मां है आपकी दुनिया, इस खूबसूरत रिश्‍ते को चाहिए कुछ बदलाव

मां अपने बच्‍चों से बस अपनेपन का एहसास चाहती है. Image Credit/Pexels Andrea-Piacquadio
मां अपने बच्‍चों से बस अपनेपन का एहसास चाहती है. Image Credit/Pexels Andrea-Piacquadio

मां (Mother) अपने बच्‍चों की सेहत (Health) से लेकर उनकी पसंद, नापसंद का ख्‍याल रखती है और उनके उज्‍जवल भविष्‍य (Future) के लिए काफी कुछ करती है. यही वजह है कि इस रिश्‍ते (Relations) को अलग ही अहमियत हासिल है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 22, 2020, 10:44 AM IST
  • Share this:
मां (Mother) अपने बच्‍चों की परवरिश में अपने जीवन का अहम हिस्‍सा लगा देती है, ताकि उसके बच्‍चे बेहतर भविष्‍य (Future) पाएं. एक मां अपने बच्‍चों की सेहत (Health) से लेकर उनकी पसंद, नापसंद का ख्‍याल रखती हैं और उनके उज्‍जवल भविष्‍य के लिए काफी कुछ करती है. यही वजह है कि इस रिश्‍ते (Relations) को अलग ही अहमियत हासिल है. मगर आज के बदलते लाइफस्‍टाइल (Lifestyle) में क्‍या बच्‍चे अपनी मां के लिए वह सब कुछ कर पा रहे हैं जो उन्‍हें करना चाहिए? मां बच्‍चों से ज्‍यादा कुछ नहीं चाहती. बस इतना ही चाहती है कि उसके बच्‍चे उसको अपनेपन का एहसास कराते रहें. इसलिए बच्‍चों को भी छोटी छोटी बातों का ध्‍यान रखना चाहिए, ताकि मां को एहसास हो कि उनकी हमारे जीवन में क्‍या अहमियत है.

आपको अपने बिजी दिन में से कुछ समय जरूर निकालना चाहिए. इस समय में पूरा परिवार मां के पास बैठे, ताकि आप अपनी मां के साथ कुछ पल बिता सकें. परिवार को एक साथ बैठे देख कर मां का दिल वैसे भी बाग बाग हो जाएगा फिर आप उनकी सुनेंगे तो वह दिल से खुशी महसूस करेंगी.

ये भी पढ़ें - घर से दूर रहने के दौरान भाई-बहन ऐसे रखें अपने रिश्‍ते को मजबूत



आज के समय में जब बच्‍चे दूर होते हैं, तो पैरेंट्स को सबसे बड़ी दिक्‍कत यह आती है कि वे अपने बच्‍चों से कैसे जुड़ें, उनसे बात करें. उनके लिए मोबाइल, इंटरनेट, वीडियो कॉल नए हैं. ऐसे में आप उन्‍हें खाली समय में इन चीजों को इस्‍तेमाल करना सिखा सकते हैं. इससे जहां उनका खाली समय इनसे सहारे बीतेगा, वहीं इनके जरिये आपसे कनेक्‍ट होने में भी सहूलियत महसूस होगी.
हर दिन मां हमारा ख्‍याल रखती हैं, कम से कम एक दिन ऐसा भी हो कि बच्‍चे अपनी मां का ध्‍यान रखें. उनके काम में हाथ बंटाएं. उनके साथ बीते समय की यादें ताजा करके भी इस समय को खुशगवार बना सकते हैं.

बच्चों को अपनी मां का पूरा ध्‍यान रखना चाहिए. वे उन पर ध्यान केंद्रित करेंगे तो उन्‍हें भी एहसास होगा कि बच्‍चे उनकी भी पूरी परवाह करते हैं, उनका ख्‍याल रखते हैं. इससे उन्‍हें जो सुकून मिलेगा वह अलग ही होगा.

मां के साथ हमारे बचपन की खूबसूरत यादें जुड़ी होती हैं. जब समय मिले तो अपनी मां के साथ इन यादों को ताजा करके समय को खुशी से बिता सकते हैं. बचपन की यादें ताजा करने से मां को जहां खुशी होगी वहीं उनको आपके बचपन की शरारतें हंसाएंगी भी.

ये भी पढ़ें - Long Distance Relationship: दूर रह कर भी रिश्‍तों में रहेगी मिठास, फॉलो करें ये टिप्‍स

मां बच्‍चों की पहली गुरु होती हैं. उनके दिए हुए संस्‍कार, उनकी दी हुई सीख को अपने जीवन में उतारें. इससे मां को फख्र का एहसास होगा और यह संतुष्टि भी कि उनके बच्‍चे उनके दिए हुए संस्‍कार को अपने जीवन में उतार रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज