प्रेग्‍नेंसी में शराब पीने से हो सकती हैं ये 300 से ज्‍यादा बीमारियां, रिसर्च में हुआ खुलासा

शोध के मुताबिक गर्भावस्था के दौरान शराब पीने से बच्चे में 300 से ज्‍यादा रोगों की पहचान की गई है, जो बच्‍चे को हो सकती हैं.

News18Hindi
Updated: March 14, 2019, 3:09 PM IST
प्रेग्‍नेंसी में शराब पीने से हो सकती हैं ये 300 से ज्‍यादा बीमारियां, रिसर्च में हुआ खुलासा
प्रेग्‍नेंसी में शराब पीने से हो सकता है 300 से ज्‍यादा गंभीर बीमारियां, रिसर्च में हुआ खुलासा
News18Hindi
Updated: March 14, 2019, 3:09 PM IST
गर्भावास्‍था किसी भी महिला की जिंदगी का सबसे खूबसूरत पड़ाव है. मगर ये खुशी एक बड़ी जिम्‍मेदारी भी लेकर आती है. ऐसे में किसी तरह की जरा सी लापरवाही तमाम तरह की मुश्‍किलें पैदा कर सकती हैं. इसलिए कुछ बातों का ध्‍यान रखना जरूरी है. ऐसे में हम आपको बताने जा रहे हैं कि आपको इस दौरान शराब नहीं पीनी चाहिए. अगर कोई महिला इस दौरान शराब पीती है तो उनके बच्‍चे में 300 से ज्‍यादा बीमारियां उसको घेर सकती है.

ये बात एक रिसर्च में सामने आई है.  शोध के मुताबिक गर्भावस्था के दौरान शराब पीने से बच्चे में 428 तरह के रोगों के होने का खतरा हो सकता है. पत्रिका 'द लांसेट' में प्रकाशित एक अध्ययन के मुताबिक, गर्भावस्था में शराब पीने से शिशु को 'फीटल अल्कोहोल स्पेक्ट्रम डिसऑडर्स' (एफएएसडी) से संबंधित बिमारियां होने का खतरा होता है.

एफएएसडी ऐसी शारीरिक अक्षमताएं हैं जो जन्म से पूर्व अल्कोहोल के प्रभाव में आने के कारण होती हैं. टोरोंटो स्थित 'सेंटर फॉर एडिक्शन एंड मेंटल हेल्थ' के प्रमुख शोधकर्ता लाना पोपोवा के मुताबिक, "हमने एफएएसडी के साथ होने वाली कई बीमारियों का पता लगाया है. शोध से साबित हुआ है कि गर्भावस्था के किसी भी चरण में, किसी भी मात्रा या प्रकार के शराब का सेवन सुरक्षित नहीं है और यह विकसित होते भ्रूण के किसी भी अंग या अंग प्रणाली को प्रभावित कर सकता है."ंं



यह भी पढ़ें: एक्सट्रा मैरिटल अफेयर में लोगों को मिलती है खुशी, शोध में हुआ खुलासा   

एफएएसडी की गंभीरता और लक्षण कई बातों पर निर्भर करती है, जैसे कि शराब का सेवन कितना और कब किया गया, मां के जीवन में तनाव का स्तर, पोषण और पर्यावरणीय प्रभाव किस प्रकार का रहा? साथ ही यह मां और शिशु के शरीर में शराब के रसायनिक विभाजन की क्षमता पर भी निर्भर करता है.

127 अध्ययनों के बाद 428 रोगों की पहचान की गईं और पाया गया कि ये केंद्रीय तंत्रिका तंत्र (मस्तिष्क), दृष्टि, श्रवण, हृदय, रक्त, पाचन और श्वसन प्रणाली समेत शरीर की लगभग हर प्रणाली को प्रभावित कर सकती हैं.

पोपोवा ने कहा कि अगर आप स्वस्थ शिशु चाहते हैं तो गर्भाधान की योजना बनाने की अवधि से लेकर संपूर्ण गर्भावस्था में शराब से बिल्कुल दूर रहें.
Loading...

 

 

 
Loading...

और भी देखें

पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...