लाइव टीवी

Lockdown: कैसे रखें खुद को स्ट्रेस फ्री, जानें एक्सपर्ट कंचन राय से

News18Hindi
Updated: April 17, 2020, 8:36 PM IST
Lockdown: कैसे रखें खुद को स्ट्रेस फ्री, जानें एक्सपर्ट कंचन राय से
कंचन राय- Lets Talk Organisation की संस्थापक

लोगों के अंदर एक तरह से डर की समान भावना है. ऐसे में कुछ तरीके अपनाकर अपने आप को सकारात्मक रखना और इस डर को खत्म करना जरूरी है. इसके लिए सबसे पहले अपने आप को व्यस्त रखें.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 17, 2020, 8:36 PM IST
  • Share this:
इस समय पूरी दुनिया कोरोना वायरस के प्रकोप से जूढ रही है. तमाम देशों में लॉकडाउन जारी है और लोग सोशल डिस्टेंसिंग को अपनाते हुए घरों में बंद हैं. एक लंबा समय घर में बंद रहने से लोगों में स्ट्रोस और तनाव की स्थिति पैदा करता है. लोग कोरोना के संक्रमण को लेकर भी टेंशन में नजर आ रहे हैं. ऐसे में वह न सिर्फ अपना शारीरिक स्वास्थ्य खराब कर रहे हैं बल्कि मानसिक रूप से भी अनहेल्दी हो रहे हैं. लोगों में बढ़ रहे स्ट्रेस व तनाव को लेकर Lets Talk Organisation की संस्थापक कंचन राय से हमने बातचीत की. आइए आपको बताते हैं उन्होंने लोगों को स्ट्रेस व तनाव से दूर रहने के लिए क्या कहा.

खुद को पहचानना जरूरी
कंचन राय ने बताया कि इस समय अधिकांश लोग कोविड 19 के कारण विभिन्न भावनात्मक स्तरों से गुजर रहे हैं. कोविड 19 ने अपना वैश्विक प्रभाव जारी रखा है. इसके प्रकोप को देखते हुए सभी स्कूल और कालेज बंद कर दिए गए हैं. व्यवस्था को बनाए रखने के लिए सबको घर से काम करने के लिए कहा गया है. जब सबकुछ आपके नियंत्रण से बाहर हो तो यह महसूस करना कठिन है कि बाकी सब कुछ आपके नियंत्रण में है. उन्होंने बताया कि घबराहट, चिंतित, तनावग्रस्त, या परेशान महसूस करना एक सामान्य प्रक्रिया है. इस भावनात्मक परिस्थिति में खुद को पहचानना और अपने आप को समय देना बहुत जरूरी है. आप जो महसूस कर रहे हैं उसे व्यक्त करें.

कुछ अच्छी यादों को संजोएं



लोगों के अंदर एक तरह से डर की समान भावना है. ऐसे में कुछ तरीके अपनाकर अपने आप को सकारात्मक रखना और इस डर को खत्म करना जरूरी है. इसके लिए सबसे पहले अपने आप को व्यस्त रखें. नियमित रूप से विभिन्न गतिविधियों के माध्यम से अपने घर में व्यस्त रहें. अपने परिवार के सदस्यों के साथ खुश रहें और कुछ अच्छी यादों को संजोएं जो कभी काम में व्यस्त होने की वजह से नहीं हो पाया था. परिवार के साथ छुट्टी पर होना अच्छा महसूस कराता है. इस समय में लोग परिवार के सदस्यों के साथ गेम खेलना, अपने अनुभव शेयर करना और मूवीज देखना पसंद कर रहे हैं.



सोशल मीडिया के समय को संतुलित करें
इस मुश्किल की घड़ी में अपने आप को सभी नकारात्मक विचारों से दूर रखें. एक ही तरह की नेगेटिव न्यूज बार-बार देखने से बचें. उन्होंने बताया कि आप अपना समय किसके साथ बिताते हैं ये आप पर ही निर्भर करता है. टीवी, इंटरनेट, पत्रिकाओं का आप पर प्रभाव जरूर पड़ेगा. इस समय में सकारात्मक रहना बहुत जरूरी है. आपके जीवन में ऐसे लोग होंगे जो आपके विचारों का समर्थन करेंगे और आपको नीचे खींचने के बजाय ऊपर उठाएंगे. आपको अपने सोच पर भी ध्यान देना होगा. उन्होंने कहा कि इसके लिए आप अपने सोशल मीडिया के समय को संतुलित करें. यह बुरी खबरों से भरा है, लेकिन कई लोगों के लिए यह अपडेट रहने और दोस्तों और प्रियजनों से जुड़ाव का एक महत्वपूर्ण साधन है.

अच्छे से खाना खाइए और खूब पानी पीजिए
आराम करते समय या फिर सोते समय फोन को अपने से दूर रखें. उन्होंने ये भी कहा कि पढ़ना और संगीत सुनना एक बेहतरीन काम होता है. संगीत आपके अंदर के भाव को जीवित करता है जिससे मन को शांति मिलती है. विज्ञान ने भी इस बात को माना है की संगीत वास्तव में हमारे शरीर के ऊपर प्रभाव डालता है. आप कोई पुराना शौक भी इस समय पूरा कर सकते हैं. अच्छे से खाना खाइए और खूब पानी पीजिए. इसके साथ ही शारीरिक एक्टिविटीज करना भी बहुत जरूरी होता है. घर पर आप हल्की एक्सरसाइज जरूर करें. ऐसा करने से आप शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ रहेंगे. इस समय आप किसी पत्रिका में दूसरों के लिए लेख लिख सकते हैं.

नींद और तनाव एक साथ चलते हैं
घर पर कुछ रचनात्मक काम करते रहें. ऐसा करने से आप चिंतामुक्त रहेंगे. खुशी को लेकर ज्यादा परेशान होने की जरूरत नहीं है क्योंकि किसी चीज का जुनून आप पर उल्टा असर डाल सकता है. किसी बड़ी खुशी के इंतजार में हमें नहीं रहना चाहिए. हमे छोटी छोटी चीजों में खुशियों को देखना और महसूस करना चाहिए. उन्होंने बताया कि नींद और तनाव एक साथ चलते हैं. अगर आप अच्छी नींद नहीं ले रहे हैं तो यह आपके तनाव को बढ़ाता है जिससे आपको अपने सकारात्मक पहलु को देखने में दिक्कत होती है. नींद की कमी न सिर्फ आपके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ को खराब करती है बल्कि यह आपके कार्य क्षमता पर भी बुरा असर डालती है. लॉकडाउन में आराम करें और अच्छी नींद जरूर लें.

अपने आप को थोड़ा आराम दें
आपके पास जितनी सकारात्मक बातें हैं उनके बारें में जरूर सोचें. अपने आप को थोड़ा आराम दीजिए. ज्यादा परेशान या दबाव के वजह से अपने सेहत को खराब न करें. सभी का जीवन एक परिवर्तन से गुजर रहा है. परिवार, रिश्तेदारों और दोस्तों के साथ इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स की मदद से कनेक्टेड रहें. अपकी चिंता और आपका अनुभव आपको इस कठिन समय से निपटने में मदद कर सकता है. अपने निकट के लोगों के मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं को पहचानें तथा उनकी सहायता करें.

मनुष्य परिस्थितिओं से आजाद नहीं है
यदि उन्हें किसी पेशेवर स्वास्थ्य चिकित्सक की आवश्यकता हो तो हेल्पलाइन द्वारा सम्पर्क कर उनकी मदद करें. उन्होंने मशहूर मनोवैज्ञानिक विक्टर फ्रैंक के शब्दों को लेते हुए कहा कि मनुष्य परिस्थितिओं से आजाद नहीं है लेकिन वह उस सम्बन्ध में फैसला लेने में स्वतंत्र है. स्थितियां पूरी तरह से उसके वश में नहीं होती. यह उसके ऊपर है कि वह सीमाओं के अंदर रहते हुए परिस्थितिओं को मान कर उनके सामने आत्मसमर्पण करता है या नहीं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए हेल्थ & फिटनेस से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 11, 2020, 5:59 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading