कोरोना से बचना है तो काबासुरा कुदिनेर औषधि का करें सेवन, बढ़ेगी इम्यूनिटी

कोरोना से बचना है तो काबासुरा कुदिनेर औषधि का करें सेवन, बढ़ेगी इम्यूनिटी
कोरोना से बचने के लिए लोगों को अपना इम्यून सिस्टम मजबूत रखना होगा.

कोरोना महामारी (Corona epidemic) की दवा अभी तक नहीं बन पाई है. ऐसे में कोरोना (Corona) से बचने के लिए लोगों को इम्यून सिस्टम (Immune system) को मजबूत रखना बहुत जरूरी है. इसके लिए आयुर्वेदिक औषधि काबासुरा कुदिनेर का सेवन कर सकते हैं...

  • Last Updated: August 28, 2020, 10:18 PM IST
  • Share this:
पूरी दुनिया में कोरोना (Corona) का कहर थमने का नाम ही नहीं ले रहा है. हर दिन हजारों लोग इस महामारी की चपेट में आ रहे हैं. myUpchar से जुड़े एम्स के डॉ. अजय मोहन कहना है कि जब तक कोरोना वायरस (Corona virus) का टीका नहीं बन जाता तब लोगों का इम्यूनिटी सिस्टम (Immunity system) को स्ट्रांग बनाए रखना बहुत जरूरी है. यानी बीमारियों से लड़ने की ताकत मजबूत होगी, वही लोग कोरोना का सामना कर पाएंगे जिनका इम्यून सिस्टम मजबूत होगा. वैज्ञानिकों (Scientists) का यह भी मानना है कि कोरोना संक्रमण इतनी जल्दी थमने वाला नहीं है, इसलिए ऐसी स्थिति में सभी लोगों को अपनी इम्यूनिटी मजबूत करना बेहद जरूरी है.

आयुर्वेदिक उपचार से भी बढ़ती है इम्युनिटी
myUpchar से जुड़े डॉ. लक्ष्मीदत्ता शुक्ला के अनुसार, रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करने के लिए आयुर्वेदिक उपचार को कई लोग प्राथमिकता दे रहे हैं.ऐसे में एक महत्वपूर्ण आयुर्वेदिक औषधि है काबासुरा कुदिनेर. यह औषधि इम्यूनिटी मजबूत करने के लिए रामबाण औषधि मानी जा सकती है. इस औषधि से कफ और सांस से संबंधी समस्याएं दूर की जा सकती हैं. यह एक प्रकार का चूर्ण है, जो बुखार, खांसी और ठंड को नियंत्रित करता है और शरीर से ऐसे टॉक्सिन को बाहर निकाल देता है, जो शरीर को बीमार करते हैं.

काबासुरा कुदिनेर चूर्ण में होती है ये सामग्री
अदरक, लौंग, दुशाला, कोकिलाक्ष, हरितकी, मालाबार नट, अजवाइन, कुस्टा, गुदुची, भारंगी, कालमेघ, राजा पात, मस्ता. उपरोक्त सभी जड़ी बूटियों को सुखाने के बाद अच्छी तरह से पीसकर मोटा पाउडर तैयार किया जाता है. इसके बाद इसमें से नमी को सुखाने के लिए धूप में रख दिया जाता है. सूखने के बाद यदि चाहें तो आप इसे और ज्यादा बारीक पीस सकते हैं. इसके बाद यह पावडर सेवन युक्त हो जाता है.



इस चूर्ण को खाने का तरीका
इस चूर्ण का काढ़ा बनाकर पिया जाता है, इसके लिए 200 मिलीलीटर पानी में 5 से 10 ग्राम काबासुरा कुदिनेर का चूर्ण डालें और धीमी आंच पर तब तक उबालें, जब तक कि यह पानी 50 मिलीलीटर ना हो जाए. उसके बाद इसे छानकर पी लें. डॉक्टरों के निर्देशानुसार यह काढ़ा 25 से 50 मिलीलीटर रोजाना दो समय लेना चाहिए.

काबासुरा कुदिनेर को ये हैं गुण
इस औषधि में एंटी-इन्फ्लेमेटरी, एनाल्जेसिक, एंटी-वायरल, एंटी-बैक्टीरियल, एंटीफंगल, एंटी-ऑक्सीडेंट, हैपेटॉप्रोटेक्टिव, एंटी-पायरेटिक, एंटी-अस्थमेटिक और साथ ही इम्यूनोमोड्यूलेटरी आदि सभी गुण पाए जाते हैं. जो किसी भी प्रकार की बीमारी को दूर करने में सहायक होते हैं.

कफ कम करता है यह चूर्ण
काबासुरा कुदिनेर कफ की समस्या को दूर करता है, जिन लोगों को कफ, खांसी, सर्दी और सांस की तकलाफ रहती है उनके लिए यह चूर्ण काफी फायदेमंद होता है. ऐसे कोरोना के भी लक्षण लगभग खांसा-सर्दी की ही तरह होते हैं और इसमें सांस की तकलीफ भी होती है, इसलिए कोरोना जैसी बीमारी के लिए भी यह चूर्ण काफी मददगार हो सकता है. जिन लोगों को अस्थमा की दिक्कत है, उन्हें यह चूर्ण जरूर लेना चाहिए. इस चूर्ण में एंटी-बैक्टीरियल गुण होने के कारण यह कई संक्रामक बीमारियों से बचाने में भी मदद करता है. कैंसर जैसी बीमारी में भी यह फायदेमंद होता है क्योंकि इसमें एंटी-ऑक्सिडेंट तत्व पाया जाता है. काफी गुणों से भरपूर होने की वजह से यह चूर्ण इम्यून सिस्टम को मजबूत भी बनाता है.



अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, दर्द की आयुर्वेदिक दवा और इलाज पढ़ें।

न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं। सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है। myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं।

अस्वीकरण : इस लेख में दी गयी जानकारी कुछ खास स्वास्थ्य स्थितियों और उनके संभावित उपचार के संबंध में शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है। यह किसी योग्य और लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवा, जांच, निदान और इलाज का विकल्प नहीं है। यदि आप, आपका बच्चा या कोई करीबी ऐसी किसी स्वास्थ्य समस्या का सामना कर रहा है, जिसके बारे में यहां बताया गया है तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। यहां पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार के लिए बिना विशेषज्ञ की सलाह के ना करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो ऐसी स्थिति में आपको होने वाले किसी भी तरह से संभावित नुकसान के लिए ना तो myUpchar और ना ही News18 जिम्मेदार होगा।

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज