Home /News /lifestyle /

मैट्रिमोनियल वेबसाइट Shaadi.com ने हटाया स्किन कलर फिल्टर ऑप्शन, आखिर क्यों उठाना पड़ा ये कदम

मैट्रिमोनियल वेबसाइट Shaadi.com ने हटाया स्किन कलर फिल्टर ऑप्शन, आखिर क्यों उठाना पड़ा ये कदम

एक मैट्रिमोनियल वेबसाइट (Matrimonial Website) ने यूजर्स से मिली खराब प्रतिक्रियाओं के बाद स्किन कलर फिल्टर (Skin Colour Filter) ऑप्शन को हटा दिया है.

एक मैट्रिमोनियल वेबसाइट (Matrimonial Website) ने यूजर्स से मिली खराब प्रतिक्रियाओं के बाद स्किन कलर फिल्टर (Skin Colour Filter) ऑप्शन को हटा दिया है.

एक मैट्रिमोनियल वेबसाइट (Matrimonial Website) ने यूजर्स से मिली खराब प्रतिक्रियाओं के बाद स्किन कलर फिल्टर (Skin Colour Filter) ऑप्शन को हटा दिया है.

    शादी के लिए जोड़िया बनाने वाली मैट्रिमोनियल वेबसाइट (Matrimonial Website) पर लड़का या लड़की की प्रोफाइल (Profile) को तैयार करने के लिए एक खास फॉर्म भरा जाता है. इस फॉर्म में कई तरह की चीजें भरनी पड़ती हैं जिनमें कलर टोन (Colour Tone) भी एक ऑप्शन है. एक मैट्रिमोनियल वेबसाइट ने यूजर्स से मिली खराब प्रतिक्रियाओं के बाद स्किन कलर फिल्टर (Skin Colour Filter) ऑप्शन को हटा दिया है. बीबीसी के अनुसार Shaadi.com नामक मैट्रिमोनियल वेबसाइट ने स्किन कलर फिल्टर ऑप्शन को हटा दिया है जिसका इस्तेमाल स्किन टोन के आधार पर पार्टनर (Partner) तलाशने के लिए किया जाता था. यूएस बेस्ड हेतल लखानी के इस ऑप्शन के खिलाफ ऑनलाइन याचिका (Online Petition) दायर करने के बाद ही ऐसा किया गया. वहीं इस पर मैट्रिमोनियल वेबसाइट की तरफ से बताया गया कि यह केवल एक प्रोडक्ट था जिसे हटाना भूल गए थे. इस फिल्टर को एड करने के पीछे उनका कोई खराब लक्ष्य नहीं था.

    दक्षिण एशियाई समुदायों में गोरी त्वचा को लेकर जुनून
    कॉम्प्लेक्शन फिल्टर को हटाने की बात तब शुरू हुई ब नस्लवाद और रंगों को लेकर मतभेद पर बहस शुरू हुई जिसके चलते कई बॉलीवुड सेलेब्रिटीज ने फेयरनेस क्रीम का विज्ञापन करना बंद कर दिया. सिर्फ इतना ही नहीं Johnson & Johnson कंपनी को भारत में त्वचा को निखारने या गोरा बनाने के प्रोडक्ट्स की ब्रिकी पर रोक लगाने के लिए मजबूर किया गया. हेतल लखानी ने अपनी ऑनलाइन याचिका में लिखा है कि दक्षिण एशियाई समुदायों में गोरी त्वचा को लेकर अभी भी काफी जुनून भर हुआ है. आपको बता दें कि इस याचिक पर 1600 हस्ताक्षर हुए हैं.

    कलर फिल्टर ऑप्शन मौजूद था
    हेतल ने लिखा है कि Shaadi.com मैट्रिमोनियल वेबसाइट पर एक कलर फिल्टर ऑप्शन मौजूद था जिसमें स्किन का कलर टाइप जैसे कि फेयर, गेहुंआ और डार्क पूछा जाता था और इसके आधार पर ही पार्टनर की तलाश की जाती थी. हेतल ने बताया कि उनकी डिमांड थी कि वेबसाइट से स्किन कलर फिल्टर वाले ऑप्शन को हमेशा के लिए हटा दिया जाए और इसके आधार पर पार्टनर की तलाश कर जोड़ियां न बनाई जाएं.

    स्किन कलर फिल्टर को लेकर एक ईमेल लिखा था
    इस याचिका का आइडिया हेतल लखानी को तब आया जब उन्होंने Shaadi.com का इस्तेमाल कर रहीं मेघन नागपाल का एक फेसबुक पोस्ट देखा. मेघन नागपाल ने बीबीसी से कहा कि उन्होंने वेबसाइट को इस स्किन कलर फिल्टर को लेकर एक ईमेल लिखा था जिसे लगभग हर पैरेंट्स अपने बच्चों के लिए इस्तेमाल करते हैं. फेसबुक पर कॉम्प्लेक्शन फिल्टर को लेकर शेयर किए गए पोस्ट को देखकर ही हेतल लखानी ने इस मुद्दे को बड़े प्लेटफॉर्म पर उठाने और याचिका की शुरुआत करने के बारे में सोची ताकि इसे हटाया जा सके.

    भारत में त्वचा के रंग को लेकर बहस होना कोई नई बात नहीं है
    हेतल लखानी ने कहा कि वह चाहती थीं कि इस मुद्दे को कुछ अलग तरीके से हैंडल किया जाए और इसीलिए याचिका दायर की गई. उन्होंने आगे कहा कि यह मुद्दा जंगल में लगे आग की तरह फैला और 14 घंटे के अंदर पेट्शन पर 1500 लोगों के हस्ताक्षर हो गए. लोगों ने इस मुद्दे को उठाए जाने को लेकर काफी खुशी जाहिर की. भारत में त्वचा के रंग को लेकर बहस होना कोई नई बात नहीं है. पिछले कई सालों से कई फेयरनेस क्रीम ने सुंदरता पर स्किन कलर को लेकर कई आलोचनाएं की हैं लेकिन ये मुद्दा स्पॉटलाइट में तब आया जब पिछले महीने George Floyd की मौत के बाद यूएस में anti-racism विरोध प्रदर्शन ने तूल पकड़ा था.

    Tags: Lifestyle, Relationship

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर