होम /न्यूज /जीवन शैली /कोरोना से ठीक हो चुके लोगों की कार्यक्षमता घटी, 82 % को थकान की समस्या -रिसर्च

कोरोना से ठीक हो चुके लोगों की कार्यक्षमता घटी, 82 % को थकान की समस्या -रिसर्च

60 प्रतिशत लोग ऐसे थे जिन्हें सिरदर्द की परेशानी आज भी रहती है. (प्रतीकात्मक फोटो-shutterstock.com)

60 प्रतिशत लोग ऐसे थे जिन्हें सिरदर्द की परेशानी आज भी रहती है. (प्रतीकात्मक फोटो-shutterstock.com)

Long Covid Became Frightening : कोरोना संक्रमण से उबरने वाले लोगों में लॉन्ग कोविड (Long Covid) की समस्या भयावह रूप लेत ...अधिक पढ़ें

    Long Covid Became Frightening : पूरी दुनिया को अपनी चपेट में लेने वाली महामारी कोरोनावायरस से ठीक हो चुके लोगों से जुड़ी एक नई स्टडी में चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं. इस स्टडी के नतीजों के मुताबिक कोरोना संक्रमण से उबरने वाले लोगों में लॉन्ग कोविड (Long Covid) की समस्या भयावह रूप लेती जा रही है और इससे उनकी कार्यक्षमता (working capacity) भी घटी है. लॉन्ग कोविड का मतलब उस स्थिति से है, जिसमें व्यक्ति कोविड संक्रमण से ठीक हो चुका है, उसकी आरटीपीसीआर रिपोर्ट भी नेगिटिव आई हैं. लेकिन वो अभी तक नॉर्मल नहीं है, मेडिकल भाषा में इसे पोस्ट एक्यूट कोविड-19 सिंड्रोम (Post Acute Covid-19 Syndrome) भी कहा जाता है.

    अमेरिकन जर्नल ऑफ फिजिकल एंड रिहैबिलिटेशन मेडिसिन (American Journal of Physical and Rehabilitation Medicine) में प्रकाशित रिसर्च के मुताबिक, अस्पताल में भर्ती होने वाले कोविड के मरीज ठीक होने के साल भर बाद भी फुलटाइम काम करने में अपने को कमजोर पाते हैं. शोध के मुताबिक कोरोना से ठीक हो चुके लोगों में इसका असर एक साल तक रहता है. मार्च 2020 से मार्च 2021 की बीच हुई स्टडी में पाया गया कि संक्रमण से ठीक हुए मरीजों को उससे पूरी तरह से उबरने में लंबा समय लगता है.

    82 प्रतिशत लोगों में शारीरिक थकान
    स्टडी के मुताबिक, कोरोना से ठीक होने के साल भर बाद भी 82 प्रतिशत लोगों में शारीरिक थकान की समस्या सामने आई. वहीं 67 प्रतिशत ऐसे थे जिन्हें ब्रेन फॉग (Brain Fog) की दिक्कत का सामना करना पड़ा. 60 प्रतिशत लोग ऐसे थे जिन्हें सिरदर्द की परेशानी आज भी रहती है. 59 फीसदी लोगों को नींद ना आने की समस्या यानी अनिद्रा (insomnia) और 54 प्रतिशत लोगों को एक साल तक नियमित रूप से चक्कर आने की समस्या रही.

    यह भी पढ़ें- जिंदगी में लक्ष्य निर्धारित हो तो याददाश्त भी बेहतर होती है – रिसर्च

    इस रिसर्च में सबसे पहले वास्तविक नुकसान और सिंड्रोम के प्रभाव का आंकलन किया गया. साथ ही उनक कारकों का भी गहन अध्ययन किया गया, जो इन लक्षणों को बढ़ाने का कारण बन सकते हैं.

    यह भी पढ़ें- क्या होता है ऑटोसेक्शुअल, कैसा होता है इसका सेक्शुअल रुझान, जानिए विस्तार से

    लॉन्ग कोविड मरीजों को 299 दिन अस्पताल में रहना पड़ा
    कोरोना से पीड़ित अमेरिका के ओरेगन प्रांत के एलेक्स कास्ट्रो को 299 दिन अस्पताल में रहना पड़ा. लॉन्ग कोविड के मरीज एलेक्स को इस दौरान 108 दिन तक लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया. आईसीयू की नर्स के मुताबिक एलेक्स ने इलाज के दौरान अपनी जीवटता (vitality) की वजह से महामारी को हराया है.

    Tags: Coronavirus, Health, Health News

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें