ये 5 संकेत जो बताएंगे सच्चे और झूठे दोस्तों में अंतर, नहीं मिलेगा धोखा

सच्चे और अच्छे दोस्त में होती हैं ये क्वालिटीज.
Image Credit: pexels-rheza-aulia

सच्चे और अच्छे दोस्त में होती हैं ये क्वालिटीज. Image Credit: pexels-rheza-aulia

Know The Difference Between Fake And True Friend: दोस्ती (Friendship) बेमिसाल होती है, लेकिन तभी जब दोस्त सच्चा (True) हो, तो जानें कैसे अंतर करें सच्चे और झूठे (Fake) दोस्तों में.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 10, 2021, 3:25 PM IST
  • Share this:
कहते हैं न कि दुनिया में दोस्ती (Friendship) का रिश्ता सबसे बड़ा होता है, क्योंकि ये जन्म से आपके साथ नहीं जुड़ा होता. दुनिया में आने के बाद ही आप किसी को दोस्त बनाते हैं या किसी के दोस्त बनते हैं. कुछ लोग किस्मत वाले होते हैं जो अपनी जिंदगी में सच्चे दोस्त (True Friend) पाते हैं. जो हर वक्त आपके लिए वहां होते हैं जहां आपको उनकी जरूरत होती है.वे आपका साथ कभी नहीं छोड़तें. अक्सर वे आपके हेल्प सिस्टम की तरह काम करते हैं और आपके लिए जिंदगी और दुनिया को जीने लायक बनाने में मदद करते हैं. वे आपके मार्गदर्शक, आपके विश्वासपात्र और आपके अपने होते हैं, लेकिन वाकई में सच्चा और असली दोस्त मिलना मुश्किल है.

अक्सर दोस्तों के नाम पर आपका ऐसे लोगों से सामना हो जाता है जो केवल आपका इस्तेमाल कर रहे होते हैं. वे केवल दिखावे के लिए आपको दोस्त कहते हैं, इसलिए जिंदगी में सच्चे व ईमानदार दोस्तों और झूठे और नकली दोस्तों (Fake Friends) के बीच अंतर जानना बेहद जरूरी हो जाता है. यहां हम आपको सच्चे दोस्तों और नकली दोस्तों के बीच अंतर जानने कुछ टिप्स बताने जा रहे हैं जो आपकी इस मुश्किल काम में मदद कर सकते हैं.

1. सच्चे दोस्त कभी भी आपके लिए बिजी नहीं होते हैं.वे अपनी बिजी लाइफ के बावजूद हमेशा ही आपके लिए वक्त निकालेंगे और जब आपको उनकी जरूरत होगी, तो वे आपके लिए होंगे, जबकि नकली दोस्त हमेशा बहाना बना रहे होंगे और आपकी जरूरत के वक्त आपसे किनारा कर लेंगे और आपको अकेला छोड़ देंगे.

ये भी पढ़ेंः 45 साल से महिलाओं के स्वास्थ्य को समर्पित डॉक्टर रेखा डावर ने दिया हेल्थ का फॉर्मूला
2. सच्चे दोस्त आपको खुशी देते हैं और आपको उनका प्यार किया जाना महसूस होता है. वे बुरे वक्त में आपको खुश रखने की पुरजोर कोशिश करेंगे और आपकी उपलब्धियों का जश्न मनाएंगे. इसके उलट नकली दोस्त आपको अकेला और दुखी महसूस कराएंगे. वे केवल आपके दरवाजे पर तभी दस्तक देंगे जब उन्हें आपकी जरूरत होगी.

3. जब भी आप सफलता प्राप्त करेंगे, सच्चे दोस्त आपके लिए खुश होंगे और आपकी उपलब्धि पर गर्व करेंगे. दूसरी ओर, नकली दोस्त आपके सफल होने पर जलन, ईर्ष्या और चिड़चिड़ाहट से भर उठते हैं.

ये भी पढ़ेंः राजनीति से लेकर घर तक, इन जगहों में है मातृसत्ता का बोलबाला





4. सच्चे दोस्त आपको आपकी खामियों और कमियों के बाद भी प्यार करते हैं. उन्हें स्वीकार करते हुए वे आपको बेहतर इंसान बनने में मदद करते हैं. वहीं नकली और झूठे दोस्त आपकी खामियों की आलोचना करेंगे और आपकी कमियां गिनाते हुए आपको नीचा दिखाने का कोई मौका नहीं छोड़ेंगे.

5. सच्चे दोस्त आपकी भावनाओं के बारे में जानने के लिए उत्सुक रहते हैं, वे आपकी तरफ पूरा ध्यान देते हैं और इसके लिए अपना वक्त भी. दूसरी ओर, नकली दोस्त शायद ही कभी आपकी भावनाओं के बारे में परेशान होते दिखेंगे. वे केवल अपने बारे में ही बात करेंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज