बच्चों को घर पर छोड़ना हो अकेले तो इन बातों का जरूर ध्यान रखें

News18Hindi
Updated: August 31, 2019, 5:58 PM IST
बच्चों को घर पर छोड़ना हो अकेले तो इन बातों का जरूर ध्यान रखें
छोटे बच्चों को अकेले घर पर छोड़ना संभव नहीं होता लेकिन कभी- कभी पैरेंट्स के सामने ऐसी परिस्थितियां आती हैं जब उन्हें ऐसा करना पड़ता है.

छोटे बच्चों को अकेले घर पर छोड़ना संभव नहीं होता लेकिन कभी- कभी पैरेंट्स के सामने ऐसी परिस्थितियां आती हैं जब उन्हें ऐसा करना पड़ता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 31, 2019, 5:58 PM IST
  • Share this:
आज की बिजी लाइफ में ज्यादातर लोग संयुक्त परिवार छोड़कर नौकरी के चलते बड़े महानगरों में रहने लगे हैं. एकल परिवार (न्यूक्लियर फैमिली) का चलन भी तेजी से बढ़ रहा है. इन परिवारों में जब महिला और पुरुष दोनों नौकरी करने के लिए निकल जाते हैं तो सबसे ज्यादा समस्या बच्चों को होती है. छोटे बच्चों को अकेले घर पर छोड़ना संभव नहीं होता लेकिन कभी- कभी पैरेंट्स के सामने ऐसी परिस्थितियां आती हैं जब उन्हें ऐसा करना पड़ता है. अगर आपको भी ऐसी किसी स्थिति का सामना करना पड़े तो कुछ बातों का जरूर ख्याल रखें. आइए आपको बताते हैं कौन सी हैं वो बातें-

अगर आपके घर में छोटा बच्चा है तो हमेशा रसोई गैस में चूल्हे के सभी नॉब को बंद रखें. सुरक्षा के लिहाज से भी चूल्हे के नॉब को बंद रखने की आदत अच्छी है. हो सके चतो गैस को मेन लाइन या सिलंडर से ही बंद कर दें.

बच्चों की पहुंच से हमेशा ही ऐसी चीजों को दूर रखने की कोशिश करें जिससे वह खुद को या फिर घर को नुकसान पहुंचा सकते हों. अगर घर में बिजली के सॉकेट या तार आसानी से बच्चे छू सकते हैं तो इन प्लग सॉकेट या बिजली के बोर्ड में टेप लगा दें और तारों को थोड़ी ऊंचाई पर रखने की कोशिश करें.

रसोई घर में हमेशा ही कुछ न कुछ ऐसा होता है जो बच्चों के लिए खतरा बन सकता है. चाकू, कैंची, ब्लेड जैसी धारदार चींजो को किसी ऊंची जगह पर या अलमारी में रखें.

बहुत सारी सावधानियां बरतने के बाद भी अपने बच्चे को ज्यादा देर के लिए अकेले छोड़ना बिल्कुल ठीक नहीं है क्योंकि कई बार बच्चे अकेले में घबरा जाते हैं. उनके अंदर डर बैठ जाता है. अगर आपको उसे अकेले छोड़ना ही है तो कम समय के लिए ही छोड़ें. साथ ही बच्चों को प्यार से समझाएं कि जब वो अकेले रहें तो उन्हें डरने की जरूरत नहीं हैं.

बच्चे को ये जरूर सिखाएं कि किसी तरह की इमरजेंसी होने पर वह बाहर से किसी की मदद जरूर ले. उसे इमरजेंसी के लिए जरूरी नंबर, आस पड़ोस के घर का पता जरूर बताएं. इन नंबरों या फिर घर के पतों को किसी दीवार या फ्रिज के ऊपर लिखकर चिपका दें. ऐसा करने से बच्चों को ये नंबर आसानी से मिल जाएंगे.

कभी भी बच्चे को पूरी तरह से घर के अंदर बंद करके न जाएं. अगर दरवाजा बाहर से लॉक नहीं होगा तो किसी अनहोनी के समय कम से कम वो लोगों को अपनी मदद के लिए बुला तो सकते हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रिश्ते से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 31, 2019, 5:58 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...