खसरा के मामलों में हुई है तीन गुना की बढ़ोत्तरी: WHO

News18Hindi
Updated: August 30, 2019, 10:21 AM IST
खसरा के मामलों में हुई है तीन गुना की बढ़ोत्तरी: WHO
खसरा

विश्व स्वास्थ्य संगठन खसरे को दुनियाभर से 2020 तक खत्म करना चाहता है. लेकिन उनका यह लक्ष्य पूरा होता नहीं दिख रहा

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 30, 2019, 10:21 AM IST
  • Share this:
अमेरिका को छोड़ दुनिया के हर हिस्से में 'खसरा' (measles) के मामलों में बढ़ोत्तरी देखी गई है. यूरोप के चार वैसे देश जिसे खसरा मुक्त करार दिया गया था, वहां भी इसके मामले सामने आने लगे हैं. इस ओर ध्यान दते हुए विश्व स्वास्थ्य संगठन WHO (डब्ल्यूएचओ) ने गुरुवार को यह चेतावनी दी कि प्रभावित देश अपने यहां टीका लगवाने के प्रयास में तेजी लाएं. खसरा बहुत ही खतरनाक बीमारी है. इसके शुरुआती संकेत शरीर में लाल चकत्ते का होना है. ये चकत्ते या निशान शरीर के अमूमन सभी हिस्से में होना शुरू हो जाते हैं. इसका वायरस अक्सर छींकने या खांसने से हवा में लार या बलगम के दवारा फैलता है. किसी संक्रमित व्यक्ति से काफी नजदीक होकर बात करने से भी यह फैल सकता है. यह बेहद ही संक्रामक बीमारी है. संक्रमण शुरू होने के करीब 14 दिन बाद मरीज को खांसी और बुखार आता है. इसके साथ ही बच्चों में न्यूमोनिया, डायरियाऔर इंफेक्शन होते हैं. इससे बचने का केवल एक उपाय - टीकाकरण है. विश्व स्वास्थ्य संगठन खसरे को दुनियाभर से 2020 तक खत्म करना चाहता है. लेकिन उनका यह लक्ष्य पूरा होता नहीं दिख रहा.

खसरा एवं जर्मन खसरा के उन्मूलन के लिए डब्ल्यूएचओ (WHO) के यूरोपीय क्षेत्रीय सत्यापन आयोग के प्रमुख गुंटर पाफ ने कहा,' खसरे का दोबारा संचारण चिंता का विषय है. अगर उच्च प्रतिरक्षा कवरेज नहीं हासिल किया गया और इसे सतत नहीं रखा गया तो बच्चे और व्यस्क दोनों बेवजह पीड़ा का सामना करेंगे और उनमें से कुछ की मौत हो जाएगी.' डब्ल्यूएचओ ने कहा कि 2019 में पहले छह महीने में यूरोप के 48 देशों में खसरा के 89,994 मामले सामने आए हैं जो कि 2018 के इस अवधि के हिसाब से दोगुना है. इस अवधि में पिछले साल 44,175 मामले सामने आए थे और पूरे साल 84,462 मामले सामने आए. 2018 के आंकड़ों के अनुसार ब्रिटेन, यूनान, चेक रिपब्लिक और अल्बानिया में अब इस बीमार को खत्म हो चुकी बीमारी के रूप में नहीं लिया जाता है.

खसरा को उस समय समूल नाश हुआ मान लिया जात है जब 12 महीनों तक उसका कोई संचार नहीं होता. इसका रोकथाम दो बार टीका लगाकर किया जा सकता है लेकिन डब्ल्यूएचओ ने हाल के महीनों में टीका लगाने की दर को लेकर आगाह किया है. दुनियाभर में इस साल एक जनवरी से 31 जुलाई तक पिछले साल के शुरुआती सात महीनों के आंकड़े 129,239 के मुकाबले संख्या में तीन गुणा ज्यादा बढ़ोतरी हुई. इस साल यह संख्या 364,808 तक पहुंच गई है. खसरा के सबसे ज्यादा मामले डीआर कांगो, मैडागास्कर और यूक्रेन में है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए वेलनेस से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 30, 2019, 10:21 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...