लाइव टीवी

कैंसर के खतरों से बचना है तो आज ही बदल दें अपनी ये 7 आदतें

News18Hindi
Updated: November 20, 2019, 7:09 PM IST
कैंसर के खतरों से बचना है तो आज ही बदल दें अपनी ये 7 आदतें
आजकल ज्यादातर लोग कैंसर का इलाज कराते नजर आते हैं और इसका सबसे बड़ा कारण है उनकी लाइफस्टाइल.

कैंसर से बचने के लिए 3 बड़े उपाय तो लोगों को पता ही है जिनमें अच्छा और हेल्दी खाना, नियमित एक्सरसाइज करना और धूम्रपान न करना शामिल है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 20, 2019, 7:09 PM IST
  • Share this:
कैंसर इन दिनों एक खतरनाक बीमारी बन चुकी है और इसके मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है. आजकल ज्यादातर लोग कैंसर का इलाज कराते नजर आते हैं और इसका सबसे बड़ा कारण है उनकी लाइफस्टाइल. आपको बता दें कि कैंसर के लक्षण कई बार बहुत देर से दिखाई देते हैं. इसलिए इसका इलाज मुश्किल हो जाता है. आज दुनिया में 200 से भी ज्यादा प्रकार के कैंसर पाए जाते हैं. कई लोग हर साल कैंसर के चलते अपनी जान गंवा रहे हैं.

रिसर्च में भी खुलासा हुआ है कि इतनी बड़ी संख्या में कैंसर रोगियों के बढ़ने का कारण लोगों की जीवनशैली में कुछ बदलाव हैं. अगर आज भी लोग अपनी कुछ आदतें बदल लें, तो वह कैंसर के खतरे को रोक सकते हैं. वैसे कैंसर से बचने के लिए 3 बड़े उपाय तो लोगों को पता ही है जिनमें अच्छा और हेल्दी खाना, नियमित एक्सरसाइज करना और धूम्रपान न करना शामिल है. मगर हर तरह के कैंसर से बचने के लिए इसके अलावा भी कुछ आदतें हैं, जिन्हें बदलना बेहद जरूरी है. आइए आपको बताते हैं कौन सी हैं वो आदतें.

इसे भी पढ़ेंः फ्रिज में भूलकर भी न रखें ये चीजें, खतरे में पड़ सकती है आपकी जिंदगी

मांसाहारी लोग रहें सतर्क

अगर आप मांसाहारी हैं, तो आपको ज्यादा सावधानी बरतने की जरूरत है. मीट को बहुत अधिक तापमान पर पकाकर खाने जैसे फ्राई करने या ग्रिल करके खाने से कैंसर का खतरा बढ़ा सकता है. दरअसल बहुत अधिक तापमान के कारण मीट में हेट्रोसाइक्लिक एमाइन्स (HCAs) और पॉलीसाइक्लिक एरोमैटिक हाइड्रोकार्बन्स (PAHs) की मात्रा काफी बढ़ जाती है. चिकित्सकों की मानें तो इस तरह के केमिकल्स कैंसर को बढ़ावा देते हैं. मीट खाने से पहले इस बात का ध्यान जरूर रखें.

केमिकल और पेस्टिसाइड्स वाले अनाज से बचें
आजकल अनाज और सब्जियां उगाने में ढेर सारे हानिकारक केमिकल्स और फर्टिलाइजर्स का प्रयोग किया जाता है. इनमें कुछ ऐसे तत्व पाए जाते हैं, जो कैंसर का कारण बनते हैं. इस तरह के पेस्टिसाइड्स के प्रयोग से उगने वाले अनाज और सब्जियां खाना आपके लिए खतरनाक साबित हो सकता है. ग्लाइफोसेट एक ऐसा ही केमिकल है, जो पौधों के कीड़े मारने के काम आता है. रिसर्च में खुलासा ह चुका है कि ग्लाइफोसेट का इस्तेमाल शरीर में कैंसर को बढ़ावा दे सकता है. इससे बचाव के लिए जरूरी है कि आप ऑर्गेनिक फलों, सब्जियों और अनाजों का सेवन करें.घर को रखें साफ
ये तो सभी जानते हैं कि फेफड़ों और मुंह के कैंसर का सबसे बड़ा कारण स्मोकिंग करना है. लेकिन क्या आप जानते हैं कि इसका दूसरा सबसे आम कारण रेडॉन है. रेडॉन एक तरह की गैस होती है, जो बहुत सारे लोगों में कैंसर का कारण बनती है. कई बिल्डिंग मैटीरियल में ऐसे तत्व होते हैं, जो रेडॉन गैस रिलीज करते हैं. अगर घर बनाते समय आपने इसमें यूरेनियम, थोरियम या रेडियम का इस्तेमाल ज्यादा किया है, तो दीवारों और छतों से रेडॉन गैस धीरे-धीरे रिसती रहती है. इसका खतरा उन घरों में ज्यादा होता है, जहां हवा के निकलने के लिए (वेंटिलेशन) पर्याप्त जगह नहीं होती है. रेडॉन गैस सांस के द्वारा आपके फेफड़ों में पहुंच जाती है और फेफड़ों के कैंसर का कारण बन सकती है. अगर घर में किसी दीवार से पानी रिस रहा है, दीवार फट गई है या प्लास्टर आदि उखड़ गया है, तो इसकी मरम्मत जरूर करवाएं और घर में वेंटिलेशन के लिए खिड़की और दरवाजे सही जगह लगवाएं.

शराब से रहें दूर
अल्कोहल का सेवन करना जहां कुछ लोगों के लिए फैशन बन गया है तो कुछ लोग इसे अपनी आदत बना लेते हैं. आपको बात दें कि शराब पीने से भी कैंसर का खतरा बढ़ सकता है. कुछ लोग मानते हैं कि थोड़ी मात्रा में अल्कोहल लेना अच्छा रहता है लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं है. अल्कोहल की ज्यादा मात्रा या लंबे समय तक थोड़ी-थोड़ी मात्रा के कारण कई तरह के कैंसर हो सकते हैं, जैसे- हेपाटोसेल्युलर कार्सिनोमा, एसोफेगल, ब्रेस्ट और आंतों का कैंसर. इसलिए सेहत के लिहाज से अच्छा यही है कि आप अल्कोहल का सेवन बिल्कुल बंद कर दें.

सनस्क्रीन जरूर लगाएं
धूप की अल्ट्रावॉयलेट किरणें भी त्वचा के कैंसर का कारण बन सकती हैं. अगर आपका काम ऐसा है कि आपको बहुत देर तक धूप में रहना पड़ता है, तो आपको त्वचा पर सनस्क्रीन जरूर लगाना चाहिए. गर्मियों ही नहीं, सर्दियों की हल्की धूप में भी त्वचा के कैंसर से बचने के लिए आप सनस्क्रीन का इस्तेमाल जरूर करें. अगर आप विटामिन डी के लिए धूप में बैठना चाहते हैं तो इसके लिए सुबह की हल्की धूप बेहतर होती है.

हेल्दी खाना खाएं
खानपान का आपकी सेहत पर बहुत अधिक असर पड़ता है. हालांकि अक्सर लोगों को ये नहीं पता होता है कि हेल्दी डाइट का मतलब क्या है. फलों और सब्जियों में ऐसे ढेर सारे एंटीऑक्सीडेंट्स होते हैं, जो आपके शरीर को कैंसर से बचाते हैं. रिसर्च में कुछ ऐसी सब्जियां भी पाई गई हैं, जो कैंसर को रोकने में प्रभावी रूप से फायदेमंद हैं, जैसे- ब्रोकली, बंद गोभी, फूल गोभी, बीन्स, केल (Kale), मूली, गाजर और टमाटर. सब्जियों में कैरोटेनॉइड्स, विटामिन्स और फाइबर के अलावा ग्लूकोसाइनोलेट्स (glucosinolates)
होते हैं, जो कैंसर को शरीर में पनपने से रोकते हैं.

इसे भी पढ़ेंः हरी सब्जियां ही नहीं लाल सब्जियां भी आपको बना सकती हैं फिट, ये रहे फायदे

कैल्शियम की कमी से बचें
अगर शरीर में पर्याप्त मात्रा में कैल्शियम हो, तो कोलोरेक्टल कैंसर से बचा जा सकता है. कैल्शियम की कमी होने पर इसकी संभावना बढ़ जाती है. भारत में महिलाओं में बहुत अधिक मात्रा में कैल्शियम की कमी पाई जाती है. हालांकि कैल्शियम की कमी पूरी करने के लिए सप्लीमेंट्स बिना डॉक्टर की सलाह के नहीं लेना चाहिए. इसकी जगह आप कैल्शियम वाले फूड्स खा सकते हैं.

Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लाइफ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 20, 2019, 7:09 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर