होम /न्यूज /जीवन शैली /

LGBTQ समुदाय ने किया प्रस्तावित ट्रांस बिल का विरोध, कहा बिल में ये बदलाव जरूरी

LGBTQ समुदाय ने किया प्रस्तावित ट्रांस बिल का विरोध, कहा बिल में ये बदलाव जरूरी

LGBTQ

LGBTQ

इनका आरोप है कि सरकार ने कानून के प्रारूप में पहले ट्रांसजेंडर (Transgender Registration) के तौर पर पंजीयन कराने और फिर सर्जरी का सबूत देने की बाध्यता रखी है.

    नईदिल्ली. LGBTQ समुदाय के एक हजार से अधिक लोगों ने रविवार शाम दिल्ली एक पैदल मार्च निकाला. समुदाय ने पिछले साल सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court of India) के फैसले के बाद भारत सरकार (Government of India) द्वारा लाए जा रहे बिल में कुछ प्रावधानों के विरोध किया है. इनका आरोप है कि सरकार ने कानून के प्रारूप में पहले ट्रांसजेंडर (Transgender Registration) के तौर पर पंजीयन कराने और फिर सर्जरी का सबूत देने की बाध्यता रखी है.

    LGBTQ समुदाय ने दिल्ली प्राइड परेड निकाली
    LGBTQ समुदाय ने दिल्ली प्राइड परेड निकाली


    समलैंगिक समुदाय की मांग है कि सरकार इस तरह के किसी प्रावधआान को कानून में शामिल न करे. समुदाय अपनी पहचान किसी भी जेंडर में कराने को तैयार हैं. पदयात्रा के दौरान जारी एक वक्तव्य में समुदाय के कहा कि वो सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद खुश तो हैं लेकिन अभी तक उनकी स्वीकार्यता समाज में नहीं बन पाई है.

    LGBTQ Delhi Pride Parade
    समुदाय ने प्रस्तावित बिल में बदलवा की मांग की.


    भारत के सर्वोच्च न्यायालय ने पिछले साल समलैंगिक संबंधो पर फैसला देते हुए अंग्रेजों के जमाने के कानून को रद्द करने का आदेश दिया था. इस पुराने कानून में समलैंगिक संबंधो के आरोप सही पाए जाने पर दस साल की सजा का प्रावधान था.

    LGBTQ Delhi Pride Parade
    प्रस्तावित बिल में संशोधन चाहता है समुदाय.


    समुदाय का मानना है कि सरकार का प्रस्तावित बिल उनके लिए आत्मसम्मान की अनदेखी करता है. उन्होंने इसे संसद में बिना बदलाव के पारित न करने की मांग भी की. इस बदलाव को प्रस्तावित बिल में शामिल करने के लिए समुदाय ने इसे संसद की विशेष समिति को भेजने की मांग की .

    LGBTQ Delhi Pride Parade
    ट्रांस बिल को विशेष समिति में भेजने की मांग.


    प्रदर्शन के दौरान समलैंगिक समुदया ने ट्रांस बिल हाय-हाय के नारे भी लगाए.

    ये भी पढ़ें:

    दिल्ली में पेयजल पर राजनीति, कितना शुद्ध है आपके घर आने वाला पीने का पानी!

    बचाना चाहते हैं अपनी बत्तीसी तो अपनाएं यह आसान तरीका

    Tags: LGBTQ, LGBTQ rights

    अगली ख़बर