इतना आसान है एशिया के खूबसूरत देशों में से एक 'कजाकिस्तान' जाना

News18Hindi
Updated: August 26, 2019, 3:10 PM IST
इतना आसान है एशिया के खूबसूरत देशों में से एक 'कजाकिस्तान' जाना
कजाकिस्तान में घूमने की कई जगहे हैं, लेकिन हम यहां के तीन प्रमुख स्थलों की बात करेंगे- अल्माटी, श्यामकेंट और नूर सुल्तान

अगर आप केवल तीन दिनों के लिए कजाकिस्तान जाने का सोच रहे हैं तो आपको ट्रांजिट वीजा जारी किया जाता है. इसे जारी करने से पूर्व आपके पास 72 घंटे के भीतर की कजाकिस्तान से इंडिया रिटर्न की टिकट होनी चाहिए

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 26, 2019, 3:10 PM IST
  • Share this:
आमिर जावेद

यदि आप विदेश घूमना चाहते हैं और मध्य एशियाई देशों में आपकी विशेष रुचि है तो कजाकिस्तान एक बढिया ऑप्शन है. कजाकिस्तान जाने के लिए दिल्ली से डायरेक्ट फ्लाइट्स उपलब्ध हैं. अन्य देशों के मुताबिक कजाकिस्तान के लिए उड़ान भरना, यहां रहना और घूमना बेहद आसान है. हर हफ्ते में तीन दिन दिल्ली से कजाकिस्तान के अल्माटी के लिए फ्लाइट्स मिलती हैं. इन फ्लाइट्स का संचालन एयर-अस्ताना नाम की एयरलाइन कंपनी करती है. भारतीयों में कजाकिस्तान जाने की रुचि और अपने देश को एक सफल पर्यटन स्थल के रूप में बनता देखते हुए यहां कि सरकार जल्द ही दिल्ली-मुंबई से अल्माटी के लिए कई अन्य फ्लाइट्स भी शुरू करने जा रही है. भारतीय एयरलाइन कंपनियां भी इसमें काफी दिलचस्पी ले रही हैं.

हालांकि अगर आप केवल तीन दिनों के लिए कजाकिस्तान जाने का सोच रहे हैं तो आपको ट्रांजिट वीजा जारी किया जाता है. इसे जारी करने से पूर्व आपके पास 72 घंटे के भीतर की कजाकिस्तान से इंडिया रिटर्न की टिकट होनी चाहिए.

अगर आप केवल कजाकिस्तान घूमना चाहते हैं तो कायदे अनुसार आपके पास टूरिस्ट वीजा होना चाहिए. कजाकिस्तान के लिए टूरिस्ट वीजा मिलना काफी आसान है. आवेदन के 5 दिनों के भीतर ही आप केवल 4,400 रुपए (60$) में दूतावास से वीजा ले सकते हैं. पिछले साल दूतावास ने कजाकिस्तान घूमने जा रहे 25000 से अधिक भारतीयों को वीजा जारी किया था. इस साल यह आंकड़ा अबतक 35000 पहुंच चुका है. वहीं कुल 80,000 लोगों को ट्रांजिट वीजा जारी किया गया है. ये आंकड़े साल दर साल बढ़ते ही जा रहे हैं. अब तो दूतावास ने ई-वीजा शुरू करके वीजा जारी करने की प्रक्रिया को भी सरल बना दिया है.

एयर अस्थाना की फ्लाइट्स पाकिस्तान, अफगानिस्तान ताजिकिस्तान और किर्गिस्तान के ऊपर से गुजरते हुए कजाकिस्तान पहुंचता है. इस दौरान आपको बेहतरीन लैंडस्केप, पर्वत, हरियाली आदि दिखाई देंगी. कजाकिस्तान के पास 2.72 मिलियन स्क्वायर किलोमीटर तक विशाल मैदान और पहाड़ी इलाके फैले हैं. कजाकिस्तान का मौसम भले ही रेगिस्तानी इलाकों की तरह लगता हो पर यह वैसा है नहीं. यहां का मौसम दिन में सूखा हुआ तो रात में ठंडा रहता है. कजाखस्तानियों को पूरे साल तापमान में बराबर बदलावों का अनुभव करना पड़ता है.

हालांकि राहत की बात ये है कि कजाकिस्तान में उतनी ठंड नहीं पड़ती जितनी उसके उत्तरी पड़ोसी रूस के कुछ हिस्सों में होता है. कजाकिस्तान में घूमने की कई जगहे हैं, लेकिन हम यहां के तीन प्रमुख स्थलों की बात करेंगे- अल्माटी, श्यामकेंट और नूर सुल्तान (जिसे पहले अस्ताना के नाम से जाना जाता था)

अल्माटी
Loading...



अल्माटी कजाकिस्तान के दक्षिणी भाग में स्थित है. दिल्ली से तीन घंटे की सीधी उड़ान के बाद आप यहीं पहुंचते हैं. तो अपने सफर की शुरुआत यहीं से करें. अल्माटी को इस देश की वित्तीय राजधानी भी कहते हैं. इस शहर में पर्यटकों के लिए बहुत कुछ रखा है.
स्वर्गारोहण कैथेड्रल (Ascension Cathedral)



अलमाटी के पानफिलोव पार्क में मुख्य आकर्षण का केंद्र है 20 वीं शताब्दी की शुरुआत में रूसी रूढ़िवादी स्वर्गारोहण कैथेड्रल (Ascension Cathedral). यह दुनिया की सबसे बड़ी लकड़ी की इमारतों में से एक है. यहां सबसे अधिक कजाकिस्तान में रहने वाले पारंपरिक रूसी की भीड़ देखी जा सकती है. यहां प्रवेश नि: शुल्क है. जहां एक तरफ महिलाओं को अपने सिर को स्कार्फ से ढकना पड़ता है. वहीं पुरुषों को सिर ढकना मना है. आस्तिक विशेष रूप से वर्जिन मैरी और सेंट निकोलस के प्रतीकों के सामने क्रास बनाते हैं. वहीं ग्रीक ऑर्थोडॉक्स भी इनके सामने अपना सिर झुकाते हैं.

श्यामबुलक पर्वत



डस्टीक एवेन्यू से केबल कार लेकर आप यहां पहुंच सकते हैं. यहां आपको लैंडस्केप के साथ-साथ अद्भुत पहाड़ी नजारे दिखाई देंगे.

चैरियन कैन्यन

चैरियन कैन्ययन, अल्माटी से लगभग 215 किमी पूर्व में चैरी नेशनल पार्क में स्थित है. A 351 और A 352 से ड्राइव करने पर यहां 4 घंटे पहुंचा जा सकता है. इस कैन्यन का आकार बेशक अमरिकी कैन्यन से कम है, लेकिन फिर भी इसे देखने दिलचस्प है.



बिग अल्माटी झील

ये बहुत सुंदर झील है. इसकी महत्वपूर्णता इसलिए भी है क्योंकि इस झील से शहर की जलापूर्ति होती है. यह एक बहुत ही दर्शनीय और आकर्षक जगह है, यह मुख्य अल्माटी शहर से 30KM की दूर पर है.

पैनफिलोव के 28 गार्डमैन

इस जगह का अपना ऐतिहासिक महत्व है. पैनफिलोव के इन 28 गार्ड्स ने यह सुनिश्चित करने के लिए कि कजाकिस्तान एक आज़ाद देश रहे, बहुत ही निर्णायक भूमिका निभाई. पैनफिलोव के इस पार्क में स्थित प्रतिमा, अनन्त लौ और अन्य मूर्तियां आज भी आजादी के लिए उनके अंतिम बलिदान की निरंतर याद दिलाती है.



 

कोक-टोबे पहाड़ी



कोक टोबी की यात्रा के लिए सबसे आसान तरीका केबल कार है. राउंड-ट्रिप का टिकट 2000 टेन है. कोक-टोबे हिल के लिए केबल कार की सवारी के बाद, आप स्थानीय स्टालों, मजेदार सवारी, रेस्तरां, एक छोटा चिड़ियाघर, एक ग्रीष्मकालीन टोबोगन सवारी करने और देखने को मिलेंगे.

सेंट्रल मार्केट



अच्छे खाने या कुछ यादें ले जाने के लिए खरीदारी करने की यह एक अच्छी जगह है. सब कुछ बेचने वाले विभिन्न प्रकार के स्टालों; भोजन, कपड़े, पारंपरिक कपड़े और यहां तक कि स्मारिका आप यहां खरीद सकते हैं

श्यामकेंट

श्यामकेंट भी कजाकिस्तान के दक्षिणी भाग में स्थित है. यह अल्माटी से 750 किमी दूर है. इस शहर में पर्यटन के लिए बहुत कुछ है. पर्यटकों के लिए तुर्किस्तान एक ज़रूरी गंतव्य है. ऐसे में आप आसानी से श्यामकेंट से एक दिन में घूमकर लौट सकते हैं.श्यामकेंट से तुर्किस्तान की दूरी मात्र 200 KM है, जिसे आप कार से 3 घंटे में आसानी से कवर कर सकते हैं.

नूरसुल्तान



नूरसुल्तान देश के उत्तर-मध्य भाग में स्थित है. देश के विभिन्न अनुसंधान और उच्च शिक्षण संस्थानों (शिक्षक प्रशिक्षण, कृषि, चिकित्सा और इंजीनियरिंग और निर्माण) का इसे गढ़ कहा जाता है. कजाख राष्ट्रपति नूर सुल्तान नज़रबायेव ने अस्ताना के व्यापक विस्तार और पुनर्निर्माण पर देश के तेल मुनाफे का बड़ा हिस्सा खर्च किया है. यहां आप कई अलग-अलग नवनिर्मित इमारतों को देख सकते हैं और वास्तुकार का आनंद ले सकते हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए यात्रा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 25, 2019, 1:21 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...