• Home
  • »
  • News
  • »
  • lifestyle
  • »
  • जानें किचन के लिए चिमनी खरीदते वक्त किन बातों का रखना होगा ख्याल

जानें किचन के लिए चिमनी खरीदते वक्त किन बातों का रखना होगा ख्याल

डिजिटल गैस सेंसर वाली चिमनी ज्यादा बेहतर होती है-Image/shutterstock

डिजिटल गैस सेंसर वाली चिमनी ज्यादा बेहतर होती है-Image/shutterstock

Tips to Buy Kitchen Chimney: कई बार देखा जाता है कि किचन (Kitchen) में चिमनी (Chimney) लगवाने के बावजूद इसको लगवाने का पर्पस हल नहीं हो पाता है. इसकी वजह है सही चिमनी का चुनाव न किया जाना.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    Tips to Buy Kitchen Chimney: घर के किचन (Kitchen) से धुआं और गंध (Smell) को आसानी से बाहर निकालने के लिए ज्यादातर लोग किचन में चिमनी (Chimney) लगवाने लगे हैं. लेकिन कई बार देखा जाता है कि चिमनी लगवाने के बावजूद इसको लगवाने का पर्पस हल नहीं हो पाता है. इसकी एक वजह है सही चिमनी का चुनाव न किया जाना. दरअसल चिमनी लगवाने से पहले इससे जुड़ी कुछ बातों को ध्यान में रखना ज़रूरी होता है जिससे सही चिमनी का चुनाव किया जा सके. आइये आज यहां जानते हैं कि क्या हैं वो बातें जिनको चिमनी खरीदने से पहले आपको पता होना चाहिए.

    ये भी पढ़ें: परफेक्ट चॉपिंग बोर्ड खरीदने के लिए इन टिप्स को करें फॉलो

    चिमनी के बारे में पहले ये जानें

    किचन में चिमनी की ज़रूरत और इसकी मांग को देखते हुए बाजार में पहले के मुकाबले कई लेटेस्ट डिजाइन की चिमनी मौजूद हैं. कुछ साल पहले की बात करें तो पहले डायरेक्ट बटन वाली या पुश बटन वाली चिमनी ज्यादा दिखाई देती थी. लेकिन अब गैस सेंसर वाली चिमनी की मांग ज्यादा है. इसकी खासियत ये है कि किसी भी वजह से गैस के लीक होने पर ये चिमनी औटोमैटिक स्टार्ट हो जाती हैं और गैस को पूरी तरह से किचन से बाहर निकालने के बाद ऑफ भी हो जाती है. चिमनी के प्रकार की बात करें तो बाजार में दो तरह की चिमनी मौजूद हैं. जिनमें एक है डक्टिंग चिमनी जो पीवीसी पाइप्स के ज़रिये धुआं, गंध और गैस किचन के बाहर फेंकती है. इसमें मैश और बफल फिल्टर लगा होता है जो खाना पकाते समय तेल चिकनाहट को सोख लेता है. तो दूसरी है डक्टलैस चिमनी. इसमें फैन और मोटर के साथ ग्रीस फिल्टर लगे होते हैं जिनसे धुआं निकल कर चारकोल फिल्टर में चला जाता है. इसका ग्रीस फिल्टर जहां चिकनाहट सोखने में मदद करता है तो वहीं चारकोल फिल्टर मसालों की गंध को सोख कर किचन को फ्रेश रखता है.

    ये भी पढ़ें: अगर खाना चाहते हैं फ्रेश चिकन, तो खरीदते समय इन बातों का रखें ध्यान

    इन बातों का रखें ध्यान

    मैनुअल तौर पर ऑन-ऑफ करने वाली चिमनी की बजाय डिजिटल गैस सैंसर वाली चिमनी ज्यादा बेहतर होती है. इसकी खासियत ये है कि किसी वजह से लीक हो रही गैस को बाहर निकालने के लिए ये ऑटोमेटिक तौर पर चालू हो जाती है और गैस को निकालने के बाद खुद बंद भी हो जाती है.

    चिमनी खरीदने से पहले अपने किचन के आकार का ध्यान भी रखें कि किचन कितना बड़ा है. अगर किचन ज्यादा बड़ा है तो ज्यादा सेक्शन पावर वाली चिमनी लगाना ठीक होगा. दरअसल अनुमानित तौर पर देखा जाये तो चिमनी को एक घंटे में लगभग दस गुना शुद्ध हवा से भरने की जरूरत होती है. जिसके अनुसार  किचन की वौल्यूम को दस से गुणा करने के बाद जो क्षेत्रफल आए उसको ध्यान में रखकर उतने सक्शन पावर की चिमनी खरीदना चाहिए.

    चिमनी की सक्शन पावर का ध्यान भी चिमनी खरीदते समय रखना ज़रूरी है. सक्शन पावर जितना ज्यादा होती है उतनी ही ज्यादा बेहतर होती है. चिमनी में यह कैपेसिटी पांच सौ मीटर क्यूबिक प्रति घंटा से बारह सौ मीटर क्यूबिक प्रति घंटा तक होती है. इसके तरह बाजार में नौ सौ मीटर क्यूबिक प्रति घंटा से लेकर एक हज़ार मीटर प्रति घंटा सक्शन पावर वाली चिमनी शामिल है.

    चिमनी की कीमत हजारों से लेकर लाखों तक होती है लेकिन ये कीमत उसकी वारंटी पर निर्भर करती है. बाजार में एक साल से पांच साल तक और इसके साथ ही लाइफटाइम गारंटी वाली चिमनी भी मौजूद है. अच्छी कंपनी की चिमनी की लाइफ दस से पद्रंह साल तक हो सकती है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज