इन 8 आसान टिप्स की मदद से अपने दिल को रखें फिट, करें ये काम

हृदय के स्वास्थ्य को स्वस्थ रखने के लिए सही डाइट बेहद जरूरी है.
हृदय के स्वास्थ्य को स्वस्थ रखने के लिए सही डाइट बेहद जरूरी है.

हृदय (Heart) और फेफड़ें (Lungs) संबंधी मरीजों के लिए धूम्रपान (Smoking) और शराब (Alcohal) का सेवन मौत के मुंह में जाने जैसा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 6, 2020, 9:35 AM IST
  • Share this:
कोरोना वायरस (Coronavirus) की वजह से लोग लंबी अवधि के लिए लॉकडाउन (Lockdown) के कारण घरों में फंसे रहे. कुछ लोगों के लिए यह अवधि बहुत ही तनावपूर्ण भी साबित हुई. वहीं युवा पीढ़ी (Young Generation) घर से काम करने के दौरान सेहत पर भी ध्यान दे रही है. इस बीच बुजुर्ग अपने स्वास्थ के प्रति अधिक निष्क्रिय नजर आ रहे हैं. वायरस के प्रकोप के कारण वे बाहर जाकर चिकित्सक इलाज की उपेक्षा कर रहे हैं. ऐसे में यह उनके हृदय संबंधी स्वास्थ्य के लिए जोखिम बढ़ा सकता है. ऐसे में सभी उम्र के लोगों को दिल की सेहत सुनिश्चित करने के लिए घर पर इन नियमों का पालन करना चाहिए.

सही डाइट
कोरोना काल के साए में हृदय के स्वास्थ्य को स्वस्थ रखने के लिए सही डाइट बेहद जरूरी है. जंक फूड से दूरी बनाएं और खाने की थाली में हरी सब्जियों की मात्रा बढाएं. आप रेड मीट का भी सेवन कर सकते हैं और हां सबसे जरूरी शरीर में पानी की कमी न होने दें.

इसे भी पढ़ेंः पैरों को चिकना और चमकदार बनाने के लिए अपनाएं ये टिप्स, ऐसे दें फिनिशिंग टच
एक रूटीन का पालन करें


ऐसे समय में एक उचित दिनचर्या का पालन करें. इसमें आप समय से सोएं और समय से उठें. आप पर्याप्त आराम लें और वीकेंड पर आराम करना वास्तव में पूरे स्वास्थ्य को स्वस्थ बनाए रखने में बड़ी मदद करता है.

अपनाएं डिजिटल मोड
वायरस का संचरण एक-दूजे के संपर्क में आने से अधिक हो रहा है. ऐसे में कोशिश करें कि आप सामाजिक रूप से मिलने के लिए डिजिटल मोड जैसे वीडियो, जूम कॉन्फ्रेंस और ग्रुप वीडियो का ही सहारा लें. साथ ही वर्चुअल लर्निंग क्लास भी लें.

धूम्रपान और शराब का सेवन न करें
हृदय और फेफड़ें संबंधी मरीजों के लिए धूम्रपान और शराब का सेवन मौत के मुंह में जाने जैसा है. ऐसे में सामान्य लोगों में भी इसके कुप्रभाव दिखाई देते हैं. शराब पीने और धूम्रपान करने से रोग प्रतिरोधक क्षमता (Immunity) क्षीण हो जाती है. इनका सेवन न करें.

वजन कंट्रोल में रखें
इसके लिए आप एक स्वस्थ वजन और बीएमआई रिकॉर्ड बनाएं. एक स्वस्थ शारीरिक संरचना आपके हृदय की जांच करने और अन्य बीमारियों की संभावना को घटाने में मददगार होते हैं.

वर्कआट भी है जरूरी
नियमित रूप से हल्का वर्कआउट हर किसी को करना चाहिए. इससे शरीर दिनभर सक्रिय रहता है और स्फूर्ति भी बनी रहती है. प्रतिदिन कम से कम 30 मिनट पैदल चलने की कोशिश करें. अपनी दिनचर्या में डांसिंग जैसी एक्सरसाइज को भी शामिल करें. इसमें सबसे अहम एरोबिक्स डांसिंग एक्सरसाइज है.

इसे भी पढ़ेंः भारत में पुरुष भी जमकर खरीद रहे हैं ब्यूटी प्रोडक्ट्स: रिसर्च

काम के बीच में ब्रेक लेना न भूलें
हालांकि काम जरूरी है लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि आप अपने शरीर को आराम ही न दें. काम के बीच में ब्रेक लेने से शरीरिक एनर्जी में बढ़ोतरी होती है. इससे हृदय भी उचित रूप से काम करता है.

चिकित्सीय सावधानी बरतें
ध्यान रहे शरीर में किसी भी साधारण लक्षण और असमानताओं जैसे सीने में दर्द, सांस की दुर्गंध, पैरों में सूजन और चक्कर आने को बिल्कुल भी अनदेखा न करें. हो सकता है यह बीमारियां हृदय से संबंधी खतरे का संकेत दे रही हों. यह समस्या विशेष रूप से 70 और उससे अधिक उम्र के लोगों में ज्यादा होती है.(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज