होम /न्यूज /जीवन शैली /Dussehra 2022: इन 7 तरीकों से घर पर परिवार के साथ सेलिब्रेट करें दशहरा, बनाएं इस पर्व को यादगार

Dussehra 2022: इन 7 तरीकों से घर पर परिवार के साथ सेलिब्रेट करें दशहरा, बनाएं इस पर्व को यादगार

आप चाहें तो दशहरे पर डांडिया पार्टी का भी आयोजन कर सकते हैं.

आप चाहें तो दशहरे पर डांडिया पार्टी का भी आयोजन कर सकते हैं.

Dussehra 2022 Celebration Ideas: दशहरा 5 अक्टूबर को मनाया जाएगा. विजयादशमी के दिन जगह-जगह मेला लगता है. लोग रावण दहन दे ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

5 अक्टूबर को दशहरा मनाया जाएगा.
दशहरा का पर्व बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है.
दशहरा सेलिब्रेट करने के लिए आप खुद से रावण का छोटा पुतला बनाएं.

Ways to Celebrate Dussehra at Home: दशहरा कल (5 अक्टूबर) मनाया जाएगा. इसे विजयादशमी भी कहा जाता है. दशहरा भारत में हर साल नवरात्रि के अंत में मनाया जाने वाला एक प्रमुख त्योहार है. दशहरा का पर्व बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है. इस दिन भगवान श्री राम ने अत्याचारी रावण का वध किया था. रावण, कुंभकर्ण, मेघनाथ के बड़े-बड़े पुतले बनाकर वर्षों से विजयादशमी के दिन जलाने की परंपरा चली आ रही है. ऐसा करके लोग श्री राम की जीत का जश्न मनाते हैं. विजयादशमी के दिन जगह-जगह मेला लगता है, खास ईवेंट, नाटक आयोजित होते हैं. लोग रावण दहन देखने जाते हैं. हालांकि, दशहरे में शाम के समय इन जगहों पर भारी भीड़ देखने को मिलती है.

कोरोना के कारण लोगों को भीड़ में जाने के समय सेफ्टी का ख्याल भी रखना चाहिए. अधिकतर लोग ये सोचकर सभी त्योहारों का अब खुलकर मजा लेने लगे हैं कि ये पर्व-त्योहार साल में सिर्फ एक बार ही तो आते हैं. ऐसे में वे भीड़-भाड़ में जाने से भी परहेज नहीं करते. लेकिन, कुछ लोग ऐसे भी हैं, जो अपने बच्चों के साथ खुद भी अपनी सेफ्टी का ख्याल रखते हुए अत्यधिक भीड़-भाड़ वाली जगहों पर जाने से बचते हैं. अब सवाल ये है कि यदि आप बाहर नहीं जाएंगे तो इस पर्व को एंजॉय कैसे करेंगे? रावण दहन आपके बच्चे कैसे देख पाएंगे? परेशान न हों, आप घर पर रहकर भी दशहरा का जश्न मना सकते हैं. हम आपको घर पर रहकर ही अपने परिवार के सदस्यों के साथ दशहरा सेलिब्रेट करने के कुछ आइडियाज के बारे में बता रहे हैं.

इसे भी पढ़ें: Dussehra 2022: दशहरा पर ऐसे करें घर की डेकोरेशन, मिलेगा आपके आशियाने को अमेजिंग लुक

इस तरह घर पर सेलिब्रेट करें दशहरा

-आप घर के सभी बड़े, बच्चे साथ में बैठ जाएं. दशहरे को मनाने के पीछे की पौराणिक कथा के बारे में एक-दूसरे को बताएं. बुजुर्गों को इन चीजों के बारे में अधिक जानकारी होती है. उनकी बातों को सुनें. आप रामायण भी पढ़ सकते हैं. इस महापर्व का क्या महत्व है. आखिर प्रत्येक वर्ष विजयादशमी के दिन रावण, कुंभकर्ण और मेघनाथ के पुतलों को क्यों लोग जलाते हैं. इस दस सिर वाले रावण के पुतले को जलाने का मतलब क्या है? इसे बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक क्यों कहा जाता है? यदि आप इन सभी बातों को अपने बच्चों को बताएंगे, तो उन्हें इस पर्व-त्योहार को मनाने का अर्थ समझ आएगा. उनके मन में ये गलत भावना नहीं आएगी कि आखिर लोग किसी को जलाकर खुश क्यों होते हैं.

-आप रावण, कुंभकर्ण और मेघनाथ के पुतले बना सकते हैं. आजकल तो स्कूल एक्विटिविटी में भी इनके पुतले बच्चों से बनवाए जाने लगे हैं. यदि आप बाहर नहीं जा रहे हैं तो खुद से ही रावण का छोटा पुतला बनाएं. आप पुतला मेकिंग आइडिया ऑनलाइन वीडियो देखकर भी ले सकते हैं. इसे आप अपनी सोसायटी की पार्क या फिर छत पर जलाकर दशहरे का आनंद उठा सकते हैं. लेकिन ध्यान रहे कि पुतले के अंदर अधिक बम-पटाखे ना भरें ताकि कोई दुर्घटना ना घटे.

इसे भी पढ़ें: Dussehra Sweets: दशहरा सेलिब्रेशन के लिए ये 6 स्वीट डिश रहेंगी एकदम परफेक्ट

-घर पर दशहरा मनाने का एक और मजेदार तरीका है रामायण पर आधारित एक छोटा सा नाटक तैयार करें. इसके लिए घर के सभी वयस्कों और बच्चों को शामिल कर सकते हैं. बच्चों को मुख्य भूमिका प्ले करने के लिए दें. बच्चों को हनुमान जी का रोल देंगे तो उन्हें अभिनय के दौरान बेहद मजा आएगा.

-अपने घर पर सरस्वती पूजा का आयोजन करें. देवी सरस्वती ज्ञान, बुद्धि, विद्या, कला, संगीत और वाणी की देवी हैं. दशहरे के दौरान सरस्वती पूजा करने की परंपरा है. यह बच्चों को अपनी परंपराएं और धार्मिक महत्व के बारे में बताने, सिखाने का एक बेहतर तरीका है. यह पूजा, बच्चों को उनकी पुस्तकों को सम्मान और कद्र करना भी सिखाती है.
पुस्तकें।

-फेस्टिव सीजन पर घर का डोकेरेशन हर कोई करना पसंद करता है. आप भी अपने घर की बालकनी, हॉल, मेन गेट पर रंगोली बनाकर सजा सकते हैं. घर को फूलों, लाइट्स से भी डेकोरेट कर सकते हैं. आप चाहें तो आर्टिफिशियल फ्लावर्स भी टांग सकते हैं. इसे दिवाली तक उतारने की जरूरत नहीं पड़ेगी. डोकेरेशन करने के लिए बच्चों को भी शामिल करें. उन्हें रंगोली बनाने में अपनी क्रिएटिविटी दिखाने का मौका दें. ऐसे में बाहर जाने की वो जिद भी नहीं करेंगे और आपका घर भी खिल उठेगा.

-कोई भी त्योहार अच्छे पकवान के बिना अधूरा है. यदि आप दशहरा मेला घूमने नहीं जा रहे हैं और बाहर का खाने से बचना चाहते हैं तो फिर आप घर पर ही टेस्टी फूड बनाएं. बच्चों को यदि बाहर का कुछ स्पेशल खाने का मन है तो आप उसे ऑनलाइन वीडियो देखकर बना दें. बच्चे भी खुश और आप भी.

-आप चाहें तो डांडिया पार्टी का भी आयोजन कर सकते हैं. डांडिया नवरात्रि का एक अभिन्न हिस्सा, जो दशहरा के दिन समाप्त होता है. डांडिया में आप अपने सभी दोस्तों, पड़ोसियों, बच्चों के दोस्तों, ऑफिस के कलीग को आमंत्रित कर सकते हैं. सच पूछिए, आपको बेहद मजा आएगा.

Tags: Dussehra Festival, Festival, Lifestyle

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें