लाइव टीवी

विश्व भर में बढ़ती हिंसा के पीछे जिम्मेदार है बढ़ता तापमान

भाषा
Updated: January 20, 2020, 8:53 AM IST
विश्व भर में बढ़ती हिंसा के पीछे जिम्मेदार है बढ़ता तापमान
विश्व भर में बढ़ती हिंसा के पीछे जिम्मेदार है बढ़ता तापमान

अमेरिका स्थित कोलोराडो बोल्डर विश्वविद्यालय के कोऑपरेटिव इंस्टीट्यूट फॉर रिसर्च इन एन्वॉयरमेंट साइंसेज (सीआईआरईएस) ने तापमान की वजह से बढ़ती हिंसक घटनाओं पर यह अध्ययन किया.

  • Share this:
विश्व में दिन प्रति दिन हिंसा का ग्राफ बढ़ता ही जा रहा है. अभी तक इसके पीछे कोई ख़ास वजह सामने नहीं आई थी. लेकिन हाल ही में विश्व में बढ़ती हिंसा की घटनाओं के लिए मौसम के बढ़ते तापमान को जिम्मेदार करार दिया गया है. एक नई स्टडी में यह बात सामने आई है कि तापमान में जिस तेजी से इजाफा हुआ है उसकी वजह से आगामी दशकों में हिंसक घटनाएं और ज्यादा होने का अनुमान है. आइए जानते हैं क्या कहती है ये नई रिसर्च...

हिंसक घटनाओं का लगाया पूर्वानुमान:
अमेरिका स्थित कोलोराडो बोल्डर विश्वविद्यालय के कोऑपरेटिव इंस्टीट्यूट फॉर रिसर्च इन एन्वॉयरमेंट साइंसेज (सीआईआरईएस) ने तापमान की वजह से बढ़ती हिंसक घटनाओं पर यह अध्ययन किया. अध्ययन के प्रमुख रेयान हार्प ने कहा कि तापमान में जिस कदर वृद्धि हो रही है, उससे लगता है कि इस सदी के अंत तक दुनिया भर में 20 से 30 लाख अधिक हिंसक वारदातें हो सकती हैं.

इसे भी पढ़ें: प्राइवेट पार्ट शेव के दौरान न करें ये गलतियां, हो सकती है जलन

एन्वॉयरमेंटल रिसर्च लेटर्स नामक पत्रिका में यह अध्ययन प्रकाशित हुआ है. हार्प और क्रिस कर्णोस्क ने बढ़ते तापमान और अपराध दर और क्षेत्रीय संबंधों के बीच की एक कड़ी की पहचान की. उन्होंने अपराध डेटाबेस और नेशनल ओशनिक एंड एटमॉस्फियरिक एडमिनिस्ट्रेशन के जलवायु से संबंधित आंकड़ों की भी इस काम में मदद ली.

इसे भी पढ़ें: दीपिका पादुकोण की तरह दिखना चाहती हैं स्टाइल Diva तो कॉपी कर सकती हैं उनके ये लुक्स 

सर्दियां कम पड़ने के पीछे काम कर रही है ये वजह:विश्लेषण से पता चला कि सर्दी के मौसम में होने वाली ठंड कम होती जा रही है और इस मौसम में भी गर्मी बढ़ रही है. इस दौरान न केवल हिंसक हमले हो रहे हैं, बल्कि डकैती जैसी घटनाएं भी बढ़ रही हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ट्रेंड्स से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 20, 2020, 8:51 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर