इस मच्छर के काटने से होती है यह जानलेवा बीमारी, पैदा होने वाले बच्चे पर पड़ता है ऐसा असर

इस मच्छर के काटने से होती है यह जानलेवा बीमारी, पैदा होने वाले बच्चे पर पड़ता है ऐसा असर
know everything about zika virus and its effect on new born baby

ये वायरस एडीज प्रजाति के मच्छरों के काटने से ही फैलता है जो दिन में ही काटते हैं. जीका वायरस फ्लाविविरिडए वायरस फैमिली से है. इस वायरस का आरएनए अलग होता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 16, 2019, 12:51 PM IST
  • Share this:
मच्छरों के काटने से कई गंभीर बीमारियां होती हैं जिनमें से जीका वायरस भी एक है.  इस वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या भारत में भी बढ़ती जा रही है. राजस्थान, गुजरात और दिल्ली में इसके मरीज सामने आ चुके हैं. अन्य राज्यों में भी इस वायरस के फैलने का खतरा मंडर रहा है.

यह भी पढ़ें:  जानिए कैसे फैलता है डेंगू- ये हैं इसके लक्षण, बचाव के तरीके

जीका वायरस से माइक्रोकेफेली बीमारी होती है. इससे प्रभावित बच्‍चे का जन्‍म आकार में छोटा और अविकसित दिमाग के साथ होता है. इससे होने वाले ग्‍यूलेन-बैरे सिंड्रोम शरीर के तंत्रिका तंत्र पर हमला करता है, जिससे चलते लोग लकवा मार जाता है. ये वायरस आमतौर पर गर्भवती महिलाओं को संक्रमित करता है.



ये वायरस एडीज प्रजाति के मच्छरों के काटने से ही फैलता है जो दिन में ही काटते हैं. जीका वायरस फ्लाविविरिडए वायरस फैमिली से है. इस वायरस का आरएनए अलग होता है.
कब फैला था:
पिछले दो तीन सालों में इसके अफ्रीका में व्यापक तौर पर फैलने की खबरें आईं थीं. अब जीका वायरस दुनियाभर में फैल चुका है. 86 देशों में इसके होने की पुष्टि हो चुकी है. भारत में पिछले साल जनवरी और फरवरी में पहली बार इसके अहमदाबाद में होने की बात पता चली थी.

यह भी पढ़ें: गर्भवती महिलाएं जीका वायरस से रहें सावधान! ऐसे करें बचाव

लक्षण:
जीका वायरस के लक्षण डेंगू और वायरल बुखार की तरह हैं. जैसे- बुखार, जोड़ों का दर्द, शरीर पर लाल चकत्ते, थकान, सिर दर्द और आंखों का लाल होना.

बचाव:
जीका वायरस से बचाव के लिए मच्छरों के काटने से बचें, शरीर का अधिकतम हिस्सा ढक कर रखें, मच्छरदानी का प्रयोग करें, मच्छर पुनर्जनन रोकने के लिए ठहरे पानी को इकट्ठा न होने दें. बुखार, गले में खराश, जोड़ों में दर्द, आंखें लाल होने जैसे लक्षण नजर आने पर अधिक से अधिक तरल पदार्थों का सेवन और भरपूर आराम करें. फौरन डॉक्टर को दिखाना चाहिए.

यह भी पढ़ें:  क्या जीका वायरस से निपटने के लिए कोई वैक्सीन या दवा है?
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading