Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    पालतू पशुओं से भी बनाएं सोशल डिस्टेंसिंग, फैल सकता है कोरोना: स्टडी

    शोध में कहा गया है कि बिल्ली, कुत्ते जैसे पालतू पशु कोरोनावायरस के संचरण को बढ़ा सकते हैं.
    शोध में कहा गया है कि बिल्ली, कुत्ते जैसे पालतू पशु कोरोनावायरस के संचरण को बढ़ा सकते हैं.

    एक अध्ययन के मुताबिक कोरोनावायरस (Corona virus) का संक्रमण पालतू जानवरों से भी फैल सकता है. ऐसे में वायरस के फैलाव को बाधित करने के लिए जानवरों में सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing Between Animals) बेहद जरूरी है.

    • News18Hindi
    • Last Updated: November 14, 2020, 12:34 PM IST
    • Share this:
    कोरोनावायरस (Corona virus) ने पूरी दुनिया को अपनी चपेट में लिया हुआ है. फिलहाल लोगों के पास इससे बचने के केवल सामान्य तरीके हैं जिसमें वे मास्क (Face Mask) पहनकर और सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) के जरिए इससे बच सकते हैं, लेकिन वायरस पर यह कारगर अनुपालन नियम मनुष्यों तक ही सीमित है. हैरानी की बात यह है कि एक अध्ययन के अनुसार विशेषज्ञों (Experts) का कहना है कि वायरस के संचरण को बाधित करने के लिए जानवरों में सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing Between Animals) बेहद आवश्यक है.

    जावनरों में रखें डिस्टेंसिंग
    'डेली मेल' में छपी एक रिपोर्ट के अनुसार स्वीट्जरलैंड के विशेषज्ञों का यह भी कहना है कि इस खतरनाक वायरस से बचने के लिए जानवरों में भी एक अलगाव की स्थिति पैदा करनी होगी. विशेषज्ञों ने सुझाव दिया है कि कुत्तों में आपस में कम से कम दो मीटर की दूरी आवश्यक है और बिल्लियों को घर के अंदर ही रखना चाहिए. शोध में दावा किया गया है कि बिल्ली और हेमस्टर जैसे पालतू पशु कोरोनावायरस के संचरण को बढ़ा सकते हैं. इनके अलावा फेरेट्स और मिंक जीव भी भी वायरस फैलाने का कारण बन सकते हैं.

    ये भी पढ़ें -World Diabetes Day 2020: जानिए क्‍यों मनाते हैं विश्व मधुमेह दिवस
    जानवरों में वायरस के लंबे समय तक ठहरने की संभावना


    पशु चिकित्सक जोहान्स कॉफ़मैन ने कहा, 'सीडीसी (अमेरिका) ने पालतू पशुओं के मालिकों को सलाह दी है कि वे अपने पालतू पशुओं के बीच खुद और अन्य जानवरों से दूरी बनाकर रखें.' उनका कहना है कि 'पालतू पशुओं में कोरोनावायरस के लंबे समय तक ठहरने की संभावना ज्यादा होती है, लेकिन अभी तक किसी भी शोध में यह सामने नहीं आया है कि किसी जानवर के संपर्क में आने से किसी व्यक्ति को कोविड-19 का शिकार होना पड़ा हो.

    ये भी पढ़ें - कोरोना काल में है दिवाली, दोस्तों से मिलते समय बरतें ये सावधानियां

    वहीं स्विस के नेशनल पार्क में भी अभी ऐसा कोई मामला सामने नहीं आया है जिसमें जानवर को जानवर से कोरोना वायरस का संक्रमण हुआ हो. वहीं स्थानीय स्विस अखबार ने अपनी खबर में छापा है कि देश का संघीय खाद्य सुरक्षा और पशु चिकित्सा कार्यालय जानवरों के संक्रमण से मनुष्यों को होने वाले खतरों पर शोध कर रहा है. इसमें वह जानवर और मनुष्यों के सैंपल को इकट्ठा कर किसी नतीजे पर पहुंचेगा.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज