जानें सर्दियों में काढ़ा पीने के लिए क्या करें और क्या नहीं

दिन में आधे कप से ज्यादा काढ़े का सेवन न करें.

दिन में आधे कप से ज्यादा काढ़े का सेवन न करें.

काढ़े (Kadha) को ज्यादा उबालना और बार-बार इसका सेवन करना भी आपको खतरे में डाल सकता है. इससे आपको यूरिन संक्रमण, मुंहासे, एसिडिटी, शरीर से गर्मी पैदा होना, त्वचा में सूखापन और मुंह में छाले जैसी शिकायतें हो सकती हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 4, 2021, 7:08 AM IST
  • Share this:
पूरी दुनिया पिछले एक साल से कोरोना वायरस (Coronavirus) के साए में जी रही है. कोविड-19 (Covid-19) महामारी का खतरा लगातार बढ़ रहा है. फिलहाल वायरस के खिलाफ अभी भी वैक्सीन (Vaccine) का इंतजार करना पड़ रहा है. इधर, आयुष मंत्रालय (Ministry of Ayush) और स्वास्थ्य विशेषज्ञ लगातार इम्यूनिटी को बढ़ाने (Increase Immunity) पर जोर दे रहे हैं. वहीं, वायरस की शुरुआत से ही आयुर्वेदिक रूप में काढ़ा (Kadha) को इम्यूनिटी बूस्टर के रूप में देखा जा रहा है. हम आपको बता दें कि सर्दियों में काढ़ा पीने के लिए आपकों किन-किन बातों का ख्याल रखना चाहिए जिससे इसका आप पर कुप्रभाव न पड़े.

गलत तरीके से काढ़ा पीने के कुप्रभाव

यह सब जानते हैं कि किसी भी चीज का जरूरत से अधिक सेवन हानिकारक होता है. यही बात काढ़े पर भी लागू होती है. काढ़े को ज्यादा उबालना और बार-बार इसका सेवन करना भी आपको खतरे में डाल सकता है. इससे आपको यूरिन संक्रमण, मुंहासे, एसिडिटी, शरीर से गर्मी पैदा होना, त्वचा में सूखापन और मुंह में छाले जैसी शिकायतें हो सकती हैं. यदि आप अपनी इम्यूनिटी को वाकई में बढ़ाना चाहते हैं तो इन आसान से टिप्स से आप सही मात्रा और तरीके से काढ़े का सेवन कर सकते हैं.

इसे भी पढ़ेंः फेफड़ों को रखना है हेल्दी, तो इन 5 चीजों से बना लें दूरी
काढ़ा को कम उबालें

जैसा आपको पहले ही बताया जा चुका है कि काढ़े को ज्यादा उबालने से उसका प्रभाव कम हो जाता है. काढ़े को ज्यादा उबालने की स्थिति में यह कड़वा हो जाएगा जिससे आपको पेट में जलन और एसिडिटी की समस्या हो सकती है.

दिन में पिएं आधा कप काढ़ा



क्या आप भी उन लोगों में शामिल हैं जो दिन में तीन बार काढ़े का सेवन कर रहे हैं? यदि हां, तो ऐसा करना तुरंत बंद कर दें. आपको बता दें कि दिन में आधे कप से ज्यादा काढ़े का सेवन न करें.

ठंडी जड़ी-बूटियां मिलाएं

यह बहुत जरूरी है कि काढ़े में ठंडी जड़ीबूटियों का मिश्रण करें. इससे आपको पेट से संबंधित कोई समस्या नहीं होगी. इसके लिए आप अपने काढ़े में नद्यपान, इलायची और गुलाब की पंखुड़ियां को शामिल कर सकते हैं.

ठंडी चीजों का करें सेवन

काढ़ा शरीर में गर्मी पैदा करता है जिससे त्वचा सूखने लगती है और चेहरे पर मुंहासे निकल आते हैं. इससे बचने के लिए आप पूरे दिन संतरा, केला और अंगूर जैसे ठंडे फलों का सेवन कर सकते हैं.

नियमित रूप से पानी पिएं

काढ़े की तासीर बहुत गर्म होती है जो पेट में कई तरह की समस्याएं पैदा कर सकती हैं. तो याद रखें कि अगर काढ़े का सेवन कर रहे हैं तो आप पेट की समस्या से बचने के लिए पुदीना और नारियल पानी का सेवन कर सकते हैं. इससे आपके पेट के अंदरुनी सिस्टम को ठंडक मिलेगी.

इसे भी पढ़ेंः ठंड के मौसम में छुहारे खाने से होंगे ये बड़े फायदे, आज ही करें डाइट में शामिल

नियमित रूप से काढ़ा न पिएं

काढ़ा हालांकि कोरोना वायरस और अन्य बीमारियों के खिलाफ लड़ने में मदद करता हैं लेकिन आप इसका सेवन लंबे समय तक नियमित रूप से न करें. तीन हफ्ते के नियमित सेवन के बाद आप दो हफ्ते तक के लिए काढ़े का सेवन बंद कर दें और फिर इस दोबारा पीना शुरू करें.(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें).
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज