लाइव टीवी

Mahatma Gandhi Death Anniversary: सत्य परेशान हो सकता है. पराजित नहीं....

News18Hindi
Updated: January 30, 2020, 12:51 PM IST
Mahatma Gandhi Death Anniversary: सत्य परेशान हो सकता है. पराजित नहीं....
शहीद दिवस पर पढ़ें महात्मा गांधी के अनमोल विचार

महात्मा गांधी पुण्यतिथि, शहीद दिवस (Mahatma Gandhi Death Anniversary): आइए जानते हैं महात्मा गांधी के उन अनमोल विचारों के बारें में जिन्होंने दुनिया को एक नई राह दिखाई.....

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 30, 2020, 12:51 PM IST
  • Share this:
महात्मा गांधी पुण्यतिथि, शहीद दिवस (Mahatma Gandhi Death Anniversary):सत्य को लेकर महात्मा गांधी की निष्ठा का अंदाजा उनके इस कथन से लगाया जा सकता है कि एकबार गांधी जी ने ही कहा था कि- सत्य परेशान हो सकता है लेकिन पराजित नहीं. आज बापू यानी कि महात्मा गांधी की पुण्यतिथि है (Mahatma Gandhi Death Anniversary) जिसे कि शहीद दिवस (Martyrs' Day) के रूप में मनाया जाता है. फिल्म 'जागृति' का यह गाना महात्मा गांधी के जीवन की वास्तविकता को बयां करता है...

 दे दी हमें आज़ादी बिना खड्ग बिना ढाल

साबरमती के सन्त तूने कर दिया कमाल
आँधी में भी जलती रही गाँधी तेरी मशाल

साबरमती के सन्त तूने कर दिया कमाल
दे दी ...

धरती पे लड़ी तूने अजब ढंग की लड़ाईदागी न कहीं तोप न बंदूक चलाई
दुश्मन के किले पर भी न की तूने चढ़ाई
वाह रे फ़कीर खूब करामात दिखाई
चुटकी में दुश्मनों को दिया देश से निकाल
साबरमती के सन्त तूने कर दिया कमाल
दे दी ...
रघुपति राघव राजा राम

गांधी जी ने केवल सत्य, अहिंसा, असहयोग और अपने आदर्शों के दम पर ही महात्मा गांधी ने ब्रिटिश हुकूमत के खिलाफ लड़ाई में पूरे भारतवासियों को एक साथ खड़ा किया बल्कि बिना बंदूक, गोली और तोप के आजादी की लड़ाई जीती. उन्होंने छुआछूत, दलित वर्ग के साथ हो रहे जातीय शोषण के खिलाफ आवाज उठायी. उनके विचारों ने विश्व को काफी प्रेरित किया. गांधी जी के व्यक्तित्व में वो गजब का आकर्षण था कि उनकी एक आवाज पर लोग अपना सबकुछ न्योछावर करने को तैयार हो जाते थे. गांधी जी का मानना था कि सत्य में अकेले खड़े होने की हिम्मत होती है उसे किसी भीड़ की जरूरत नहीं होती है.

गांधीजी की युवावस्था की एक तस्वीर
गांधीजी की युवावस्था की एक तस्वीर


इस मौके पर आइए जानते हैं महात्मा गांधी के उन अनमोल विचारों के बारें में जिन्होंने दुनिया को एक नई राह दिखाई.....

1. अधभूखे राष्ट्र के पास न कोई धर्म, न कोई कला और न ही कोई संगठन हो सकता है.

2. व्यक्ति अपने विचारों के सिवाय कुछ नहीं है. वह जो सोचता है, वह बन जाता है.

3. हजारों लोगों द्वारा कुछ सैंकड़ों की हत्या करना बहादुरी नहीं है, ये कायरता से भी बदतर है, ये किसी भी राष्ट्रवाद और धर्म के विरुद्ध है.

4. कमजोर कभी क्षमाशील नहीं हो सकता है. क्षमाशीलता ताकतवर की निशानी है. ताकत शारीरिक शक्ति से नहीं आती है. यह अदम्य इच्छाशक्ति से आती है.

गाँधी जी के साथ नेताजी सुभाष चंद्र बोस की एक तस्वीर
गाँधी जी के साथ नेताजी सुभाष चंद्र बोस की एक तस्वीर


5. हम जो करते हैं और हम जो कर सकते हैं, इसके बीच का अंतर दुनिया की ज्यादातर समस्याओं के समाधान के लिए पर्याप्त होगा.

6. किसी देश की महानता और उसकी नैतिक उन्नति का अंदाजा हम वहां जानवरों के साथ होने वाले व्यवहार से लगा सकते हैं.

7. कोई कायर प्यार नहीं कर सकता है; यह तो बहादुर की निशानी है.

8. बापू ने कहा कि स्वास्थ्य ही असली संपत्ति है, न कि सोना और चांदी.

9. पहले वो आपको अनदेखा करेंगे, उसके बाद आप पर हँसेंगे, फिर वो आप से लड़ेंगे, और तब आप जीत जायेंगे.

10. अगर आप खुद को खोजना चाहते हैं तो सबसे बढ़िया तरीका है, आप दूसरों की सेवा में खुद को खो दो.

इसे भी पढ़ें: Republic Day 2020: कुर्ते से लेकर एक्सेसरीज तक ट्राई करें ये खास चीजें, खास बनेगा गणतंत्र दिवस

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ट्रेंड्स से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 30, 2020, 10:13 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर