#कामकीबात: कौन सी बात अंतरंग क्षणों को ज्यादा यादगार बना सकती है?

काम की बात
काम की बात

कई बार सेक्स की लगाम स्त्रियां अपने हाथों में चाहती हैं. ऐसा होने पर उनकी प्रयोगधर्मिता और निखरकर सामने आती है. स्त्री साथी को पहल करने दें.

  • Share this:
प्रश्‍न: लगभग सारे पुरुषों को लगता है कि बिस्तर पर उनसे बेहतर कोई नहीं लेकिन जब बात इसकी आए कि बिस्तर पर औरतें क्या चाहती हैं, ज्यादातर पुरुष चुप साध जाते हैं. कैसे पता किया जाए कि अंतरंग पलों में महिला साथी को क्या संतुष्टि देता है?

डॉ. पारस शाह

#सेक्‍सोलॉजिस्‍ट डॉ.पारस शाह



उत्तर: ये सवाल आपकी अपने साथी की परवाह को बताता है, यहीं से रिश्ते की मजबूती की शुरुआत होती है. महिलाएं अक्सर संकोची स्वभाव की होती हैं, खासकर सेक्स के मामले में वे खुलकर अपनी इच्छा-अनिच्छा जाहिर नहीं करतीं. यही वजह है कि सेक्स के दौरान पुरुषों से कई मामूली गलतियां लगातार होती रहती हैं. इन गलतियों का दोहराव पार्टनर की आपसे इंटिमेट होने की इच्छा कम कर देता है. अनदेखी न हो तो इंटिमेट पल और भी यादगार हो सकते हैं.
लगभग सारे पुरुष अंतरंग होते हुए हावी होने की कोशिश करते हैं. उन्हें लगता है कि इससे उनका पौरुष दिखेगा जो स्त्री साथी को ज्यादा उत्तेजित करेगा. हमेशा ऐसा नहीं होता है. कई बार सेक्स की लगाम स्त्रियां अपने हाथों में चाहती हैं. ऐसा होने पर उनकी प्रयोगधर्मिता और निखरकर सामने आती है. स्त्री साथी को पहल करने दें और आप पाएंगे कि संबंधों में नयापन आ गया है.

दूसरी एक भूल है बेडरूम को सेक्स का पर्याय मान लेना. सेक्स की शुरुआत बिस्तर से ही नहीं होती. बेडरूम में जाने से पहले ही शुरुआत करें. जैसे किताब पढ़ते या खाना पकाते हुए. या किसी भी काम में साथी की मदद करते हुए. किसी रोज शाम को उसके लिए तोहफा लेकर आएं और साथ मिलकर कोई हल्की-फुल्की फिल्म देखें. इससे भी मन बनता है. हल्के-नाजुकों स्पर्शों से शुरुआत करें. स्त्रियों को प्राइवेट पार्ट्स के अलावा माथे, गालों और ठुड्डी पर प्रेमी का स्पर्श उत्तेजना से भर देता है.

बिस्तर पर इमोशनलेस रोबोट की तरह व्यवहार करना सेक्स में उसकी दिलचस्पी कम कर सकता है. इंटिमेट होते हुए बात करें. ठहाके लगाएं. उसकी किसी खूबी को सराहें. ये सारी बातें स्त्रियों को पसंद आती हैं. इन सबके साथ एक बात जो सबसे जरूरी है वो है इजाजत से करना. अगर आपका कोई एक्ट आपकी पार्टनर को अच्छा न लगे तो जोरदार प्रतिरोध का इंतजार न करें. वहीं रुक जाएं. इससे आपकी परवाह पता चलती है और साथी ज्यादा करीब आता है.

(डॉ. पारस शाह सानिध्‍य मल्‍टी स्‍पेशिएलिटी हॉस्पिटल, अहमदाबाद, गुजरात में चीफ कंसल्‍टेंट सेक्‍सोलॉजिस्‍ट हैं.)

अगर आपके मन में भी कोई सवाल या जिज्ञासा है तो आप इस पते पर हमें ईमेल भेज सकते हैं. डॉ. शाह आपके सभी सवालों का जवाब देंगे.

ईमेल – Ask.life@nw18.com

ये भी पढ़ें-

# काम की बात : मैंने पीरियड्स के समय सेक्‍स किया और मुझे इंफेक्‍शन हो गया
#काम की बात: क्‍या प्‍यूबिक हेयर हटाना जरूरी है?
#काम की बात: अपनी महिला साथी को कैसे संतुष्‍ट कर सकते हैं?
#काम की बात: क्‍या पीरियड्स के समय सेक्‍स करने से भी प्रेगनेंसी हो सकती है?
#काम की बात: क्या सेक्स के समय लड़कों को भी पीड़ा हो सकती है?
#काम की बात : क्‍या पहली बार सेक्‍स का अनुभव तकलीफदेह होता है?
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज