अपना शहर चुनें

States

Live In Relationship : रिश्‍ता निभाना होगा आसान, जान लें ये बातें

लिव इन रिलेशनशिप में जाने से पहले इसके हर पहलू को अच्‍छी तरह जान-समझ लें.  Photo Credit/ Pexels
लिव इन रिलेशनशिप में जाने से पहले इसके हर पहलू को अच्‍छी तरह जान-समझ लें. Photo Credit/ Pexels

लिव इन रिलेशनशिप से पहले कुछ अहम बातें ध्‍यान रखनी चाहिए. इसमें जाने से पहले इससे संबंधित हर पहलू पर गौर करें और यह भी ध्‍यान रखें कि आप मन से इस रिश्‍ते के लिए पूरी तरह तैयार हैं कि नहीं.

  • Share this:
लिव इन रिलेशनशिप का चलन शहरी जिंदगी में तेजी से बढ़ रहा है. आज इसको लेकर लोग हिचकते नहीं, बल्कि इस पर खुल कर अपने विचार रखते हैं. हालांकि इससे जहां कुछ सहूलियतें मिलती हैं, वहीं इससे कुछ दिक्‍कतें भी पनप सकती हैं. इसलिए लिव इन रिलेशनशिप (Live In Relationship) में जाने से पहले इसके हर पहलू को अच्‍छी तरह जान-समझ लें.

इस रिलेशनशिप के ये हैं फायदे
लिव इन रिलेशनशिप में रहने का यह फायदा है कि इसमें रहने वाले अपनी जिम्‍मेदारियां समझते हैं और इन्‍हें बिना किसी दबाव के खुशी से निभाते हैं. इसके अलावा दोनों पार्टनर निजी तौर पर आजाद होते हैं.वहीं वे जब चाहें विवाह (Marriage) के बंधन में भी बंध सकते हैं.

क्‍या कहता है कानून
लिव इन रिलेशनशिप को कानूनी तौर पर देखे तो इसे भारतीय कानून द्वारा स्वीकृति दी गई है. कानून के मुताबिक अगर दो बालिग लोग यानी 18 वर्ष की उम्र पूरी कर चुकी लड़की और 21 वर्ष का लड़का लिव इन रिलेशनशिप में रहना पसंद करते हैं, तो यह कानूनी तौर पर वैध माना जाएगा.



ध्‍यान रखें ये बातें
वहीं इसमें कुछ अहम बातें ध्‍यान रखनी चाहिए. इसमें जाने से पहले इससे संबंधित हर पहलू पर गौर करें और यह भी ध्‍यान रखें कि आप मन से इस रिश्‍ते के लिए पूरी तरह तैयार हैं कि नहीं. वहीं अपने पार्टनर के साथ एग्रीमेंट किया जाना चाहिए, ताकि अगर आगे चल कर आपके पार्टनर का व्‍यवहार आपके साथ अच्‍छा न रहे, तो इससे निकलने में आपको दिक्‍कत न हो. वहीं इसका अहम पहलू यह भी है इसे ध्‍यान में रख कर आप मानसिक तौर पर मजबूत रहेंगे. वह यह है कि अगर आगे चल कर आपका पार्टनर रिलेशनशिप में न रहना चाहे और आपको छोड़ कर चला जाए तो आप मानसिक तौर पर इसे मानने को तैयार रहें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज