Hydroponics Farming: टेक्नोलॉजी की मदद से बिना मिट्टी के उगाएं पौधे, ऐसे करें स्मार्ट गार्डनिंग

Hydroponics Farming: टेक्नोलॉजी की मदद से बिना मिट्टी के उगाएं पौधे, ऐसे करें स्मार्ट गार्डनिंग
इस फार्मिंग कॉनसेप्ट से घर के किसी भी कोने में या दीवार पर वर्टिकल्स गार्डनिंग की जा सकती है.

स्मार्ट गार्डन Hydroponics Farming Concept का इस्तेमाल करता है. इस फार्मिंग कॉनसेप्ट में बिना मिट्टी के कम पानी की लागत से, किसी भी मौसम और किसी भी शहर में बिना किसी पेस्टीसाइड के साल भर हेल्दी और न्यूट्रशियस सब्जियां, सुंदर फूल उगाए जा सकते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated : October 10, 2020, 4:27 pm IST
  • Share this:

    इस लॉकडाउन (Lockdown) ने सबको अच्छे खान पान और हेल्दी फूड (Healthy Food) की वैल्यू समझा दी है. देश अब अनलॉक (Unlock) हो रहा है तो फिर से कामकाज और दौड़ती भागती जिंदगी में लौट रहे लोगों को स्मार्ट और ज्यादा Nutritious सब्जियां, फ्रूट्स और हर्ब्स की जरूरत है. ऐसे में स्मार्ट गार्डन (Smart Garden) आपकी मदद कर सकता है. जी हां ये समय टेक-प्लांट्स (Tech Plants) का है. बिना मिट्टी के, बिना किसी गार्डनिंग के ज्ञान के सिर्फ टेक्नोलॉजी की मदद से आप अपनी फेवरेट सब्जियां और फूल कमरे के किसी भी कोने में उगा सकते हैं क्योंकि यह स्मार्ट गार्डन बनाने का समय है. समय की मांग को देखते हुए ही Agro2o नामक कंपनी ने भारत में स्मार्ट गार्डनिंग की शुरुआत की है.

    मिट्टी रहित फार्मिंग
    कंपनी का स्मार्ट गार्डन Hydroponics Farming Concept का इस्तेमाल करता है. इस फार्मिंग कॉनसेप्ट में बिना मिट्टी के कम पानी की लागत से, किसी भी मौसम और किसी भी शहर में बिना किसी पेस्टीसाइड के साल भर हेल्दी और न्यूट्रशियस सब्जियां, सुंदर फूल उगाए जा सकते हैं. इस स्मार्ट गार्डनिंग के लिए टेक्नोलॉजी का सहारा लिया जा रहा है. Hydroponic फार्मिंग सिस्टम को अक्सर मिट्टी रहित फार्मिंग भी कहा जाता है. इस तरह की फार्मिंग में किसी भी पौधे की जड़ को Liquid Nutrient Solution में उगाया जाता है. इस Solution में उस पौधे को उगाने के लिए वो सारे Nutrients होते हैं जिसकी उसे जरूरत होती है.

    इसे भी पढ़ेंः प्रदूषण में कमी होने से स्कूली बच्चों की मेमोरी बढ़ सकती है: स्टडी



    पानी की जरूरत पड़ने पर खुद ब खुद अलर्ट
    इस फार्मिंग कॉनसेप्ट से घर के किसी भी कोने में या दीवार पर वर्टिकल्स गार्डनिंग की जा सकती है. स्टार्टअप का Renaissance नामक स्मार्ट गार्डन डिवाइस खुद ब खुद अपना ध्यान रखेगा. यह टेक प्लांट पानी की जरूरत पड़ने पर खुद ब खुद अलर्ट भी जारी करता है. इस स्मार्ट गार्डन में बिना मौसम की चिंता किए साल भर 12 किस्मों की हरी पत्तेदार सब्जियां, हर्ब, पसंदीदा सब्जियां या ओरनामेंटल फूल उगाए जा सकते हैं. यह गार्डन किसी भी घर, होटल, ऑफिस या एयरपोर्ट पर ताजा हवा और हेल्थी खानपान के लिए बिल्कुल परफेक्ट है.

    इसे भी पढ़ेंः क्या होता है इम्पोस्टर सिंड्रोम, जानें इससे महिलाएं कैसे निपटें

    स्मार्ट गार्डन का कॉन्सेप्ट बनाने में 3 साल लगे
    इस फार्मिंग कॉन्सेप्ट में Microsoft और Amazon जैसी बड़ी बड़ी कंपनियां भी इंवेस्ट कर रही हैं. भारत में Agro2o स्टार्टअप को इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्रालय और कृषि मंत्रालय से भी सराहना और प्रोत्साहन मिल चुका है. कंपनी के फाउंडर यश व्यास की माने तो भारत में स्मार्ट गार्डन का कॉन्सेप्ट लॉन्च करने के लिए उन्होंने और उनकी टीम ने 3 साल रिसर्च और डेवलपमेंट पर लगाए. आज उनकी मेहनत रंग लाई है और स्मार्ट गार्डन को देश में बहुत बढ़िया रिस्पॉन्स मिल रहा है. लोग गार्डन प्री बुक करवा रहे हैं.