लाइव टीवी

#HumanStory: दिवाली पर आंखें खो दीं, आज ब्लाइंड क्रिकेट का चैंपियन है ये शख्स

News18Hindi
Updated: October 14, 2019, 11:08 AM IST
#HumanStory: दिवाली पर आंखें खो दीं, आज ब्लाइंड क्रिकेट का चैंपियन है ये शख्स
दीपक मलिक ब्लाइंड क्रिकेट टीम (India blind cricket team) में ऑलराउंडर हैं

दूसरे बच्चों की तरह वो भी एक खिलंदड़ बच्चा था, जिसे घरवालों को तंग करना और क्रिकेट खेलना खूब पसंद था. अलसुबह से स्कूल के वक्त तक और फिर स्कूल के बाद भी खेलने की प्रैक्टिस करता.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 14, 2019, 11:08 AM IST
  • Share this:
साल 2004 में दिवाली के दिन आंखों की रौशनी चली गई लेकिन दीपक ने हार नहीं मानी. आज दीपक मलिक ब्लाइंड क्रिकेट टीम (India blind cricket team) में ऑलराउंडर हैं जो अब तक कई मैच जीत चुके हैं. पढ़ें, दीपक को.

रॉकेट मेरी दाहिनी आंख पर जाकर लगा. बाईं आंख पर भी तेज चिंगारियां लगीं. इसके बाद मेरी आंखें अस्पताल में खुलीं- अपने आसपास अंधेरा देखने के लिए. मैं कुछ भी नहीं देख पा रहा था. तब मैं 9 साल का था. जोर-जोर से चीखने लगा. तब भी मुझे ये तकलीफ नहीं थी कि मैं देख नहीं सकता. मैं रो रहा था कि अब मैं क्रिकेट नहीं खेल सकूंगा.

मैं छह साल का था. हमारे गांव में सब लोग कबड्डी और कुश्ती खेलते लेकिन मुझे क्रिकेट पसंद था. चाचा-ताऊ लोग कहते कि कुश्ती हरियाणा के मर्दों का खेल है. क्रिकेट शहरी खेल है, इसमें कुछ नहीं रखा. फिर भी मैं क्रिकेटर बनने के सपने देखता. सुबह उठकर जैसे-तैसे मुंह धोता और दौड़ लगा देता. गली में ही दोस्तों के घर थे, सबके नाम पुकारता हुआ दौड़ता तो खेल के मैदान में जाकर ही सांस लेता था.

क्रिकेट खेलना हमारे गांव में उतना पसंद नहीं किया जाता था इसलिए हमारे पास ढंग की बैट या बॉल भी नहीं थी. लेकिन खेलने का जुनून इतना था कि तब तक खेलते, जब तक बड़ों से डांट न मिल जाए. मैं टीवी पर सचिन-धोनी को देखते हुए दिल ही दिल में उनकी तरह बनना चाहता. उनकी स्टाइल फॉलो करता था लेकिन ऊपरवाले को मेरी इच्छा को परखना बाकी था. वर्ष 2004 की बात है. दिवाली का दिन था. मैं रॉकेट छोड़ रहा था कि तभी वो मेरी दाहिनी आंख पर जाकर लगा. बाईं आंख पर भी तेज चिंगारियां लगीं.

दिल्ली के ब्लाइंड स्कूल में मुझे पहली क्लास में एडमिशन मिला


मेरी आंखें अस्पताल में खुलीं- अपने आसपास अंधेरा देखने के लिए. तब मैं 9 साल का था. अस्पताल से लौटने के बाद मेरा पूरा वक्त अपने कमरे में बीतने लगा. मैं रोता रहता. अपने ही घर में मैं एक कदम बिना सहारे के नहीं चल पाता था.

वो वक्त बेहद मुश्किल था. मेरी एक आवाज पर सुबह घर से दौड़ पड़ने वाले दोस्त अब घर नहीं आते थे. आते भी थे तो हमारे पास करने को कोई बात नहीं होती थी. आंखों की रौशनी थी, तब तक दोस्त थे, उनके जाते ही दोस्त भी चले गए. मैं डिप्रेशन में था. दो सालों तक स्कूल नहीं गया. तब घरवालों ने सोनीपत के छोटे से गांव से दिल्ली आने का फैसला लिया.
Loading...

2008 में दिल्ली के ब्लाइंड स्कूल में मुझे पहली क्लास में एडमिशन मिला. मैंने ब्रेल सीखी. एक नई रौशनी में पढ़े हुए को दोबारा पढ़ना सीखा.

इसने मुझे दोबारा जीने का हौसला दिया. अब मैं बिना देखे भी अपने काम खुद से करने लगा था. ऐसे ही एक दिन ब्लाइंड क्रिकेट के बारे में पता चला. मैंने सर से रिक्वेस्ट किया कि मुझे भी ये खेल सिखाएं. पहले तो उन्होंने मना किया लेकिन फिर मेरी जिद को देखते हुए मुझे ट्रेन करना शुरू कर दिया.

वो दिन न होता तो शायद आज मैं अपने जुनून को हकीकत में बदलता न देख पाता


अब मेरे लिए क्रिकेट खेलना भी ब्रेल सीखने की तरह था. सीखे हुए को फिर-फिर दोहरा रहा था.

ब्लाइंड क्रिकेट खेलने की तकनीक थोड़ी सी अलग होती है, जल्द ही मैंने वो सब तकनीकें सीख लीं. अच्छा खेलने के कारण मेरा ब्लाइंड क्रिकेट टीम में चयन हो गया. अब तक मैं इस टीम के साथ 2014 और 2018 में पाकिस्तान को हराकर वर्ल्ड कप जीत चुका हूं. हमारी टीम ने 2012 और 2017 में T20 वर्ल्ड कप भी जीता. हर साल दिवाली पर मुझे वही दिन याद आता है, जब मेरी आंखों की रौशनी चली गई, मुझे एक नया रास्ता देने के लिए.

वो दिन न होता तो शायद आज मैं अपने जुनून को हकीकत में बदलता न देख पाता.

और पढ़ने के लिए क्लिक करें-

#HumanStory: भाड़े पर रोनेवाली की दास्तां- दिनभर रोने के मिलते 50 रुपये

#HumanStory: सेक्सोलॉजिस्ट का क़बूलनामा: पहचान छिपाने को मरीज हेलमेट पहन आते और मर्ज़ बताते हैं

#HumanStory: लोग समझाते- लड़का गे होगा, तभी वर्जिनिटी जांचने से कतरा रहा है

#HumanStory: गटर साफ करते हुए कभी पैरों पर कनखजूरे रेंगते हैं तो कभी कांच चुभता है 

#HumanStory: दास्तां स्पर्म डोनर की- ‘जेबखर्च के लिए की शुरुआत, बच्चे देखकर सोचता हूं, क्या मेरे होंगे ये?’ 

#HumanStory: कहानी उस गांव की, जहां पानी के लिए मर्द करते हैं कई शादियां

#HumanStory: क्या होता है जेल की सलाखों के पीछे, रिटायर्ड जेल अधीक्षक की आपबीती

#HumanStory: सूखे ने मेरी बेटी की जान ले ली, सुसाइड नोट में लिखा- खेत मत बेचना 

#HumanStory: एक साथ 11 मौतों के बाद ये है 'बुराड़ी के उस घर' का हाल, मुफ्त में रहने से भी डरते हैं लोग

#HumanStory: नशेड़ी का कुबूलनामा: सामने दोस्तों की लाशें थीं और मैं उनकी जेब से पैसे चुरा रहा था

(इस सीरीज़ की बाकी कहानियां पढ़ने के लिए human story पर  क्लिक करें.) 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ह्यूमन स्‍टोरी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 14, 2019, 10:32 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...