महिलाएं नवजात बच्चे और Work From Home दोनों को कैसे करें मैनेज?

महिलाएं नवजात बच्चे और Work From Home दोनों को कैसे करें मैनेज?
वर्क फ्रॉम होम के साथ बच्चे की देखभाल के लिए सबसे जरूरी चीज समय का निर्धारण है.

कई बार कुछ महिलाएं (Women) बच्चे की देखभाल (Baby care) और ऑफिस का काम (Office Work) जारी रखने के लिए किसी रिश्तेदार को बुलाती हैं या किसी मेड को घर पर रखती हैं. इन सबके बाद भी एक न्यू बोर्न बेबी को मां (Mother) की जरूरत दिन में कई बार पड़ती ही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 24, 2020, 10:37 AM IST
  • Share this:
एक नवजात बच्चे (Infant) को संभालने के लिए बहुत देखभाल और विशेषज्ञता की आवश्यकता होती है. यहां तक कि कई बार न्यू बोर्न बेबी (New Born Baby) को संभालने के लिए अनुभवी माताओं को भी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है. यह मुश्किल तब और ज्यादा बढ़ जाती है जब बच्चे की माता वर्किंग महिला (Working Lady) हो और उसे कोरोना (Corona) काल में घर से ही ऑफिस का काम (Work From Home) भी करना पड़ता हो. कई बार कुछ महिलाएं बच्चे की देखभाल और ऑफिस का काम जारी रखने के लिए किसी रिश्तेदार को बुलाती हैं या किसी मेड को घर पर रखती हैं. इन सबके बाद भी एक न्यू बोर्न बेबी को मां की जरूरत दिन में कई बार पड़ती ही है. एक वर्किंग महिला के लिए दोनों चीजों को एक साथ मैनेज करना काफी कठिन काम होता है और कई तरह की चुनौतियों का सामना भी करना पड़ता है. यहां घर से काम करने वाली महिलाओं को काम के साथ अपने नवजात बच्चे को संभालने के लिए कुछ टिप्स दिए गए हैं.

समय का निर्धारण करें
वर्क फ्रॉम होम के साथ बच्चे की देखभाल के लिए सबसे जरूरी चीज समय का निर्धारण है. ऑफिस के काम के लिए सबसे जरूरी चार से पांच घंटों का निर्धारण करें और उससे पहले बच्चे के कार्यों को समाप्त करने का लक्ष्य रखें. फीड कराना सबसे अहम बात है, इसके लिए भी समय निर्धारण आवश्यक है. काम में उलझे रहकर बच्चे की भूख और प्यास का ध्यान रखना अहम बात है. समय का निर्धारण और संतुलन स्थापित करके दफ्तर का काम और बच्चे की देखभाल दोनों हो सकते हैं.

इसे भी पढ़ेंः सिंगल मदर को इन मुश्किलों का करना पड़ता है सामना, बच्चों के साथ ऐसे बनाएं बॉन्डिंग
एक दिन पहले योजना बनाएं


नवजात बच्चे की मां और एक वर्किंग महिला की दोहरी भूमिका निभाते हुए अगले दिन के कामों की योजना पहले दिन ही तैयार करके रखें. शाम को या रात को यह काम किया जा सकता है. सुबह के समय का हर मिनट कीमती होता है इसलिए यह पहले दिन ही करना जरूरी है.

सुबह जल्दी उठकर जरूरी काम निपटाएं
घर का और किचन का काम जल्दी निपटाने के लिए सुबह जल्दी उठाना जरूरी है. ऑफिस और बच्चे के कामों से पहले घर के काम खत्म होने से एक टेंशन खत्म रहेगी. इससे दिन के पूरे रूटीन का पालन भी होगा और काम के अलावा बच्चे की देखभाल में भी परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा.

दिन में बच्चे को सोने की आदत डालें
इससे वर्क फ्रॉम होम में आसानी हो सकती है. बच्चे को दिन में आपके ऑफिस के अहम समय के दौरान सोने की आदत डाल सकते हैं. इससे बच्चे की देखभाल प्रभावित होने का डर भी नहीं रहेगा और काम भी सरलता से चलता रहेगा.

बच्चे को डायपर पहनाएं
वर्तमान समय में हम डायपर के जमाने में रहते हैं. इससे वर्क फ्रॉम होम करने वाली महिलाओं को बार-बार बच्चे के कपड़े नहीं बदलने पड़ेंगे और काम पर भी असर नहीं पड़ेगा. एक बार काम खत्म होने के बाद बच्चे के कपड़े बदलने के बारे में सोचा जा सकता है, तब तक डायपर से काम चलता रहेगा.

इसे भी पढ़ेंः Parenting Tips: बच्चे का नहीं लगता पढ़ाई में मन, अपनाएं ये टिप्स और कराएं स्टडी

थोड़े समय के लिए मेड रख सकते हैं
वर्क फ्रॉम करने वाली महिलाओं के पांच से छह घंटे ऑफिस के हिसाब से काफी अहम होते हैं. इस समय के दौरान बच्चे की देखभाल करने के लिए किसी मेड या नर्स को रखा जा सकता है. बच्चे की देखभाल प्रभावित हुए बिना काम भी जारी रह सकेगा.

पति की मदद ली जा सकती है
कई बार दफ्तरों में वीक ऑफ़ के विकल्प मिलते हैं, ऐसे में पति और खुद के वीक ऑफ़ को अलग-अलग दिन लेकर बच्चे को सम्भाला जा सकता है. पति के वीक ऑफ़ पर उनको बच्चे को मैनेज करने की जिम्मेदारी दी जा सकती है. इससे ऑफिस का काम और बच्चे की देखभाल दोनों सुचारू रूप से चल सकेंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज