शोध में दावा, N-95 मास्क को इलेक्ट्रिक कुकर में डालकर कर सकते हैं रोगाणु मुक्त

शोध में दावा, N-95 मास्क को इलेक्ट्रिक कुकर में डालकर कर सकते हैं रोगाणु मुक्त
इनवायरमेंटल साइंस ऐंड टेक्नोलॉजी लेटर नामक जर्नल में शोध प्रकाशित हुआ है.

अमेरिका (America) में हुए एक रिसर्च(Resarch) में दावा किया गया है कि एन-95 मास्क(N-95 mask) को इलेक्ट्रिक कूकर में बिना पानी(Water) के 50 मिनट तक गर्म करके उसे रोगाणुमुक्त बनाया जा सकता है. इसेक बाद दोबारा इसका उपयोग किया जा सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 10, 2020, 10:26 PM IST
  • Share this:
आमेरिका (America) में भारतीय मूल के शोधार्थी और वैज्ञानिकों के एक दल ने एन-95 मास्क (N-95 Mask) को रोगमुक्त करने का दावा किया है. वैज्ञानिकों के दल ने कहा कि एन-95 मास्क (N-95 Mask) को 50 मिनट तक इलेक्ट्रिक कुकर (Electric Cooker) में बिना पानी गर्म करके इसे रोगाणुओं से मुक्त किया जा सकता है. शोधकर्ता (Resarcher) ने बताया कि ऐसा करने से मास्क की वायरस से बचाव करने की क्षमता भी कम नहीं होती है.

होम आइसोलेशन के दौरान अपने पास रखें ये चीज नहीं तो मुसीबत में पड़ सकती है जान: शोध

इनवायरमेंटल साइंस ऐंड टेक्नोलॉजी लेटर नामक जर्नल में हाल ही में यह शोध प्रकाशित हुआ है. शोध में कहा गया है कि सीमित आपूर्ति होने पर मास्क को सुरक्षित तरीके से कई बार इस्तेमाल किया जा सकता है. लेकिन अभी इनका एक बार ही इस्तेमाल किया जाता है. हवा में मौजूद वायरस से युक्त वाष्प की बूंदों और कण से बचाव के लिए एन-95 मास्क सबसे प्रभावी मास्क है.



इंडिया डॉटकाम की खबर के अनुसार अमेरिका की यूनिवर्सिटी ऑफ इलिनॉय अर्बारना-शैम्पेन के प्रोफेसर थान्ह न्गुयेन ने बताया कि कपड़े का मास्क या सर्जिकल मास्क मुंह से निकलने वाली बूंदों से बचाव करता है. लेकिन एन-95 मास्क उन बूंदों को फिल्टर कर इंसान को बचाता है, जिसमें वायरस हो सकते हैं. इलिनॉय विश्वविद्यालय के प्रोफेसर विशाल वर्मा ने बताया कि मास्क को रोगाणु मुक्त करने के और भी कई तरीके हैं, लेकिन अधिकतर में एन-95 मास्क के विषाणु युक्त वाष्प कणों को छानने की क्षमता नष्ट हो जाती है.
देश के 13 शहर, कैसे बन गए कोविड 19 के नए हॉटस्पाट?

शोधकर्ताओं ने बताया कि एन 95 मास्क को कुकर में 50 मिनट तक 100 डिग्री सेल्सियस पर गर्म करने से कोरोना वायरस सहित चार तरह के वायरस नष्ट हो जाते हैं. यह प्रक्रिया पैराबैंगनी रोशनी से रोगाणु मुक्त करने की पद्धति से भी अधिक प्रभावी है. वर्मा ने बताया कि हवा में मौजूद वाष्प कण जांच प्रयोगशाला में चैम्बर बनाकर उसमें एन-95 मास्क से गुजरने वाले कणों की गणना की है. उन्होंने कहा कि इसमें हमने देखा कि 20 बार इलेक्ट्रिक कुकर में रोगाणु मुक्त करने की प्रक्रिया किए जाने के बावजूद मास्क ठीक से काम कर रहा था. शोधकर्ताओं ने कहा कि मास्क को बिना पानी कुकर में गर्म किया जाना चाहिए न कि पानी में. कुकर के तल पर एक छोटी तौलिया रखनी चाहिए ताकि मास्क सीधे गर्म धातु के संपर्क में नहीं आए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज