लाइव टीवी

आप भी हैं सिंगल पैरेंट तो आड़े आ सकती है ये चुनौतियां

News18Hindi
Updated: September 20, 2019, 12:46 PM IST
आप भी हैं सिंगल पैरेंट तो आड़े आ सकती है ये चुनौतियां
अगर आप एक नए सिंगल पैरेंट हैं या बनने की सोच रहे हैं तो इस बात का विशेष ध्यान रखना होगा. रास्ते में आने वाली चुनौतियों को पहले से जान लेना बेहतर है, ताकि उससे निपटने को हम तैयार रहें

अगर आप एक नए सिंगल पैरेंट हैं या बनने की सोच रहे हैं तो इस बात का विशेष ध्यान रखना होगा. रास्ते में आने वाली चुनौतियों को पहले से जान लेना बेहतर है, ताकि उससे निपटने को हम तैयार रहें

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 20, 2019, 12:46 PM IST
  • Share this:
पैरेंटिंग अपने आप में एक चुनौती है, लेकिन ये चुनौती डबल हो जाती है जब आप सिंगल पैरेंट हों. ऐसा इसलिए क्योंकि पैरेंटिंग एक फुल टाइम जॉ़ब है. इसमें दो लोगों की आवश्यकता होती ही है. ऐसे में जब सारी जिम्मेदारी एक इंसान के शख्स पर आ जाती है तो चुनौतियों का दोगुना हो जाना स्वाभाविक है.खासकर यदि आप भारत में रहते हैं जहाँ एकल माता-पिता होना ही एक बड़ी परेशानी है.
इन सब के बीच अगर आप एक नए सिंगल पैरेंट हैं या बनने की सोच रहे हैं तो इस बात का विशेष ध्यान रखना होगा. रास्ते में आने वाली चुनौतियों को पहले से जान लेना बेहतर है, ताकि उससे निपटने को हम तैयार रहें.

शादी के ऑफर

अगर आप एक सिंगल पैरेंट हैं और इंडियन सोसायटी में रहते हैं तो पूरा समाज आपकी शादी कराने के पीछे पड़ जाएगा. सभी आपको शादी करने के फायदे बताने लगेंगे और शादी न करने के नुकसान गिना गिना कर मन भिन्ना देंगे.

लीगल पेपरवर्क

ये तो हम सभी जानते हैं कि भारत में बच्चे को गोद लेने की प्रक्रिया कितनी पेचीदा है. ऐसे में बच्चे के सभी कागजी कार्रवाई में माता-पिता दोनों के नाम और विवरण शामिल करने होते हैं. यह एक परेशानी हो सकती है यदि आप एकल माता-पिता हैं या एकल मां हैं. सभी कानूनी दस्तावेजों में बच्चे के पिता के नाम और विवरण की आवश्यकता होती है. तलाक के बाद बच्चे की कस्टडी को लेकर भी लंबी कानूनी प्रक्रिया से होकर गुजरना पड़ता है. ये सभी अड़चन आपकी हिम्मत को तोड़ सकते हैं.

मल्टी टास्किंग होने की डिमांड
Loading...

ऑफिस के साथ ही साथ घर में भी आपको मल्टी टास्कर की भूमिका निभानी पड़ेगी. अगर आप एकल पिता हैं तो मां की और एकल मां हैं तो पिता की भूमिका भूी निभानी होगी.

सोशल लाइफ की छुट्टी

ऑफिस के बाद अपने बच्चे को वक्त देने में आप इतने व्यस्त हो जाएंगे कि आपकी सोशल लाइफ तो पूरी तरह खत्म हो जाएगी.

ओवरप्रोटेक्टिव बच्चे

अगर आप सिंगल पैरेंट हैं तो आपके बच्चे आपको लेकर ओवरप्रोटेक्टिव और पोजेसिव रहेंगे.

रिश्तेदार

सिंगल पैरेंट होने की सबसे बड़ी चुनौती यही है. अक्सर लोग अपने रिश्तेदारों पर अटूट विश्वास कर के अपने बच्चे को उनके पास छोड़ देते हैं. लेकिन यह बिल्कुल भी गलत है. आपको कोई अंदाजा नहीं कि वह बच्चा वहां कैसे रह रहा है या रिश्तेदारों का उसके प्रति क्या व्यवहार है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लाइफ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 20, 2019, 12:46 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...