर्ट खोजेंः

अपने खुद के साथ मतलब अपनी खुद की कंपनी में ही एंजॉय करना सीखें.खुद अपने एकांत में खुश रहने की कला सीखें और इस एकांत के पलों में अपने खुद के साथ बॉन्डिंग बनाएं.इसके लिए आपको अकेले और असहाय होने में अंतर समझना होगा.

ये भी पढ़ेंः Sunday Special: लॉकडाउन में बेचैन या परेशान हैं? ऐसे रखें खुद का ख्याल



खुद को स्वीकार करना सीखेंः  

अपने को आप जैसे है वैसे ही स्वीकार करने की आदत डालें.अपने दोषों और कमियों को तहेदिल से स्वीकार करने की हिम्मत करें.खुद के लिए बेहद आलोचनात्मक और जरूरत से ज्यादा कठोर होने के जगह अपनी ताकत और कमजोरियों को पहचानना सीखें.(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज