लाइव टीवी

बच्चे की मालिश से पहले इन 6 बातों का जरूर रखें ख्याल, हो जाएं सावधान

News18Hindi
Updated: September 18, 2019, 4:59 PM IST
बच्चे की मालिश से पहले इन 6 बातों का जरूर रखें ख्याल, हो जाएं सावधान
बच्‍चे की अच्‍छी सेहत के लिए मां के दूध के साथ साथ बच्चे की साफ-सफाई भी बेहद जरूरी है. बच्‍चे को रोज नहलाने से उसके शरीर का विकास अच्छी तरह से होता है.

बच्‍चे की अच्‍छी सेहत के लिए मां के दूध के साथ साथ बच्चे की साफ-सफाई भी बेहद जरूरी है. बच्‍चे को रोज नहलाने से उसके शरीर का विकास अच्छी तरह से होता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 18, 2019, 4:59 PM IST
  • Share this:
जिस तरह प्रेग्‍नेंसी के बाद मां को अपना पूरा ख्‍याल रखना होता है, ठीक उसी प्रकार उस वक्‍त उसके नवजात शिशु को भी खास देखभाल की जरूरत होती है. जन्म के तुरंत बाद बच्चा पूरी तरह से दूसरों पर निर्भर रहता है. यह ऐसा वक्‍त होता है, जब बच्‍चे का शारीररिक व मानसिक विकास होता है. इस दौरान उसे अच्‍छी देखभाल की जरूरत होती है. नवजात शिशु की प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर होती है जिसकी वजह से उसे बीमारियों का खतरा भी बना रहता है. ऐसे में बच्‍चे की साफ-सफाई का विशेष रूप से ध्‍यान रखना चाहिए. बच्चो को रोज नहलाना चाहिए.

साथ ही बच्‍चे की बेबी ऑयल की मदद से मालिश करनी चाहिए. बच्‍चे की अच्‍छी सेहत के लिए मां के दूध के साथ साथ बच्चे की साफ-सफाई भी बेहद जरूरी है. बच्‍चे को रोज नहलाने से उसके शरीर का विकास अच्छी तरह से होता है. दरअसल नवजात शिशु को संक्रमण और बीमारियों का खतरा सबसे अधिक होता है. इसके अलावा वह बोलने व प्रतिक्रिया देने में भी असमर्थ होते हैं जिसकी वजह से वह अपनी तकलीफ मां तक पहुंचा पाते. ऐसे में बीमारी का खतरा बना रहता है. जरूरी है कि बच्‍चे को रोजाना दिन में किसी
समय नहलाएं और बेबी ऑयल की मदद से उसकी मालिश करें. नवजात शिशु की मालिश करते वक्त इन खास बातों का ध्यान जरूर रखें.

इसे भी पढ़ेंः महिलाओं की इन 7 बीमारियों को न करें नजरअंदाज, आज ही शुरू कर दें उपचार

बच्‍चे की मसाज और नहलाने का समय

जब भी आप बच्‍चे की मालिश करें, तो समय का ध्‍यान जरूर रखें. कोशिश करें कि बच्‍चे को ऐसे समय पर नहलाएं, जब उसे सर्दी पकड़ने का खतरा न हो.खासकर सर्दियों में बच्‍चे को सुबह के समय जब धूप निकल जाए उसके बाद ही नहलाएं. इसके अलावा, बच्‍चे की मालिश के लिए आप वह समय चुनें जब बच्‍चा पूरी तरह आराम कर चुका हो और उसकी नींद पूरी हो चुकी हो. इसके लिए भी दिन का समय ही बेहतर है क्‍योंकि उस समय बच्‍चा अपनी नींद पूरी कर चुका होता है और उसका पूट भी भरा होता है. आप बच्‍चे को दूसरी या तीसरी बार दूध पिलाने से पहले ही मालिश करें. आपको बता दें कि बच्‍चे को दूध पिलाने के आधे घंटे बाद ही मालिश करना सही होता है.

मालिश के बाद बच्‍चे को न नहलाएं
Loading...

इस बात का ध्‍यान जरूर रखें कि आप बच्‍चे की मालिश करने के बाद कभी भी बच्चे को नहलाने गलती न करें. खासकर ठंडे पानी से तो बिल्कुल नहीं. ऐसा इसलिए क्योंकि मसाज के बाद बच्‍चे का शरीर गर्म हो जाता है और मालिश के बाद नहलाने से बच्‍चा बीमार पड़ सकता है. आप चाहें तो मालिश के करीब एक घंटे बाद बच्‍चे को नहला सकते हैं. बच्चे को नहलाने के लिए हमेशा गुनगुने पानी का ही इस्तेमाल करें.

कमरे का तापमान सामान्‍य रखें

बच्‍चे की मालिश करने से पहले आप जमीन पर कोई चटाई बिछा लें और फिर बच्‍चे की मसाज शुरू करें. बेड पर बैठकर बच्चे की मसाज न करें. इसके अलावा, कमरे का तापमान सामान्‍य रखें, जो कि बच्‍चे के अनूकूल हो और कमरे में सही मात्रा में प्राकृतिक रोशनी व हवा भी आने दें.

हल्‍के हाथों से मालिश करें

बच्चे की मसाज हमेशा हल्‍के हाथों से की जाती है. मालिश करते समय बच्चे के शरीर पर ज्यादा दबाव न डालें और न ही रगड़ें. बच्‍चे का शरीर काफी नाजुक व मुलायम होता है उस पर तनाव न डालें. हमेशा हल्के हाथों से मालिश करें और तेल या लोशन बच्‍चे की आंख, नाक और मुंह में न जाए इसका भी ध्‍यान रखें. यदि बच्‍चे के मुंह में गलती से मसाज ऑयल या लोशन चला जाता है तो उसे उल्‍टी करवा दें. बच्‍चे के हाथ-पैरों से लेकर पेट-पीठ और चेहरे की मसाज भी करें.

ब्रेस्‍टफीडिंग के तुरंत बाद न करें मालिश

बच्चे को दूध पिलाने के तुरंत बाद मालिश करने से बच्‍चे को अपच और उल्‍टी हो सकती है. इसके लिए आप कम से कम आधे घंटे बाद बच्चे की मालिश करें. बच्‍चे की मालिश सही रूप से करने से उसका विकास तेजी से होता है और उसके शरीर व मांसपेशियों को आराम मिलता है. मालिश से बच्‍चे के मन में खुशी वाला हॉर्मोन ऑक्‍सीटोसीन जारी होने लगता है और बच्‍चे का तनाव कम होता है.

इसे भी पढ़ेंः कूल्हे में दर्द को इन 5 आसान तरीकों से करें दूर

गुनगुने तेल का करें प्रयोग

बच्‍चे की मालिश करते समय आप एकदम ठंडे तेल के बजाय गुनगुने तेल का इस्‍तेमाल करें और कोशिश करें कि मसाज करने वाला तेल या लोशन अधिक खुशबूदार न हो. इसके अलावा जांच परख करके ही बच्‍चे की मालिश के लिए तेल चुनें.

Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लाइफ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 18, 2019, 4:59 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...