International Day of Women and Girls in Science 2021: जानें क्यों मनाया जाता है ये खास दिन, कैसे हुई शुरुआत

इंटरनेशनल डे ऑफ वीमेंस एंड गर्ल्स इन साइंस

इंटरनेशनल डे ऑफ वीमेंस एंड गर्ल्स इन साइंस

International Day of Women and Girls in Science 2021: विज्ञान में महिलाओं और बालिकाओं का अंतर्राष्ट्रीय दिवस- को विश्व स्तर पर मनाए जाने का उद्देश्य, विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में महिलाओं और बालिकाओं की महत्वपूर्ण भूमिका को चिन्हित करना है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 11, 2021, 6:38 AM IST
  • Share this:
International Day of Women and Girls in Science 2021:  विश्व भर में 11 फरवरी को विज्ञान में महिलाओं और बालिकाओं का अंतर्राष्ट्रीय दिवस मनाया जाता है. ये दिन विज्ञान, प्रौद्योगिकी, इंजीनियरिंग और गणित के क्षेत्र में महिलाओं और बालिकाओं की समान सहभागिता और भागीदारी सुनिश्चित करने और इन क्षेत्रों में कार्य कर रही महिलाओं और बालिकाओं की महत्वपूर्ण भूमिका को प्रोत्साहन देने के उद्देश्य से मनाया जाता है. इस दिन को पहली बार 2016 में विश्व स्तर पर मनाया गया था.

इस दिन को मनाने का उद्देश्य

विज्ञान में महिलाओं और बालिकाओं का अंतर्राष्ट्रीय दिवस- को विश्व स्तर पर मनाए जाने का उद्देश्य, विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में महिलाओं और बालिकाओं की महत्वपूर्ण भूमिका को चिन्हित करना है. साथ ही विज्ञान, प्रौद्योगिकी, इंजीनियरिंग और गणित के क्षेत्र में महिलाओं और बालिकाओं की समान सहभागिता और भागीदारी सुनिश्चित करना है.

ये भी पढ़ें - आंखों की थकान दूर करता है गुलाब जल, जानें और क्‍या हैं इसके फायदेमंद
ऐसे हुई शुरुआत

वर्ष 2015 में संयुक्त राष्ट्र द्वारा 11 फरवरी को विज्ञान में महिलाओं और बालिकाओं का अंतर्राष्ट्रीय दिवस मनाने के तौर पर अपनाया गया था. इस दिन को मनाने की शुरुआत वर्ष 2016 में हुई थी. यूनेस्को और संयुक्त राष्ट्र महिला द्वारा इसको लागू किया गया. इसमें अंतर सरकारी एजेंसियों और संस्थानों के साथ-साथ नागरिक समाज का भी साथ रहा ताकि महिलाओं और लड़कियों को विज्ञान के क्षेत्र में पुरुषों के मुकाबले, भागीदारी के लिए पूर्ण और समान रूप से बढ़ावा दिया जा सके.

ये भी पढ़ें - World Pulses Day 2021: रोजाना दाल खाने से पाचन रहता है दुरुस्‍त



 ये भी है वजह

इंटरनेशनल डे ऑफ वीमेंस एंड गर्ल्स इन साइंस के इस दिन को मनाये जाने की वजह एक अध्य्यन भी रही. 14 देशों में कराए गए अध्ययन से पता चला, कि विज्ञान से जुड़े क्षेत्र में बैचलर्स डिग्री, मास्टर्स डिग्री और डॉक्टर्स डिग्री करने वाली महिला छात्राओं का प्रतिशत 18, 8 और 2 है. जबकि पुरुष छात्रों का प्रतिशत 37,18 और 6 है. यूनेस्को के आंकड़ों के (वर्ष 2014-16) के अनुसार, लगभग 30 प्रतिशत महिलाएं उच्च शिक्षा में एसटीईएम (STEM : Science, Technology Engineering and Mathematics) से संबंधित क्षेत्रों का चयन करती हैं. इस क्षेत्र में महिलाएं और बालिकाएं भी आगे बढ़ सकें इसलिए इस दिन को मनाया जाता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज