• Home
  • »
  • News
  • »
  • lifestyle
  • »
  • Motivational Story: स्वामी विवेकानंद का प्रेरक प्रसंग 'लक्ष्य पर ध्यान'

Motivational Story: स्वामी विवेकानंद का प्रेरक प्रसंग 'लक्ष्य पर ध्यान'

स्वामी विवेकानंद.

स्वामी विवेकानंद.

Motivational Story: किसी भी काम को सच्चे मन और लगन के साथ लक्ष्य (Goal) निर्धारित करके करना चाहिए. तभी आप उस काम में सफल (Success) हो सकते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    Motivational Story: महापुरुषों और संतों के प्रेरक प्रसंग हमें सही और गलत की शिक्षा देते हैं. साथ ही सही मार्ग पर चलने के लिए प्रेरित भी करते हैं. इतना ही नहीं ये प्रेरक प्रसंग हमें इस बात की सीख भी देते हैं, कि हमें सफल होने के लिए कब क्या और कैसे करना है. स्वामी विवेकानंद के ऐसे ही एक प्रेरक प्रसंग के बारे में आज हम आपको बताते हैं.

    ये भी पढ़ें: छुआछूत का भेद-भाव मिटाने से ही दिल पर पड़ेगा ईश्वर के प्रकाश का प्रतिबिम्ब : रामकृष्ण परमहंस

     प्रेरक प्रसंग- लक्ष्य पर ध्यान

     

    ये उस समय की बात है जब स्वामी विवेकानंद अमेरिका में थे. एक बार वे भ्रमण पर निकले. एक नदी के पास से गुजरते हुए उन्होंने कुछ लड़कों को देखा. वे सभी पुल पर खड़े थे और वहां से नदी के पानी में बहते हुए अंडों के छिलकों पर, बंदूक से निशाना लगाने का प्रयास कर रहे थे. लेकिन किसी भी लड़के का एक भी निशाना सही नहीं लग रहा था. यह देख वे उन लड़कों के पास गए और उनसे बंदूक लेकर खुद निशाना लगाने लगे. उन्होंने पहला निशाना लगाया. वो सीधे जाकर अंडो के छिलकों पर लगा. फिर उन्होंने दूसरा निशाना लगाया, वो भी सटीक लगा. फिर एक के बाद एक उन्होंने बारह निशाने लगाये. सभी निशाने बिल्कुल सही जगह जाकर लगे.

    यह देख वे सभी लड़के आश्चर्यचकित रह गए. उन्होंने स्वामी जी से पूछा, “स्वामी जी, आप इतना सटीक निशाना कैसे लगा पाते हैं ? भला कैसे कर पाते हैं आप ये?” इस पर स्वामी विवेकानन्द ने उत्तर दिया, “असंभव कुछ भी नहीं है. तुम जो भी काम कर रहे हो, अपना दिमाग पूरी तरह से बस उसी एक काम में लगा दो. यदि पाठ पढ़ रहे हो, तो सिर्फ पाठ के बारे में सोचो. यदि निशाना साध रहे हो, तो अपना पूरा ध्यान लक्ष्य पर रखो. इस तरह तुम कभी नहीं चूकोगे.”

    ये भी पढ़ें: अपने दुखों की वजह आप खुद न बनें- गौतम बुद्ध

    ये शिक्षा मिलती है

    स्वामी विवेकानन्द के इस प्रेरक प्रसंग से ये शिक्षा मिलती है कि कोई भी काम करना मुश्किल नहीं है. लेकिन इसके लिए ज़रूरी है कि आप जो भी काम करें, उसको सच्चे मन और लगन के साथ लक्ष्य निर्धारित करके करना चाहिए. तभी आप उस काम में सफल हो सकते हैं. वरना आप उस काम को करने में अपना समय और मेहनत खराब करते रहेंगे और वो पूरा नहीं होगा.

     साभार-ज़िन्दगी गुलज़ार 

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज