लाइव टीवी

क्या आपका बच्चा हो गया है Exam में फेल, देखें कहीं कर तो नहीं रहा ऐसा काम

News18Hindi
Updated: December 9, 2019, 9:43 AM IST
क्या आपका बच्चा हो गया है Exam में फेल, देखें कहीं कर तो नहीं रहा ऐसा काम
क्या आपका बच्चा हो क्या है Exam में फेल, देखें कहीं कर तो नहीं रहा ऐसा काम

शोधकर्ताओं ने पाया कि एक घंटे की लेक्चर के दौरान जिन छात्रों में पांच बार या उससे ज्यादा अपनी फोन की स्क्रीन में देखा उनकी परीक्षाओं के अंक में पांच फीसदी की कमी दर्ज की गई.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 9, 2019, 9:43 AM IST
  • Share this:
आजकल के समय में लोगों की जिदाही मनो मोबाइल फोन के इर्द गिर्द सिमट कर रह गई है. मोबाइल ने केवल रिश्तों को बल्कि लोगों की लाइफस्टाइल और महत्वपूर्ण चीजों को भी काफी प्रभावित कर रहा है. मोबाइल फोन की लत से यूनिवर्सिटी में पढ़ने वाले छात्रों को अच्छे अंक नहीं आ रहे और वे परीक्षाओं में फेल हो रहे हैं. एक हालिया शोध में यह खुलासा हुआ है. यूनिवर्सिटी ऑफ घेंट के 700 छात्रों के मोबाइल फोन प्रयोग करने की आदतों की निगरानी की गई और इसकी उनके परीक्षाओं के अंक से तुलना की गई.

इसे भी पढ़ें: ‘Sexiest Asian Men Of This Decade’ ऋतिक रोशन के ये स्टाइल आप भी कर सकते हैं कॉपी

शोधकर्ताओं ने पाया कि एक घंटे की लेक्चर के दौरान जिन छात्रों में पांच बार या उससे ज्यादा अपनी फोन की स्क्रीन में देखा उनकी परीक्षाओं के अंक में पांच फीसदी की कमी दर्ज की गई. उनके अंकों की तुलना उन छात्रों से की गई, जिन्होंने पढ़ाई के दौरान मोबाइल का इस्तेमाल नहीं किया. शोध में पाया गया कि जो छात्र पढ़ाई के दौरान आठ फीसदी समय तक फोन देखते थे उनके उत्तीर्ण होने की दर 60.6 फीसदी थी. वहीं, फोन न देखने वालों में यह दर 68.9% पाई गई.

इसे भी पढ़ें: Viral video: हेलीकॉप्टर से दूल्हे ने ली शादी में एंट्री, बारात में लुटाये गए लाखों रुपये

छात्रों को नुकसान जर्नल केकलॉस में प्रकाशित शोध में शोधकर्ताओं ने लिखा, शोध के लिए जिन 700 छात्रों का चयन किया गया था वे सभी नए छात्र थे. शोधकर्ताओं के अनुसार पढ़ाई के दौरान फोन पर ज्यादा व्यस्त रहने से उन छात्रों को सबसे ज्यादा नुकसान होता है जिनके पिता ज्यादा शिक्षित हैं.

(एजेंसी-भाषा)

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए वेलनेस से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 9, 2019, 8:54 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर