ब्रेस्टफीड कराने में होती है दिक्कत तो जरूर खाएं ये चीजें, मां और बच्चे दोनों पर दिखेगा असर

ब्रेस्टफीड कराने में होती है दिक्कत तो जरूर खाएं ये चीजें, मां और बच्चे दोनों पर दिखेगा असर
वायरस के डर से ब्रेस्टफीडिंग रोकने की कोई जरूरत नहीं है. अब तक ब्रेस्ट मिल्क के जरिए वायरस फैलने का एक भी मामला सामने नहीं आया है.

डिलीवरी के बाद दूध की कमी होने पर स्तनपान कराने में काफी दिक्कत आती है. ऐसे में मां को बच्चे के जन्म से पहले ही अपने खानपान का विशेष ध्यान रखना पड़ता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 12, 2020, 4:08 PM IST
  • Share this:
ब्रेस्ट फीडिंग (स्तनपान) बच्चे के साथ-साथ मां के लिए भी बहुत फायदेमंद होती है. इससे मां, ब्रेस्ट संबंधी कई तरह की बीमारियों से बची रहती है. वहीं बच्चे के लिए मां का दूध अमृत के समान होता है. यह बच्चे को कई तरह की बीमारियों से दूर रखता है. साथ ही बच्चे का इम्यूनिटी सिस्टम भी मजबूत बनाता है. हालांकि कई बच्चे अपनी मां का दूध नहीं पी पाते हैं. ऐसा इसलिए होता है क्योंकि कई बार मां ब्रेस्ट फीड कराने में असमर्थ होती है, तो कई बार मां में दूध नहीं बन पाता है.

डिलीवरी के बाद दूध की कमी होने पर स्तनपान कराने में काफी दिक्कत आती है. ऐसे में मां को बच्चे के जन्म से पहले ही अपने खानपान का विशेष ध्यान रखना पड़ता है. ब्रेस्टफीड कराते समय मां को अपने खानपान में बहुत ज्यादा बदलाव करने की जरूरत नहीं होती. इस समय कुछ जरूरी चीजें हैं जिनका सेवन करना मां के लिए बहुत जरूरी होता है. ऐसे वक्त में मां के लिए पोषक तत्वों का सेवन करना बहुत जरूरी होता है. आइए आपको बताते हैं कि स्तनपान के दौरान मां को क्या-क्या खाना चाहिए.

इसे भी पढ़ेंः इन खास चीजों को खाते समय जरूर रखें कुछ बातों का ख्याल, बीमारियों से होगा बचाव



बैलेंस्ड डाइड जरूरी
इस समय बैलेंस्ड डाइड जरूर लें जिसमें सेहतमंद खाद्य पदार्थों का मिश्रण हो. इसमें आप स्टार्चयुक्त भोजन जैसे चावल, ब्रेड, रोटी, आलू, ओट्स सूजी और पास्ता का सेवन कर सकती हैं. ऐसा डाइट चुनें जिसमें आपको अतिरिक्त पोषण और फाइबर मिल सके.

डेयरी प्रोडक्ट
इस समय डेयरी उत्पाद जैसे दूध, दही या योगर्ट का सेवन भरपूर मात्रा में करना चाहिए. यदि आपको लैक्टोज से परेशानी है तो डॉक्टर से सलाह लेकर ही इनका सेवन करें.

हरी सब्जियां, फल और दाल
इस समय भरपूर प्रोटीन के लिए दाल, चने, अंडे, मछली और फैट लेस मीट का सेवन जरूर करें. विटामिन ए की कमी न हो इसके लिए खाने में गहरे रंग वाली सब्जियों और फल जैसे पालक, बथुआ, गाजर, ब्रोकली, लाल शकरकंद, शिमला मिर्च, चुकंदर, टमाटर, पपीता, आम को जरूर शामिल करें.

शतावर का हलवा
मसूर की दाल दूध बढ़ाने में मददगार होती है. ठंड के मौसम में तीसी का दूध भी फायदा करता है. इसके अलावा शतावर का हलवा खाने से भी दूध बढ़ता है. इसी तरह जीरा पीस कर गाय के दूध के साथ लेने से भी दूध बढ़ता है. जीरे में आयरन भरपूर मात्रा में होता है.

सौंफ का पानी
सौंफ भी स्तन दूध की आपूर्ति बढ़ाने का एक उपाय है. शिशु को गैस और पेट दर्द की परेशानी से बचाने के लिए भी मां को सौंफ खाने के लिए दी जाती है. दूध बढ़ाने के लिए सौंफ का पानी भी काफी फायदेमंद होता है. यह एस्ट्रोजन के स्तर को बढ़ाता है जो दूध बनाने में मददगार होता है.

तिल के बीज
तिल के बीज कैल्शियम का एक बहुत बड़ा स्त्रोत है. स्तनपान कराने वाली मां के लिए कैल्शियम एक जरूरी पोषक तत्व है. यह आपके बच्चे के विकास के साथ-साथ आपके स्वास्थ्य के लिए भी बहुत जरूीर है. दूध बढ़ाने के लिए आप तिल के लड्डू खा सकती हैं या फिर काले तिल को पूरी, खिचड़ी, बिरयानी और दाल के व्यंजनों में डाल सकती हैं.

इसे भी पढ़ेंः मोटापे से हैं परेशान तो पिएं ये वेजिटेबल जूस, वजन होगा कंट्रोल

ड्राई फ्रूट्स
कहते हैं कि ड्राई फ्रूट्स दूध के उत्पादन को बढ़ावा देते हैं. इनमें भरपूर मात्रा में कैलोरी, विटामिन और खनिज होते हैं, जिससे ये मां को एनर्जी व पोषक तत्व प्रदान करते हैं. इन्हें स्नैक्स के तौर पर भी खाया जा सकता है और ये हर जगह आसानी से उपलब्ध होते हैं. साथ ही स्तनपान कराने वाली मां के लिए पंजीरी, लड्डू और हलवे जैसे पारंपरिक भोजनों में ड्राई फ्रूट्स का इस्तेमाल किया जाता है.

Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारियों पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज