Home /News /lifestyle /

सपना डिजिटल इंडिया का पर ऑनलाइन नहीं मिलती गणतंत्र दिवस परेड की टिकट

सपना डिजिटल इंडिया का पर ऑनलाइन नहीं मिलती गणतंत्र दिवस परेड की टिकट

देश तेजी से डिजिटल युग की तरफ बढ़ रहा है. नोट बंदी से लेकर कैशलेस पेमेंट को बढ़ावा दिया जा रहा है. डिजिटल इंडिया की घोषणा के बाद पहले गणतंत्र दिवस में कहीं भी इसका असर नहीं दिखा

देश तेजी से डिजिटल युग की तरफ बढ़ रहा है. नोट बंदी से लेकर कैशलेस पेमेंट को बढ़ावा दिया जा रहा है. डिजिटल इंडिया की घोषणा के बाद पहले गणतंत्र दिवस में कहीं भी इसका असर नहीं दिखा

देश तेजी से डिजिटल युग की तरफ बढ़ रहा है. नोट बंदी से लेकर कैशलेस पेमेंट को बढ़ावा दिया जा रहा है. डिजिटल इंडिया की घोषणा के बाद पहले गणतंत्र दिवस में कहीं भी इसका असर नहीं दिखा

    देश तेजी से डिजिटल युग की तरफ बढ़ रहा है. नोट बंदी से लेकर कैशलेस पेमेंट को बढ़ावा दिया जा रहा है. डिजिटल इंडिया की घोषणा के बाद पहले गणतंत्र दिवस में कहीं भी इसका असर नहीं दिखा.

    रक्षा मंत्रालय ने हाल ही में गणतंत्र दिवस परेड के लिए डेबिट और क्रेडिट कार्ड के जरिए टिकट खरीदने को मंजूरी दी है पर अभी भी आप ऑनलाइन टिकट नहीं खरीद सकते हैं.

    जैसा कि हम जानते हैं कि भारत के गणतंत्र दिवस समारोह की सबसे मुख्य बात है कि नई दिल्ली के राजपथ पर भव्य परेड, जिसमें देश अपनी विविधता, प्रगति और सैन्य शक्ति को दर्शाता है.

    रक्षा मंत्रालय ने जनवरी में राजपथ पर गणतंत्र दिवस परेड और विजय चौक पर बीटिंग रिट्रीट समारोह के लिए टिकटों की बिक्री शुरू की. टिकट बिक्री में कैशलेस पेमेंट को पहली बार अपनाया गया है. इसके लिए नई दिल्ली में पांच काउंटर स्थापित किए गए हैं, जहां पर POS मशीन भेजी गई हैं.

    Digital

    गणतंत्र दिवस के टिकटों की ऑनलाइन बिक्री डिजिटल इंडिया के विचार को मजबूत करने में एक महत्वपूर्ण प्रतीकात्मक कदम हो सकता था. परेड के लिए टिकटों की ऑनलाइन बिक्री इंडियन रेलवे केटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन लिमिटेड (आईआरसीटीसी) के साथ मिलकर की जा सकती थी. जो कि भारत की सबसे बड़ी ई-कॉमर्स सेवा है.

    वर्ष 2015 में सुरक्षा कारणों की वजह से गणतंत्र दिवस के टिकटों की खरीद के लिए सरकार ने पहचान पत्र अनिवार्य कर दिया था. क्या ऐसा ऑनलाइन बिक्री में नहीं हो सकता था? ऑनलाइन टिकटिंग के लिए आधार कार्ड को पहचान पत्र के रूप में स्वीकार किया जा सकता था. किसी की पहचान करने के लिए यह सबसे आसान और अच्छा माध्यम हो सकता था.

    26 जनवरी, 2017 पर, जब भारत डिजिटल युग की तरफ बढ़ते हुए अपने तकनीकी कौशल का प्रदर्शन कर रहा होगा. तब राजपथ में आपको पेपर टिकट लेकर परेड देखनी होगी.

    Tags: Digital India

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर