Lunar Eclipse 2020: पूर्णिमा के चांद के दुनियाभर में हैं कई नाम, क्या आप जानते हैं?

Lunar Eclipse 2020: पूर्णिमा के चांद के दुनियाभर में हैं कई नाम, क्या आप जानते हैं?
पूर्णमाशी के चांद के नाम

चंद्र ग्रहण २०२० (Chandra Grahan 2020/ Lunar Eclipse 2020): विश्व में अलग-अलग देशों में इसके नाम- बक मून, थंडर मून, हे मून, Mead Moon और रिप कॉर्न मून हैं...

  • Share this:
चंद्र ग्रहण २०२० (Chandra Grahan 2020/ Lunar Eclipse 2020): आज रात पूर्णिमा का चांद दिखेगा. कई देश आज चंद्र ग्रहण (Chandra Grahan) की अद्भुत खगोलीय घटना के गवाह भी बनेंगे. इसे सुपरमून (Super moon) कहा जा रहा है. हालांकि कई देशों में इसके कई अन्य नाम प्रचलित हैं. सनातन धर्म में इसका विशेष महत्व है और इसे गुरु पूर्णिमा (Guru Purnima) की तरह मनाया जाता है. गुरु पूर्णिमा (Guru Purnima 2020) को व्यास पूर्णिमा (Vyas Purnima 2020) भी कहते हैं. विश्व में अलग-अलग देशों में इसके नाम- बक मून, थंडर मून, हे मून, Mead Moon और रिप कॉर्न मून हैं. आइए जानते हैं कि पूर्णिमा के इस चांद के अलग-अलग नामों के पीछे क्या है दिलचस्प वजह...

थंडर मून:
गर्मी में कई बार बारिश और बिजली आसमान में कड़कती है. यही वजह है कि जुलाई में द्रस्तिगोचार होने वाले चांद को थंडर मून (Thunder Moon) कहा जाता है.

अमेरिका और यूरोप में है ये नाम:
अमेरिका और यूरोप में इसे बक मून (Buck Moon) कहते हैं. हालांकि इसके पीछे की वजह बेहद दिलचस्प है. वहां पर ग्रुप बनाकर खेतों में काम करने वाले लोग चांद के कई नाम रखा करते हैं. NASA ने एक ब्लॉग में लिखा है कि समर सीजन की शुरुआत में बक हिरणों के नए सींग 'एंटीलर्स' सिर से बाहर आते हैं. इसी वक्त के आस पास पूरे चांद को बक मून कहने की शुरुआत हुई.



हे मून :
जुलाई की पूर्णिमा के चांद को हे मून (Hay Moon) के नाम से भी जाना जाता है. यूरोपीय देशों में किसान जून और जुलाई में पशुओं का चारा (hay, हे )बनाते हैं. यही वजह है कि किसान जुलाई की पूर्णिमा के चांद को हे मून (Hay Moon) कहते हैं.

मीड मून:
यूरोप के कई देश ऐसे हैं जहां किसान जुलाई के महीने में शहद को सड़ाकर 'वाइन' बनाते हैं जिसे Mead कहा जाता है. यही कारण है कि जुलाई में पूर्णिमा के चांद को Mead Moon कहा जाता है. प्राचीन यूनानी सभ्यता में इस वाइन को 'देवताओं का अमृत' कहा जाता है.

रोज मून :
पूर्णिमा के इस चांद को रोज मून (Rose Moon) भी कहा जाता है. दरअसल, जून के मौसम में गुलाब के फूल खिलते हैं, यही वजह है कि इसे रोज मून (Rose Moon) कहते हैं. इसके अलावा कुछ लोगों का यह भी मानना है कि इस समय चांद का रंग गुलाब जैसा होता है. यही वजह है कि इसे रोज मून कहा जाता है.

रिप कॉर्न मून:
अमेरिका में इसे रिप कॉर्न मून (Rip Corn Moon) कहा जाता है क्योंकि जुलाई के माह में ही वहां के कई राज्यों के किसान अपने खेतों में मक्का की कटाई करते हैं .
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading