• Home
  • »
  • News
  • »
  • lifestyle
  • »
  • N 95 FACE MASK TO PROTECT 98 FROM CORONA INFECTION CLAIMS STUDY DLNK

स्‍टडी में दावा, कोरोना इंफेक्‍शन से 98 फीसदी तक बचाएगा एन-95 फेस मास्क

एक स्‍टडी के मुताबि‍क एन-95 मास्क कोरोना वायरस से लड़ने में सक्षम है.

कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी ( University of California) के एक अध्ययन के मुताबिक एन- 95 फेस मास्क (N95 Face Mask), सर्जिकल मास्क की तुलना में ज्यादा बेहतर है, क्योंकि यह लगभग 98 फीसदी तक बाहर से अंदर फैलने वाले जीवाणु संक्रमण (Bacterial Infection) को रोकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:
    कोरोना वायरस (Corona virus) से बचाव के लिए देश में मास्क (Face Mask) का एक नया बाजार खड़ा हो गया है. लोग सुरक्षा के लिहाज से कपड़े के मास्क, घर में बनाए गए मास्क और बाजारों में बिकने वाले सर्जिकल और एन-95 जैसे कई मास्क लगा रहे हैं. अब मास्क को लेकर हुए एक अध्ययन में पाया गया है कि एन-95 मास्क (N-95 Mask) कोरोना वायरस से बचाव के साथ-साथ स्वास्थ्य के लिहाज से भी बहुत प्रभावशाली है.

    95 फीसदी छोटे कणों को रोकना है
    कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी ( University of California) के एक अध्ययन के मुताबिक एन- 95 फेस मास्क, सर्जिकल मास्क की तुलना में ज्यादा बेहतर है, क्योंकि यह लगभग 98 फीसदी तक बाहर से अंदर तक फैलने वाले जीवाणु संक्रमण (Bacterial Infection) को रोकने में सक्षम है. इस मास्क की अन्य विशेषताओं में इसका अच्छी तरह से फिट होना और हवा में मौजूद 95 फीसदी छोटे कणों को शरीर में घुसने से रोकना शामिल है. सबसे अहम बात यह है कि एन-95 मास्क ज्यादा समय तक चलता है और कोरोना वायरस के आतंक से बचाने में मददगार साबित हो सकता है. अध्ययन में बताया गया है कि जो लोग कोरोनावायरस से बचने के लिए मुंह पर कपड़ा लपेट रहे हैं उससे हवा में फाइबर की मात्रा बढ़ रही है.

    ये भी पढ़ें - वर्किंग वुमन घर-बाहर की ज़िम्मेदारियों के बीच ऐसे रखें खुद का ख्याल, रहेंगी फिट

    रोकथाम के लिए मास्क जरूरी
    इधर, विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organization) की गाइडलाइन के मुताबिक कोरोना वायरस से बचाव में एन-95 मास्क को सबसे सुरक्षित बताया गया है. इसके साथ ही थ्री प्लाई मास्क को भी संगठन ने बेहतर माना है. एन-95 और थ्री प्लाई दोनों ही डिस्पोजेबल मास्क हैं. कोरोना वायरस से बचने के लिए कई देश सार्वजनिक स्थानों पर मास्क के उपयोग को अनिवार्य कर चुके हैं. अमेरिका में रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (CDC) और भारत के आयुष मंत्रालय का सुझाव है कि कोविड-19 के खिलाफ रोकथाम में मास्क सबसे जरूरी है.

    ये भी पढ़ें -Irritable Bowel Syndrome: जानिए क्‍या है इरिटेबल बाउल सिंड्रोम, कैसे मिलेगी इस दर्द से राहत

    बता दें कि फेस मास्क (Facemask) संक्रमित लोगों के खांसने, छींकने और बोलने के दौरान मुंह से निकलने वाले कणों को न केवल आप तक पहुंचने से रोकता है, बल्कि हवा में मौजूद कण (Aerosols) को सांस के जरिए अंदर जाने से रोकने में भी मदद करता है. गौरतलब है कि महामारी शुरू होने के बाद से ही कई तरह के मास्क की प्रभावशीलता को लेकर परीक्षण किया जा रहा है.
    Published by:Naaz Khan
    First published: