जानिए, दुनिया की सबसे बड़ी सर्च इंजन कंपनी कैसे कमाती है पैसे

गूगल की कमाई को लेकर हमेशा से यूजर्स में उत्सुकता रही है.

Lalit Fulara | News18Hindi
Updated: June 28, 2017, 5:29 PM IST
जानिए, दुनिया की सबसे बड़ी सर्च इंजन कंपनी कैसे कमाती है पैसे
गूगल की कमाई को लेकर हमेशा से यूजर्स में उत्सुकता रही है.
Lalit Fulara | News18Hindi
Updated: June 28, 2017, 5:29 PM IST
गूगल दुनिया की सबसे बड़ी सर्च इंजन कंपनी है. साल 2016 में इसका रेवेन्यू करीब 5,777 अरब रुपए था. वैश्विक स्तर पर लगभग 80 फीसदी सर्च मार्केट पर गूगल का कब्जा है, जो कि दूसरे सर्च इंजन बिंग (माइक्रोसॉफ्ट) और याहू के मुकाबले कई गुना ज्यादा है.

'कॉमस्कोर डेटा' के मुताबिक अक्टूबर 2015 में सर्च मार्केट पर गूगल का 63.9 फीसदी कब्जा था, जबकि बिंग का 20.7 फीसदी और याहू का 12.7 फीसदी रहा. गूगल की कमाई को लेकर हमेशा से यूजर्स में उत्सुकता रही है. इस आर्टिकल में हम आपको गूगल की कमाई के बारे में बता रहे हैं.

गूगल की कमाई के जरिए
गूगल, एडवर्ड्स और एडसेंस सर्विस के जरिए सबसे ज्यादा विज्ञापन रेवेन्यू कमाता है. हालांकि, इसके अलावा भी कई दूसरी सर्विसिज से गूगल की कमाई होती है. लेकिन कंपनी का 70 फीसदी से ज्यादा  एड रेवेन्यू 'एडवर्ड्स' और उसके बाद एडसेंस से आता है. बता दें कि गूगल का सिर्फ सर्च बिजनैस ही नहीं है. वो मैप्स, क्लाउड कम्प्यूटिंग, डॉक्यूमेंट, ईमेल सर्विस और सोशल नेटवर्किंग आदि की सुविधा भी देता है और इसके जरिए भी व्यापार करता है. इसके अलावा यूट्यूब के जरिए भी गूगल की कमाई होती है.

ऐडवर्ड्स
कंपनियां गूगल ऐडवर्ड्स का यूज करती हैं. इस पर वो स्पेसिफिक ऑडियंस के लिए एड डिस्प्ले करती हैं. एडवर्ड्स की कॉस्ट क्लिक के हिसाब से तय होती है. अगर यूजर्स किसी लिंक पर क्लिक नहीं करता है तो गूगल उस सर्च से डायरेक्ट कोई पैसा नहीं लेता है. एक रिपोर्ट के मुताबिक  2011 में गूगल को सबसे ज्यादा रेवेन्यू फाइनेंस, इनश्योरेंस, रिटेल और ट्रेवल सर्च विज्ञापन के जरिए हासिल हुआ था.

ऐसे समझें
Loading...

-एडवर्ड्स ऑक्शन-बेस्ड एडवरटाइजिंग प्रोग्राम है.
-इसमें यूजर्स की सर्च क्वैरी के हिसाब से उसे एड दिखाए जाते हैं.
- विज्ञापन बिड (नीलामी) कीवर्ल्ड (शब्द) के हिसाब से लगती है.
- विज्ञापन पर जितने ज्यादा शब्द होंगे, गूगल विज्ञापन देने वाली कंपनी से उतने ही ज्यादा पैसे लेगा.
- ऑनलाइन यूजर्स जैसे ही इन एड पर क्लिक करते हैं, गूगल विज्ञापनदाताओं से पैसे लेता है.

एडसेंस
एडसेंस एडवटाइजर को गूगल के नेटवर्क में शामिल होने और अपनी वेबसाइट पर विज्ञापन प्रदर्शित करने की अनुमति देता है. ज्यादातर वेबसाइट इस सर्विस को ही फॉलो करती हैं. अगर आप एडसेंस से जुड़ते हैं, तो गूगल आपकी वेबसाइट की रेकिंग, ब्राउजिंग हेबिट्स के हिसाब से उसपर लगने वाले विज्ञापन का पैसा देता है. बदले में गूगल विज्ञापनदाताओं से पैसा लेता है.

ऐसे समझें
- एडसेंस कंटेंट ऑनर को कंटेंट मॉनेटाइज करने में हेल्प करता है.
- गूगल नेटवर्क मेंबर को अधिकार देता है कि वो एडवर्ड्स एड को रेलेवेंट सर्च पेज पर डिलीवर करें.
- एडसेंस की सुविधा ब्लॉगर में भी दी जाती है. इसके जरिए, ब्लॉग लेखक भी पैसे कमा सकते हैं.
- इसके लिए एडसेंस अकाउंट को ब्लॉग से लिंक करना पड़ता है और उसके बाद गूगल उसपर व्यूवरशिप के आधार पर पैसे देता है.
- गूगल, विज्ञापनदाताओं को यहां एड डिस्प्ले करने के लिए पैसे लेता है.

गूगल हर क्लिक से 50 डॉलर (करीब 3229.62 रुपए) की कमाई करता है


गूगल एडवर्ड्स पर 'इनश्योरेंस' सबसे ज्यादा पैसा कमाने वाला कीबर्ड है. इस कीबर्ड पर हर क्लिक पर गूगल 54 डॉलर ( करीब 3486 रुपए) की कमाई करता है.

यूजर्स को लगता है कि गूगल पर सबकुछ फ्री है, लेकिन कंपनी फ्री एप्स पर भी चार्ज लेती है. गूगल एप डेवलपर्स से गूगल एप स्टोर पर अपने एप को साइन-अप कराने के भी पैसे लेता है. हर डेवलपर्स से 50 डॉलर यानी 3229 रुपए लिए जाते हैं.


सर्च पेज पर विज्ञापन बेचकर
-गूगल सर्च पेज पर विज्ञापन बेचकर भी पैसे कमाता है.
-विज्ञापनों के डिस्प्ले के लिए अलग-अलग रेट तय होते हैं और बिड लगती है.
-सबसे ज्यादा कीमत सर्च इंजन के टॉप पेज पर दिखने वाले विज्ञापन की होती है. क्योंकि सबसे पहले यूजर्स की नजर उस पर ही पड़ती है.

इन जरियों से भी गूगल पैसे कमाता है:
एन्टर्प्राइज कस्टमर्स को प्रोडक्ट ऑफर करके
-बिजनेस के लिए गूगल ऐप्स-
जीमेल, गूगल ड्राइव, कलेंडर, गूगल साइट्स
-बिजनेस के लिए एपीआई (एप्लीकेशन प्रोग्राम इंटरफेस) के जरिए
- गूगल अर्थ एन्टरप्राइज- इसमें डेटा विज़ुअलाइज़ेशन के लिए सॉफ़्टवेयर सॉल्युशन दिया जाता है.
- गूगल क्लाउड प्लेटफॉर्म- इसमें डेवलपर्स और बिजनेस के लिए क्लाउड सर्विस दी जाती है.

यूजर्स को ऑनलाइन सर्विस देकर
गूगल वेब सर्च- सर्च की सुविधा. न्यूज, मैप, गूगल इमेज, गूगल बुक, गूगल स्कॉलर, गूगल ग्रुप आदि
गूगल डॉक्स- डॉक्यूमेंट को क्रिएट, एडिट और प्रजेंटेशन की सुविधा.
क्रोम ब्राउजर- वेब पर सर्फिंग की सुविधा.
जीमेल- मेल सेंड और रिसीव करने की सुविधा.
गूगल प्ले- ऐप्स डाउनलोड करने की सुविधा.
गूगल प्लस- सोशल नेटवर्किंग की सुविधा
यूट्यूब- वीडियो शेयरिंग की सुविधा.
ब्लॉगर- ब्लॉग बनाने और कंटेंट पब्लिश करने की सुविधा.
Loading...

और भी देखें

पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...

वोट करने के लिए संकल्प लें

बेहतर कल के लिए#AajSawaroApnaKal
  • मैं News18 से ई-मेल पाने के लिए सहमति देता हूं

  • मैं इस साल के चुनाव में मतदान करने का वचन देता हूं, चाहे जो भी हो

    Please check above checkbox.

  • SUBMIT

संकल्प लेने के लिए धन्यवाद

काम अभी पूरा नहीं हुआ इस साल योग्य उम्मीदवार के लिए वोट करें

ज्यादा जानकारी के लिए अपना अपना ईमेल चेक करें

Disclaimer:

Issued in public interest by HDFC Life. HDFC Life Insurance Company Limited (Formerly HDFC Standard Life Insurance Company Limited) (“HDFC Life”). CIN: L65110MH2000PLC128245, IRDAI Reg. No. 101 . The name/letters "HDFC" in the name/logo of the company belongs to Housing Development Finance Corporation Limited ("HDFC Limited") and is used by HDFC Life under an agreement entered into with HDFC Limited. ARN EU/04/19/13618
T&C Apply. ARN EU/04/19/13626