• Home
  • »
  • News
  • »
  • lifestyle
  • »
  • ज्यादा दिन प्रदूषित शहर में रहने से महिलाओं में हार्ट फेल का रिस्क 43% ज्यादा- रिसर्च

ज्यादा दिन प्रदूषित शहर में रहने से महिलाओं में हार्ट फेल का रिस्क 43% ज्यादा- रिसर्च

इफेक्ट उन महिलाओं पर ज्यादा खराब रहा जो पहले से स्मोकिंग करती थीं या फिर जिन्हें हाई बीपी की शिकायत थी. (प्रतीकात्मक फोटो-shutterstock.com)

इफेक्ट उन महिलाओं पर ज्यादा खराब रहा जो पहले से स्मोकिंग करती थीं या फिर जिन्हें हाई बीपी की शिकायत थी. (प्रतीकात्मक फोटो-shutterstock.com)

Pollution for Women Health : तीन सालों में तीनों प्रकार के प्रदूषण के हाई लेवल के संपर्क में आने वाली महिलाओं में हार्ट बीट रुकने की संभावना 43 प्रतिशत अधिक थी. ये इफेक्ट उन महिलाओं पर ज्यादा खराब रहा जो पहले से स्मोकिंग करती थीं या फिर जिन्हें हाई ब्लड प्रेशर की शिकायत थी.

  • Share this:

    Pollution for Women Health : प्रदूषण (Pollution) हमारी हेल्थ को कई तरह से नुकसान पहुंचाता है, ये तो हम सभी जानते हैं. लेकिन अब एक नई रिसर्च से ये पता चला है कि प्रदूषण से भरे शहर में रहने से महिलाओं में हार्ट फेल का चांस ज्यादा है. डेली मेल में छपी न्यूज रिपोर्ट में लिखा है कि महिलाओं पर हुई एक ताजा स्टडी के अनुसार, सिर्फ तीन साल तक प्रदूषित शहर (polluted city) में रहने के कारण महिलाओं में हार्ट फेल (Heart fail) का रिस्क 43 प्रतिशत तक बढ़ जाता है. इसके साथ ही महिलाओं में डिमेंशिया, मोटापा और बांझपन जैसी स्वास्थ्य समस्याओं के तार भी कहीं ना कहीं प्रदूषण से जुड़े हैं.

    डेनमार्क की यूनिवर्सिटी ऑफ कोपेनहेगन (University of Copenhagen) के पब्लिक हेल्थ डिपार्टमेंट द्वारा की गई इस स्टडी का निष्कर्ष जर्नल आफ द अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन (Journal of the American Heart Association) में प्रकाशित हुआ है.

    15 से 20 साल तक की स्टडी
    डेनमार्क की नर्सों को लेकर 15 से 20 साल तक ये स्टडी की गई है. रिसर्च करने वालों ने 1993-99 से 20 हजार से ज्यादा नर्सों का डेटा जुटाया. जिसके अनुसार पीएम 2.5 (डीजल-पेट्रोल से निकलने वाले प्रदूषित कण) में 5.1 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर बढ़ोतरी से महिलाओं में हार्ट फेलियर का खतरा 17% तक बढ़ गया. इसके अलावा नाइट्रोजन डाईऑक्साइड के प्रति घन मीटर में 8.6 माइक्रोग्राम की बढ़ोतरी से खतरे में 10% इजाफा हुआ.

    यह भी पढ़ें- ब्लड शुगर और कोलेस्ट्रॉल को भी कम करती है काली मिर्च, जानिए इसके फायदे

    हार्ट फेल का रिस्क
    स्टडी के मुताबिक, एक अन्य प्रकार का ट्रैफिक पॉल्यूशन, नाइट्रोजन डाइऑक्साइड (NO2) भी हार्ट बीट रुकने के बढ़ते जोखिम से जुड़ा था. वैज्ञानिकों ने पाया कि औसत NO2 एक्सपोजर में प्रत्येक 8.6 माइक्रोग्राम वृद्धि के लिए हार्ट बीट रुकने का जोखिम 10 प्रतिशत तक बढ़ जाता है. रिसर्च करने वालों के मुताबिक सिर्फ वायु प्रदूषण नहीं था, जिसने महिलाओं के स्वास्थ्य को प्रभावित किया, ध्वनि प्रदूषण भी ऐसे ही कुछ संदेश देता दिखा. स्टडी में 24 घंटे प्रतिदिन के औसत ट्रैफिक शोर में प्रत्येक 9.3 डेसिबल्स वृद्धि के लिए, हार्ट बीट रुकने का जोखिम 12 प्रतिशत तक बढ़ गया.

    यह भी पढ़ें- क्या आपको पता है मुल्तानी मिट्टी के साइड इफेक्ट्स के बारे में?

    स्मोकिंग और बीपी में ज्यादा रिस्क
    इस रिसर्च की प्रमुख लेखिका डॉ यून-ही लिम (Youn‐Hee Lim) और उनके सहयोगियों ने स्टडी में ये भी पाया कि इन प्रदूषकों (pollutants) का प्रभाव संयुक्त होने पर और भी बुरा था. तीन सालों में तीनों प्रकार के प्रदूषण के हाई लेवल के संपर्क में आने वाली महिलाओं में हार्ट बीट रुकने की संभावना 43 प्रतिशत अधिक थी. ये इफैक्ट उन महिलाओं पर ज्यादा खराब रहा जो पहले से स्मोकिंग करती थीं या फिर जिन्हें हाई ब्लड प्रेशर की शिकायत थी.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज