Home /News /lifestyle /

प्रेग्नेंसी में नवरात्रि का व्रत रखना है तो इन बातों का रखें ध्यान, जानें क्या खाएं

प्रेग्नेंसी में नवरात्रि का व्रत रखना है तो इन बातों का रखें ध्यान, जानें क्या खाएं

डॉक्टर भी सलाह देते हैं कि थोड़े-थोड़े गैप में गर्भवती महिला को कुछ ना कुछ खाते रहना चाहिए. (प्रतीकात्मक फोटो- Shutterstock.com)

डॉक्टर भी सलाह देते हैं कि थोड़े-थोड़े गैप में गर्भवती महिला को कुछ ना कुछ खाते रहना चाहिए. (प्रतीकात्मक फोटो- Shutterstock.com)

Fasting During Pregnancy : अगर गर्भवती महिला व्रत रखना चाहती हैं, मान्यताओं के अनुसार वो दो दिन या एक दिन का उपवास रख सकती हैं. बता दें कि विशेष परिस्थितियों (बीमार होने-गर्भवती होने) में अगर पहले और अंतिम नवरात्रि का व्रत रखा जाता है, तो वो भी नवरात्रि के 9 उपवास रखने जितना ही फल देता है.

अधिक पढ़ें ...

    Fasting During Pregnancy :  प्रेग्नेंसी के दौरान गर्भवती महिला (Pregnant Women) का पूरा ध्यान रखना बहुत जरूरी है. इस दौरान उनकी खुराक का भरपूर ध्यान रखा जाता है. इसलिए पूरे 9 महीने तक डॉक्टर आयरन और कैल्शियम की गोलियां देते हैं. इस दौरान आयरन युक्त भोजन, दूध, दही, सलाद जैसी पौष्टिकता से भरपूर चीजों के सेवन से ही गर्भवती महिला और होने वाले बच्चे की सेहत सही रहती है. डॉक्टर भी सलाह देते हैं कि थोड़े-थोड़े गैप में गर्भवती महिला को कुछ ना कुछ खाते रहना चाहिए. ताकि शरीर में ग्लूकोज की कमी ना होने पाए. इसी कारण प्रेगनेंसी के दौरान महिलाओं को फास्टिंग यानी व्रत-उपवास की सलाह नहीं दी जाती है. क्योंकि आज से शारदीय नवरात्रि (Navratri 2021) शुरू हो चुकी हैं. तो जो महिलाएं प्रेग्नेंट हैं और वो व्रत रखने की सोच रही हैं, तो  उन्हें इन बातों का जरूर ध्यान रखना चाहिए.

    नवरात्रि के 9 दिन तक भक्त मां दुर्गा की अराधना करते हैं, वो सुबह से शाम तक भूखे रहते हैं. फिर रात को मां का पूजन करके अपना व्रत खोलते हैं. और उसके बाद व्रत का भोजन लेते हैं. जिसमें कुट्टू के आटे से बनी चीजें, आलू, सेंधा नमक, दही, फल आदि शामिल होते हैं. इस दौरान अन्न व प्याज लहुसन का सेवन वर्जित होता है.

    यह भी पढ़ें- वर्कआउट के बाद अगर शरीर में होता है दर्द, तो ऐसे मिलेगी राहत

    ऐसे में गर्भवती महिलाओं को उपवास नहीं रखने की सलाह दी जाती है. लेकिन फिर भी अगर गर्भवती महिला व्रत रखना चाहती हैं, मान्यताओं के अनुसार वो दो दिन या एक दिन का उपवास रख सकती हैं. बता दें कि विशेष परिस्थितियों (बीमार होने-गर्भवती होने) में अगर पहले और अंतिम नवरात्रि का व्रत रखा जाता है, तो वो भी नवरात्रि के 9 उपवास रखने जितना ही फल देता है.

    क्या कर सकते हैं?
    हमारी दादी-नानी के जमाने से कहा जाता है कि व्रत को लेकर गर्भवती महिलाओं को बहुत सावधान रहना चाहिए, क्‍योंकि इस समय मां को अपनी डेली डाइट से ज्यादा पोषण की जरूरत होती है, ताकि गर्भ में पल रहे बच्चे के विकास में कोई रुकावट ना आए. ऐसे में अगर कई गर्भवती महिला उपवास या व्रत करती हैं तो उन्हें थोड़ी थोड़ी देर में कुछ ना कुछ (व्रत आहार) खाते रहना होगा. कोशिश करें कि ऐसी चीजों का सेवन ज्यादा करें जिनमें कार्बोहाइड्रेट्स हों.

    यह भी पढ़ें- पहाड़ की वादियों में छिपे हैं कई बीमारियों से बचने के राज

    गर्भवती महिलाएं ​व्रत में क्‍या खाएं

    – हाई कार्बोहाइड्रेट फूड जैसे आलू और साबुदाने वाली चीजें, पालक, पत्तागोभी, टमाटर, शिमला मिर्च, घिया आदि के साथ ले सकते हैं. .

    – कुट्टू के आटे में प्रोटीन विटामिन बी कॉम्‍प्‍लेक्‍स और फास्‍फोरस, मैग्‍नीशियम, आयरन और जिंक होता है. व्रत में इसका सेवन किया जाता है. प्रेग्नेंट महिलाएं चाहें तो इसकी पूरी की जगह रोटियां खा सकती हैं.

    – समा के चावल की खीर या खिचड़ी खा सकती हैं. साबूदाना वड़ा, आलू के चिप्‍स ले सकती हैं.

    – नवरात्रि में गर्भवती महिलाओं के लिए मखाने की खीर खाना भरपूर पोषण देने वाली डाइट है.

    – मौसमी फल और सब्जियां खाएं. ध्यान रखें कि थोड़ी-थोड़ी देर में खाती रहें और खुद को भूखा न रखें.

    – जितना हो सके तरल पदार्थ लेना सेहत फायदेमंद रहेगा. नारियल पानी, नींबू पानी और छाछ पिएं.

    (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारियों पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

    Tags: Health, Health News, Women Health

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर