अपना शहर चुनें

States

इस टिप्‍स की मदद से करें अचार का रख-रखाव, नहीं लगेगा फंगस

अचार को खराब होने से बचाने के लिए इसका सही रख-रखाव जरूरी है.
अचार को खराब होने से बचाने के लिए इसका सही रख-रखाव जरूरी है.

सब्जी की कमी पूरी कर देने वाला अचार (Pickle) स्वाद में बेमिसाल होता है, लेकिन तभी जब तक यह तरीके से रखा जाए. इसको सुरक्षित रखने के लिए कुछ बातों का ध्यान रखना जरूरी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 28, 2021, 3:57 PM IST
  • Share this:
अक्सर हम घर में कहते हैं कि कोई सब्जी नहीं है, तो अचार (Pickle) से रोटी खा लेंगे. खाने की दुनिया में अचार की अलग ही अहमियत है. कोई बिरला ही होगा जो अचार को पसंद नहीं करता होगा. अमूमन हर घर में अचार इस्तेमाल होता है. हर दिल अजीज अचार तभी बेमिसाल स्वाद दे पाता है जब इसमें फंगस न लगे, ये खराब न हो. इसे तरीके से रखा जाएं. इसके लिए अचार डालते, इसे रखते हुए कुछ बातों का ध्यान रखना जरूरी है. यहां बताएं उपायों को अपनाएं और अचार को फंगस (Fungus) से बचाएं

फंगस से बचाएंः

चटपटे अचार का सबसे बड़ा दुश्मन फंगस या फफूंद है. यह अचार में डाली गई चीजों में नमी रहने की वजह से भी लग सकता है. इसके ऊपर तेल की परत इसे ख़राब होने से बचाती है. अचार में तेल पर्याप्त मात्रा में न होने की वजह से भी यह ख़राब हो सकता है. इसे बनाते वक्त इस्तेमाल किए जाने वाले बर्तन अगर साफ न हो तो इसमें फफूंद लगे रहने की संभावना बनी रहती है. इसके लिए इस्तेमाल होने वाले फलों और सब्जियों के दागदार होने पर भी यह खराब हो सकता है. शुरुआती दिनों में बर्तन में रखें अचार को हिलाते रहना चाहिए.



इसे भी पढ़ेंः अब अंडे और अरबी को छीलने में नहीं होगी दिक्कत, अपनाएं ये स्मार्ट टिप्स


अचार भरने में बरतें सावधानीः

अचार बनाने से ही आपका काम पूरा नहीं हो जाता है. इसका स्वाद बरकरार रहे और ये लंबे वक्त तक खाया जा सकें इसके लिए इसे रखने वाले और बर्तनों और भरते वक्त सावधानी रखनी चाहिए. इसे रखने वाले बर्तन कांच या चीनी मिटटी के  होने चाहिए. स्टील के बर्तन और प्लास्टिक के डिब्बों में अचार स्टोरेज करने से बचना चाहिए. प्लास्टिक के जार में अचार रखना सेहत के हिसाब से भी अच्छा नहीं माना जाता है.

साफ- सफाई पर दें ध्यानः

अचार भरने वाले बर्तन को पहले डिटर्जेंट और गर्म पानी से अच्छी तरह धोकर साफ करें. इसके पूरी तरह सूखने के बाद ही इसमें अचार भरें.

इसे भी पढ़ेंः प्याज, लहसुन और अदरक छीलना अब होगा आसान, फॉलो करें ये गजब के ट्रिक्स


नमी से बचाव और सही सामग्री का चुनावः

अचार बनाने वाले फल. सब्जी और मसाले में नमी नहीं रहनी चाहिए. इसमें डाले जाने वाले मसाले वगैरह भी सही मात्रा और सही तरीके से डाले गए होने चाहिए. जैसे लालमिर्च, हल्दी जैसे मसाले तेज गर्म तेल में डालने से जल सकते हैं. इससे अचार काला ही नहीं पड़ता, बल्कि कड़वा भी हो सकता है. इसलिए तेल के हल्‍के गरम होने पर ही मसाले डालें. अचार के मसालों में नमी रह जाने से भी अचार जल्दी खराब हो सकता है. इसीलिए मसालों को अचार बनाने से पहले थोड़ा भून लें या धूप में रखकर नमी निकाल दें. इसी तरह मीठे अचार के लिए चाश्‍नी सही बनानी चाहिए. नमक की मात्रा सही न होने पर भी अचार जल्दी खराब होने का खतरा रहता है.

कैसे रखें अचारः

अचार तैयार होने के बाद दो -तीन दिन इसे मलमल के कपड़े से ढक कर धूप में रखें. अचार कई तरह के बनते हैं, जैसे तेल वाला अचार, बगैर तेल वाला अचार, मीठा अचार. कुछ एक महीने तो कुछ अचार पूरे साल इस्तेमाल के लिए बनाएं जाते हैं. तेल वाले अचार में सही मात्रा में तेल होना जरूरी होता है.  इसी तरह मीठे अचार में पानी नहीं रहना चाहिए. रोजाना इस्तेमाल के लिए अचार को बड़े कंटेनर से कांच के किसी छोटे कंटेनर में निकालें. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारियों पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज