लाइव टीवी

पैरेंट्स कैसे चुनें बच्चों के लिए सही स्कूल? Nursery में एडमिशन कराने से पहले जान लें ये जरूरी बातें

News18Hindi
Updated: November 29, 2019, 6:19 PM IST
पैरेंट्स कैसे चुनें बच्चों के लिए सही स्कूल? Nursery में एडमिशन कराने से पहले जान लें ये जरूरी बातें
अगर आपका बच्चा छोटा है तो सबसे पहले घर से स्कूल की दूरी जरूर चेक कर लें.

नए स्कूल में बच्चे का एडमिशन करवाना हो या बच्चा नर्सरी क्लास में पहली बार जा रहा हो, हर बार मां-बाप बच्चों को लेकर परेशान होते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 29, 2019, 6:19 PM IST
  • Share this:
दिल्ली के निजी स्कूलों की प्रारंभिक कक्षाओं (नर्सरी, केजी व पहली कक्षा) में एडमिशन के लिए 29 नवंबर यानी आज से ही दौड़ शुरू हो गई है. निजी स्कूलों ने दाखिला मानदंड अपलोड करने के साथ ही आवेदन फॉर्म उपलब्ध कराने शुरू कर दिए हैं. इस प्रक्रिया में 6 साल से कम उम्र के बच्चों के एडमिशन (Delhi Nursery Admission 2020) होंगे. दिल्ली शिक्षा निदेशालय द्वारा जारी सर्कुलर के मुताबिक एडमिशन के लिए फॉर्म स्कूल से लेकर स्कूल में जमा करना होगा. नए स्कूल में बच्चे का एडमिशन करवाना हो या बच्चा नर्सरी क्लास में पहली बार जा रहा हो, हर बार मां-बाप बच्चों को लेकर परेशान होते हैं.

इसे भी पढ़ेंः अंजान और खतरनाक लोगों से बच्चों को रखें सावधान, सिखाएं ये 5 जरूरी बातें

बच्चे की पढ़ाई का रखें पूरा ध्यान
सही स्कूल का चुनाव, सही सबजेक्ट्स का चुनाव और बच्चों को सही वातावरण देना बच्चों के साथ-साथ

मां-बाप को भी परेशान करता है. हर मां-बाप चाहते हैं कि उनका बच्चा अच्छे से अच्छे स्कूल में जाए और ऐसे सबजेक्ट्स या कोर्स चुने, जिससे आगे चलकर उसका करियर अच्छा हो सके. अगर आप भी अपने बच्चे की पढ़ाई और करियर से जुड़ी इन समस्याओं को लेकर काफी परेशान हैं, तो आइए आपको बताते हैं कि बच्चों का नर्सरी में एडमिशन कराने से पहले किन बातों का ध्यान रखना चाहिए.

स्कूल की दूरी चेक कर लें
अगर आपका बच्चा छोटा है तो सबसे पहले घर से स्कूल की दूरी जरूर चेक कर लें. छोटे बच्चों को नर्सरी में एडमिशन कराने से पहले ये जान लेना बहुत जरूरी है कि बच्चे का स्कूल घर से ज्यादा दूर न हो. ऐसा इसलिए जरूरी है कि अगर जरूरत पड़े तो बच्चे के स्कूल तुरंत पहुंचा जा सके और उसे घर लाया जा सके.पढ़ाई के तरीकों का ध्यान रखें
बड़े बच्चों के लिए स्कूल का चुनाव करते समय स्कूल की प्रतिष्ठा और पढ़ाई के तरीकों को भी ध्यान में जरूर रखें. स्कूल का वातावरण बच्चों के लिए अच्छा होना चाहिए. कई बार बच्चे स्कूल में तो सही तरीके से रहते हैं लेकिन स्कूल के बाहर के इलाकों की चपेट में आ जाते हैं. बच्चे स्कूल से निकलकर आसपास के इलाकों के लोगों से दोस्ती कर लेते हैं जो कि उनके लिए नुकसानदायक भी हो सकती है.

स्कूल का रिव्यू जरूर पढ़ लें
अपने आसपास के लोगों, रिश्तेदारों और इंटरनेट के माध्यम से स्कूल का रिव्यू जरूर पढ़ लें. बच्चे का स्कूल में एडमिशन कराने से पहले उस स्कूल के बारे में हर जरूरी बात पैरेंट्स को पता होनी चाहिए. स्कूल की फीस से लेकर उसके टीचर्स, सब्जेक्ट्स, टाइमिंग और खेलकूद तक की जानकारी आपको होनी चाहिए. सोशली मीडिया के चलते आजकल बहुत कुछ संभव है. ऐसे में स्कूल के बारे में अच्छे से पता कर लें.

अंग्रेजी की जानकारी दें
आजकल की लाइफस्टाइल और प्रोफेशन के चलते बच्चों को शुरुआत से अंग्रेजी की जानकारी दी जानी जरूरी है. इसलिए अगर आप बच्चे की पढ़ाई किसी और माध्यम से भी करवा रहे हैं तो उसकी इंग्लिश और तकनीकी विषयों पर जरूर ध्यान दें. बच्चों को शुरुआत से ही एक्टिव और एक्सपर्ट बनाने की कोशिश करें.

इसे भी पढ़ेंः खुश रहने के लिए बच्चों से सीखें ये 6 गुण, टेंशन हो जाएगी दूर

एक्सट्रा कर्रिकुलर एक्टिविटीज पर भी पूरा ध्यान
स्कूल में होने वाली एक्सट्रा कर्रिकुलर एक्टिविटीज पर भी पूरा ध्यान दें ताकि आपके बच्चे को पढ़ाई के साथ-साथ अपने अंदर छिपी प्रतिभा को पहचानने और समझने का मौका मिले. बच्चे को स्कूल के हर सांस्कृतिक कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए प्रेरित करें. साथ ही बच्चों को शुरुआत से ही खेलकूद भी भाग लेने के लिए उत्साहित करें.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लाइफ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 29, 2019, 6:19 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर