Home /News /lifestyle /

lassi varieties at amritsari lassi wala in chandni chowk in hindi rada

गर्मी में स्वाद से भरी ठंडी लस्सी का लेना है मज़ा तो चांदनी चौक में 'अमृतसरी लस्सी वाला' पर आएं, देखें VIDEO

साल 1972 से लस्सी की इस दुकान का संचालन किया जा रहा है.

साल 1972 से लस्सी की इस दुकान का संचालन किया जा रहा है.

गर्मी के मौसम में शरीर को ठंडा रखने के लिए लोग कई जतन करते हैं. इस मौसम में लस्सी पीने का मजा अलग ही होता है. आज हम आपको दिल्ली की एक ऐसी दुकान पर ले चल रहे हैं जहां लस्सी की कई वैराइटीज मौजूद हैं और सभी का स्वाद एक से बढ़कर एक है. यह दुकान 1972 से संचालित की जा रही है और फिलहाल यहां 7 तरह की लस्सी मिलती हैं.

अधिक पढ़ें ...

दिल्ली-एनसीआर में आग बरसाता सूरज चैन नहीं लेने दे रहा है. गर्मी के ताप से बचने का एक ही उपाय है कि कुछ ‘ठंडा-ठंडा, कूल-कूल’ मिल जाए, ताकि शरीर में ठंडक आए तो उसका असर मन पर भी पड़े. इस धधकती गर्मी से बचने का तो एक ही उपाय नजर आ रहा है, वह है अगर ठंडी-ठंडी लस्सी पीने को मिल जाए तो दिमाग में भी ताजगी आ जाए. हम आपको लस्सी पिलाने के लिए पुरानी दिल्ली ले चल रहे हैं. यहां आपको मजा जरूर आएगा, उसका कारण यह है कि लस्सी वालों का खानदानी काम दूध का रहा है और वे लाहौर से वाया अमृतसर होते हुए पुरानी दिल्ली पहुंचे हैं.

लस्सी के अलावा कुछ नहीं मिलता

पुरानी दिल्ली का चांदनी चौक इलाका आजकल खासा गुलजार है. पूरे बाजार को स्पेशल कॉरिडोर बनाने के चलते अब चांदनी चौक की रंगत अलग ही निखर रही है. आप लाल किला से चांदनी चौक बाजार की ओर चलेंगे तो सामने फतेहपुरी मस्जिद से पहले ही बायीं ओर की दुकानों में एक ‘अमृतसरी लस्सी वाला’ की दुकान नजर आ जाएगी.

lassi

इस दुकान पर मिलने वाली लस्सी का स्वाद लोगों को काफी पसंद आता है.

दुकान की विशेषता यही है कि यहां लस्सी के अलावा कुछ नहीं मिलता है. लस्सी भी सीमित वैरायटी की, लेकिन जिसे भी पिएंगे, आप मानने लगेंगे कि असली लस्सी इसी को तो कहते हैं. सब कुछ असली, न पानी और न ही कोई अननेचुरल पेय.

इसे भी पढ़ें: बरेली का झुमका ही नहीं, लस्सी भी है मशहूर, गर्मियों में ‘दीनानाथ की मशहूर लस्सी’ पीकर चोला मस्त हो जाएगा

कई तरह की मिलेंगी वैराइटीज़

इस दुकान पर 7 प्रकार की ही लस्सी मिलती है. सबका फ्लेवर अलग और स्वाद ऐसा कि आपका मन करेगा कि लस्सी की हर बूंद भी बेकार नहीं जानी चाहिए. लस्सी के नाम सुनिए, मलाई लस्सी, मेंगो, बनाना, केसर बादाम, रोज बादाम, नमकीन जीरा और डाइट लस्सी. मेंगो लस्सी सीजनल है, बाकी लस्सी पूरे साल मिलती है. सबसे ज्यादा मलाई लस्सी बिकती है, लोगों का कहना है, उसका जो स्वाद है, वह कहीं नहीं मिलता है.

असल में इस लस्सी में दही, चीनी, दूध और गुलाब जल डालकर फेंटा जाता है और फिर गिलास में डालने के बाद ऊपर मोटी मलाई छोड़ दी जाती है. इसके बाद दोनों काम कीजिए लस्सी खाइए भी और पीजिए भी. इनकी केसर बादाम और रोज़ बादाम लस्सी का भी जवाब नहीं है. इन लस्सी की कीमत 40 रुपये से 75 रुपये के बीच है.

इसे भी पढ़ें: Mango Lassi Recipe: गर्मियों में शरीर की ठंडक बरकरार रखेगी मैंगो लस्सी, जानें बनाने का तरीका

1972 से चल रही दुकान

यह लस्सी की दुकान वर्ष 1972 से चल रही है. वैसे दुकान का परिवार आजादी के बाद से ही चांदनी चौक इलाके में पहले पनीर और दूध की बोतलें बेचता था. उसके बाद लस्सी की दुकान खोली गई. परिवार लाहौर में रहता था, विभाजन के बाद अमृतसर रहा, फिर दिल्ली चला आया. सबसे पहले राधेश्याम चावला ने पनीर व दूध की बोतले बेचीं. वर्ष 1972 में उनके बेटे सुरेंद्र चावला ने अलग से यह लस्सी की दुकान शुरू की. वर्ष 2000 तक यहां मात्र मीठी और नमकीन लस्सी बेची जाती थी.

lassi

इस दुकान पर 7 प्रकार की लस्सी मिलती है. सबका फ्लेवर अलग और स्वाद लाजवाब है.

तीसरी पीढ़ी के अंशुमन चावला ने लस्सी की वैरायटी बढ़ाई और यह दुकान सालों से शान से चल रही है. उनका कहना है कि हमने शुद्धता पर ध्यान दिया, तभी लोग हमारी दुकान की लस्सी को खूब पसंद करते हैं. सुबह 8 बजे लस्सी बनना शुरू हो जाती है और रात 10 बजे तक आप लस्सी का मजा उठा सकते हैं. अवकाश कोई नहीं है.

नजदीकी मेट्रो स्टेशन: चांदनी चौक

Tags: Food, Lifestyle

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर