कोरोना के डर से मां बंद न करें ब्रेस्टफीडिंग, बढ़ सकता है बच्चे की मौत का खतरा

कोरोना के डर से मां बंद न करें ब्रेस्टफीडिंग, बढ़ सकता है बच्चे की मौत का खतरा
वायरस के डर से ब्रेस्टफीडिंग रोकने की कोई जरूरत नहीं है. अब तक ब्रेस्ट मिल्क के जरिए वायरस फैलने का एक भी मामला सामने नहीं आया है.

दुनियाभर के 54.88 लाख से ज्यादा लोग कोविड-19 (Covid-19) से संक्रमित हो चुके हैं. वायरस ने बच्चों को ब्रेस्टफीडिंग (Breastfeeding) कराने वाली उनकी मां के मन में भी एक डर पैदा कर दिया है.

  • Share this:
दुनियाभर के 54.88 लाख से ज्यादा लोग कोविड-19 (Covid-19) से संक्रमित हो चुके हैं. वायरस ने बच्चों को ब्रेस्टफीडिंग (Breastfeeding) कराने वाली उनकी मां के मन में भी एक डर पैदा कर दिया है. मां को डर है कि कहीं ब्रेस्टफीडिंग कराने से नवजात (Infant) पर संक्रमण का खतरा न मंडरा रहा हो.

ब्रेस्टफीडिंग रोकने की कोई जरूरत नहीं
इसी डर से कई देशों में बच्चों को जन्म लेते ही मां से अलग कर दिया जा रहा है. वहीं इस बात का फायदा दूध का सबस्टिट्यूट बनाने वाली कंपनियां उठा रही हैं. दैनिक भास्कर की खबर के अनुसार इन सब के बीच एक राहत देने वाली खबर आई है. खासकर उन मांओं के लिए जो चाहकर भी वायरस के डर से अपने बच्चे को ब्रेस्टफीडिंग नहीं करा पा रही हैं.

एक रिपोर्ट के मुताबिक, वायरस के डर से ब्रेस्टफीडिंग रोकने की कोई जरूरत नहीं है. अब तक ब्रेस्ट मिल्क के जरिए वायरस फैलने का एक भी मामला सामने नहीं आया है. यहां तक कि जो मां कोविड-19 से संक्रमित हैं, या जिनमें इसके लक्षण हैं, वह भी बच्चे को आराम से ब्रेस्टफीडिंग करा सकती हैं.



ब्रेस्टफीडिंग के महत्व को लेकर जागरूकता की कमी


यह रिपोर्ट वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (WHO), यूनाइटेड नेशंस चिल्ड्रंस फंड (UNICEF) और इंटरनेशनल बेबी फूड एक्शन नेटवर्क (IBFAN) ने जारी की है. रिपोर्ट के अनुसार जिन बच्चों को ब्रेस्टफीडिंग नहीं कराई जाती, उनकी मौत का खतरा ब्रेस्टफीडिंग करने वाले बच्चों की तुलना में 14 फीसदी बढ़ जाता है. ऐसे में वायरस के डर से बच्चों को ब्रेस्टफीडिंग न कराना उनके लिए खतरनाक साबित हो सकता है.

दुनियाभर में ब्रेस्टफीडिंग के महत्व को लेकर जागरुकता की बहुत कमी है. WHO की रिपोर्ट के अनुसार, दुनिया में 6 माह तक के केवल 41% बच्चों को ही ब्रेस्टफीडिंग कराई जाती है. डब्ल्यूएचओ के सभी सदस्य देशों ने इस आंकड़े को 2025 तक 50 फीसदी करने का लक्ष्य रखा है.

कोरोना महामारी के बीच ब्रेस्टफीडिंग कराते समय मां बरतें ये सावधानियां:-

>>बच्चे को छूने से पहले अपने हाथ साबुन या अल्कोहल बेस्ड हैंड सैनिटाइजर से धोएं.

>>बच्चे को गोद में लेकर ब्रेस्टफीडिंग कराते समय मास्क लगाकर रखें.

>>खांसी या कफ होने पर अपने साथ टिश्यू रखें.

>>टिश्यू का इस्तेमाल करते ही इसे डिस्पोज करके दोबारा हाथ धोएं.

ये भी पढ़ें:- कोरोना वायरस: देश के 29 राज्यों में 33 हजार केस, मुंबई में अकेले 35 हजार संक्रमित

लॉकडाउन: लाइफस्टाइल में बदलाव से हो रहा मूड स्विंग, ऐसे दूर होगी समस्या
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading